मॉनसून में रहता है यूरीन इंफेक्‍शन का खतरा

By: डा. भीम सेन बंसल
Subscribe to Boldsky

Dr Bhimsen Bansal
मॉनसून सभी के लिए एक त्योहार की तरह है। भीषण गर्मी के बाद, हर कोई बारिश के पानी के रूप में राहत के लिए इंतजार करता है। लेकिन इस एनर्जी से भरपूर मौसम में ही कई स्वास्थ्य से जुड़ी दिक्क्तें भी हो जाती है। मुख्य रूप से ये तापमान में आए बदलाव की वजह से होती है जिनसे बॉडी की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है और रोग आसानी से पकड़ लेते है।

इसके अलावा, गर्म और ह्यूमिड परिस्थितियों के कारण बैक्टीरिया आदि भी काफी तादात में पनपते है। मूत्र पथ संक्रमण (यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन यूटी आई) मूत्र प्रणाली में जीवाणु संक्रमण है। इस क्षेत्र के आस पास मौजूद बैक्टीरिया मॉनसून में काफी तेजी से पनप सकते हैं जिससे कि इंफेक्शन का खतरा हो सकता है। यह महिलाओं और पुरुषों दोनो को हो सकता है। हालांकि, ये महिलाओं में आम है। ऐसा इसलिए होता है यह है क्योंकि महिलाओं का मूत्र पथ पुरुषों में की तुलना में कम होता है। महिलाओं आवर्तक संक्रमण की शिकायत नहीं है।

मूत्र पथ संक्रमण के लक्षण आम और आसानी से पहचानने योग्य हैं। इनमें पेशाब के दौरान दर्द, बार-बार पेशाब लगना, पेशाब के दौरान जलन, बुखार, मतली और लोअर बैक में दर्द शामिल हैं। मूत्र पथ के संक्रमण वाले व्यक्ति को अच्छी खासी परेशानी हो सकती है।

अगर कोई व्यक्ति यूटीआई से संक्रमित हो जाता है, तो उसे ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है। यह यूरीन कल्चर के माध्यम से पता लगाया जाता है और आसानी से एंटीबायोटिक दवाओं से इसका इलाज होता है। मूत्र पथ संक्रमण की रोकथाम निश्चित रूप से कुछ उपायों द्वारा संभव है। एक इस तरह के संक्रमण के दौरान खूब पानी, जूस, सूप, पीना चाहिए। इससे मूत्र प्रवाह बढ़ाता है और किसी भी संक्रमण संकुचन की संभावना कम होती है। इसके अलावा, मूत्र का करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए और जब आए तब ही कर लेना चाहिए।

महिलाओं को इस तरह के मौसम के दौरान विशेष रूप से कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। यूटीआई के सबसे सामान्य कारणों में आंत्र है कि बैक्टीरिय त्वचा पर रहता है और मूत्र पथ में फैल हो जाता है। ये बैक्टीरिया ऊपर की तरफ बढ़ते हैं और मूत्राशय में संक्रमण का कारण बन सकते है। महिलाओं को पीछे की ओर से सामने की दिशा में साफ करने के बजाए सामने की ओर से पीछे की तरफ साफ करना चाहिए। इसके अलावा, यौन संबन्धों के दौरान कई बार जननांग क्षेत्र से जीवाणु मूत्रमार्ग में मूत्र पथ के संक्रमण के कारण में पारित हो सकते हैं। सर्वोच्च क्रम के उचित स्वच्छता बनाए रखना के सभी महिलाओं के लिए आवश्यक है।

इसके अलावा, महिलाओं, जो मधुमेह, गर्भवती या उनकी रजोनिवृत्ति के समय में कर रहे हैं और मूत्र पथ के संक्रमण के लिए अनुबंध ग्रस्त हैं। बरसात के मौसम के दौरान पूरी तरह से सूखे हुए कपड़े ही पहनें। यहां तक की अंडरगारमेंट्स भी सत्री करके पहनें। विभिन्न तरह के प्रॉडक्ट्स में से आने वाली खुशबू से भी आपको इरीटेशन हो सकता है और कभी-कभी ये ही संक्रमण का कारण भी बन सकता है।

लेखक परिचय- डा. भीम सेन बंसल, आरजी स्‍टोन यूरोलॉजी एंड लैपरोस्‍कोपी हॉस्पिटल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक हैं।

तुलना कर के खरीदें उत्तम स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों

Story first published: Friday, July 13, 2012, 12:48 [IST]
English summary

Urinary track Infections in Monsoons | मौनसून में रहता है यूरीन इंफेक्‍शन का खतरा

Urinary tract infection (UTI) is the bacterial infection in the urinary system. The bacteria present in and around the area may multiply tremendously during monsoon weather and cause infection.
Please Wait while comments are loading...