दूध से होने वाली एलर्जी के लिए 10 घरेलू उपचार

Subscribe to Boldsky

हम अपने शारीरिक बल को बढ़ाने के लिए दूध का सेवन करते हैं। लेकिन दूध से होने वाली एलर्जी के कारण कुछ लोगों का शारीरिक बल बढने के बजाय घट जाता है। अतः वे बीमार पड जाते हैं। कुछ लोग दूध में मौजूद लैक्टोज शुगर को पचा नहीं पाते हैं तथा वे लैक्टोज इंटौल्रेंस का शिकार हो जाते हैं। जिस वजह से उन्हें गैस, उल्टी व दस्त जैसी समस्याओं का सामना करना पडता है।

कुछ लोगों को दूध में मौजूद प्रोटीन से एलर्जी होती है। ऐसी स्थिति में व्यक्ति का शरीर इस प्रोटीन को पहचान नहीं पाता है तथा रिएक्ट करने लगता है। गंभीर स्थितियों में व्यक्ति को पित्ती, खांसी, त्वचा पर लाल चकत्ते, बेहोशी या घरघराहट महसूस होती है। गंभीर स्थितियों में दूध ना पीने में ही समझदारी है।

READ: क्‍या आप जानते हैं दूध पीने के भी हो सकते हैं गंभीर परिणाम

हालांकि लैक्टोज इंटौल्रेंस से पीडित मरीज कुछ घरेलू उपचार की मदद से इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। अतः आज बोल्डस्काई इन्ही घरेलू उपचारों को आपके साथ साझा करेंगा।

1 शहद

कई बीमारियों के उपचार में शहद का इस्तेमाल किया जाता है। इस में मौजूद उपचारक गुणों के कारण इसे दूध से होने वाली एलर्जी को ठीक करने के लिए भी लिया जा सकता है। अतः हर रोज नाश्ते से पहले शहद का एक चम्मच पिएं।

2 अदरक

इस अनेक फायदों वाले अदरक का इस्तेमाल दूध से होने वाली एलर्जी को ठीक करने के लिए किया जा सकता है। अदरक दूध में मौजूद प्रोटीन को पचाने में मदद करता है। इसके अलावा, यह हिस्टामिन के स्तर को घटाता है जोकि एलर्जी का मुख्य कारण है।

3 गाजर का जूस

गाजर के रस में ककडी, अनार व चुकंदर के रस को मिलाएं और रोज सुबह इस रस का सेवन करें। यह रस दूध व अन्य खाद्य पदार्थों से होने वाली एलर्जी से लड़ने की शक्ति देता है तथा आपको एलर्जी से निजात पाने में मदद करता है।

4 हल्दी

हल्दी में मौजूद प्रज्वलनरोधी गुण दूध से होने वाली एलर्जी से राहत दिलते हैं। हल्दी, दूध से होने वाली एलर्जी से छुटकारा पाने का सबसे अच्छा घरेलू उपचार है। हल्दी से होने वाले लाभों को पाने के लिए भोजन में इसकी मात्रा को बढ़ाएं।

5 कैल्शियम एवं मैग्नीशियम

कैल्शियम एवं मैग्नीशियम से युक्त आहारों के सेवन को बढ़ाएं। इसके लिए आप अंडा, केला, ताजा सब्जियों को खाएं। कैल्शियम व मैग्नीशियम से समृद्ध आहार तंत्रिक तंत्र को शांत करते हैं एवं प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता को बढ़ाते हैं।

 

6 विटामिन ई एवं सेलेनियम

एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करने वाले ये तत्व आपके शरीर से मुक्त कणों को मिटा देते हैं। एलर्जी के लक्षणों को काबू में करने के लिए हर रोज इनका सेवन 50 से 100 माइक्रोग्राम में करें।

7 कम मात्रा में दूध पिएं

हर रोज कम मात्रा में दूध व दूध से बनें वाले अन्य पदार्थों का सेवन करें। इस तरह एलर्जी के लक्षणों की तीव्रता भी कम होगी तथा धीरे-धीरे आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली इन से लड़ने के लिए तैयार होती जाएगी। इस तरीके को लंबे समय के लिए जारी रखने पर आपको एलर्जी से छुटकारा मिल सकता है। परंतु ये सब चिकित्सक की देखरेख के अंतर्गत होना चाहिए।

8 लेबल को पढ़ें

अगर आप एलर्जी से परेशान हैं तो डिब्बा बंद चीजों को खरीदने से पहले उसके ऊपर मौजूद लेबल को अच्छे से जांचे। अक्सर डिब्बे में आने वाली चीजों में कुछ मात्रा में दूध मौजूद होता है। अतः समस्या से बचने के लिए लेबल पर गौर करना आवश्यक हो जाता है।

9 लैक्टेज एनजाइम की गोलियों का या ड्रॉप्स का सेवन करें

जो लोग दूध में मौजूद लैक्टेज को नहीं पचा पाते हैं वे एलर्जी का शिकार हो जाते हैं। पाचन क्षमता को बढ़ाने के लिए आप लैक्टेज एनजाइम का सेवन कर सकते हैं। इन एनजाइम का सेवन खाने से पहले या दूध पीने से पहले करें।

 

10 विटामिन सी

एलर्जी का प्रमुख कारण है हिस्टामिन। विटामिन सी में मौजूद एंटी-एलर्जी गुण हिस्टामिन को घटाते हैं तथा आपको एलर्जी के लक्षणों से राहत दिलाते हैं। इसके लिए आप विटामिन की खुराके ले सकते हैं या नारंगी, टमाटर या नींबू का सेवन कर सकते हैं

 


तुलना कर के खरीदें उत्तम स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों

Story first published: Monday, March 2, 2015, 10:02 [IST]
Please Wait while comments are loading...