मधुमेह और दिल की बीमारियों को दूर करता है अलसी का बीज

By: Shakeel Jamshedpuri
Subscribe to Boldsky

खाने के प्रति लोगों के बढ़ते झुकाव और स्वस्थ रहने की ललक के बीच इस बात पर काफी बहस होती है कि अलसी के बीज को आहार में शामिल करना चाहिए या नहीं। यह छोटा, भूरा और चिपटा बीज पौष्टिक तत्वों से भरा होता है और आज के समय की कई लाइफस्टाइल बीमारियों को दूर कर सकता है। अलसी से शरीर को होने वाले फायदे

अलसी के बीज में ओमेगा—3 फैटी एसिड, लिगनन, एंटीआक्सीडेंट, एस्ट्रोजन और फाइबर बड़ी मात्रा में पाया जाता है। यही वजह है​ कि इसे सेहत के लिए काफी अच्छा माना गया है। आइए हम ऐसे बीमारियों के बारे में जानते हैं, जिन्हें दूर करने में अलसी का बीज सक्षम होता है।

1. मधुमेह

1. मधुमेह

अलसी के बीच में पाया जाने वाला लिगनन टाइप-2 मधुमेह में ब्लड सुगर लेवल को बेहतर बनाने के लिए जाना जाता है। अलसी के बीज के नियमित सेवन से लंबे समय तक ब्लड सुगर लेवल को सामान्य रखा जा सकता है।

2. दिल की बीमारी

2. दिल की बीमारी

अलसी के बीज में पाए जाने वाले एंटीआक्सीडेंट में एंटी-इंफ्लामैटॉरी का गुण पाया जाता है, जिससे दिल को काफी फायदा पहुंचता है। इसके अलावा ये एंटीआक्सीडेंट ब्लड प्रेशर को कम करता है और हृदय गति को सामान्य रखता है। साथ ही अलसी का बीज अर्टरी में प्लैक को जमने से रोकता है, जिससे अर्टरी सख्त नहीं पड़ती है। इतना ही नहीं इससे एलडीएल यानी खराब कोलेस्टेरोल का स्तर भी नहीं बढ़ता है और मधुमेह, मोटापा और हृदय रोग की स्थिति नहीं बनती है।

3. कैंसर

3. कैंसर

अलसी के बीज में पाए जाने वाले एंटीआक्सीडेंट और ओमेगा 3 फैटी एसिड ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोन कैंसर से हमें बचाता है। अलसी के बीज का लिगनन हार्मोन के प्रति संवेदनशील ट्यूमर से हमें बचाता है।

4. सूजन और जलन

4. सूजन और जलन

अलसी के बीज में मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड और लिगनन एएलए (अल्फा-लिनोलेनिक एसिड) के साथ मिलकर शरीर में जलन और सूजन से राहत पहुंचाता है। यह शरीर से इंफ्लामैटॉरी एजेंट को बाहर नहीं निकलने देता है। यह गठिया रोग और पार्किंसन डिजीज में काफी फायदेमंद होता है।

5. हॉट फ्लैश

5. हॉट फ्लैश

हॉट फ्लैश की समस्या आमतौर पर मेनपाउजल महिलाओं में होती है। अपने आहार में एक चम्मच अलसी के बीज को शामिल करके इसे कम किया जा सकता है। एक शोध से यह बात सामने आई कि अलसी के बीज का सेवन करने से महिलाओं में हॉट फ्लैश की समस्या में 57 प्रतिशत तक की कमी आ गई। ऐसा माना जाता है कि अलसी के बीज में मौजूद एंटीआक्सीडेंट हार्मोन के असंतुलन को दुरुस्त करता है, जिससे हॉट फ्लैश में कमी आती है। मेनपाउजल से छुटकारा पाने के लिए नीचे लिखी बातों पर जरूर अमल करें।

6. अच्छे परिणाम के लिए

6. अच्छे परिणाम के लिए

अच्छे परिणाम के लिए हर दिन सुबह खाली पेट अलसी के बीज का पाउडर लें। साथ ही आप इसे एनर्जी ड्रिंक और जूस में भी मिला सकते हैं। अगर आप इसे खाने में शामिल करना चाहते हैं तो भोजन पर एक चम्मच अलसी के बीज का पाउडर छिड़क दें। इस बात का ध्यान रखें कि आप पाउडर को सीधे गर्म तेल में न डालें। इससे आपके भोजन में असमान्य सा स्वाद आ जाएगा। साथ ही ज्यादा गर्मी से अलसी के बीज से होने वाला लाभ भी कम हो जाएगा। ध्यान रहे, किसी भी चीज की अति हमेशा क्षति का कारण बन जाता है। अलसी के बीज के साथ भी ऐसा ही है। विशेषज्ञ कहते हैं कि एक दिन में दो चम्मच से ज्यादा अलसी के बीज का सेवन नहीं करना चाहिए।

Story first published: Saturday, March 22, 2014, 10:03 [IST]
English summary

How flaxseeds can help control diabetes, heart disease

With the increasing emphasis on eating and living healthy, there has been a lot of talk about including flaxseed into one’s diet. This tiny, brownish, flat seed is packed with nutrients and could help eradicate a number of lifestyle diseases that are on the rise these days.
Please Wait while comments are loading...