स्‍टडी : क्‍या सोने के मामले में भारतीय हैं सबसे पीछे?

Subscribe to Boldsky

फिटबिट से जुटाए गए जनवरी से दिसंबर 2016 के बीच आंकड़ों के अनुसार भारत दुनिया की सबसे खराब स्लीपिंग आदतों वाले देशों की श्रेणी में आता है। यहां के लोग मात्र 6.55 घंटे की नींद ही लेते हैं जो कि एक चिंता का विषय है।

इस सर्वे में कुल 18 देशों को सर्वेक्षण किया गया था और पाया गया कि एशिया के लोग, अमेरिका और यूरोप के लोगों की अपेक्षा कम नींद लेते हैं, जबकि न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन में प्रति व्यक्ति को प्रति रात्रि औसतम सबसे अधिक नींद आती है।

पूरी नींद की अवधि की रैंकिंग, निम्‍नानुसार है: (सभी आंकड़े घंटे में मापे गए हैं)

पूरी नींद की अवधि की रैंकिंग, निम्‍नानुसार है: (सभी आंकड़े घंटे में मापे गए हैं)

जापान - 6.35
भारत - 6.55
सिंगापुर - 6.56
ताइवान - 6.56
कोरिया गणराज्य - 6.56
हांगकांग - 6.61
कोलंबिया - 6.75
मेक्सिको - 6.76
चिली - 6.80
स्पेन - 6.91
इटली - 6.94
संयुक्त राज्य अमेरिका - 6.9 9
कनाडा - 7.05
जर्मनी - 7.07
फ्रांस - 7.08
ऑस्ट्रेलिया - 7.15
यूनाइटेड किंगडम - 7.16
न्यूजीलैंड - 7.25

image source

यह हमारे लिए चिंता का विषय क्‍यूं है?

यह हमारे लिए चिंता का विषय क्‍यूं है?

एक अच्छी रात की नींद, हमारे स्वास्थ्य को बनाये रखने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अगर नींद अच्‍छी नहीं आएगी और शरीर में कई रोग विकसित हो जाएंगे। जिससे कमा पर असर पड़ेगा, तनाव होगा और कई अन्‍य समस्‍याएं भी सामने आएगी। इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन (अमेरिका) के अनुसार, नींद आने से शरीर बैलेंस रहता है और हम अपने दिन के कार्यों को सुचारू रूप से कर पाते हैं। जिसमें हमारा जीवन दीर्घ और स्‍वस्‍थ होता है।

 किस प्रकार आप बेहतर नींद ले सकते हैं?

किस प्रकार आप बेहतर नींद ले सकते हैं?

सबसे पहले आप ऐसी दिनचर्या बनाएं कि आप रात में सभी कामों को जल्‍दी निपटा लें और 8 घंटे की नींद लें। तनाव न लें और न ही सोते समय कोई गलत विचार मन में लाएं। मधुर गाने सुनें या दिन में जो भी अच्‍छा काम किया हो, उसे याद करें। साथ ही स्‍मार्टफोन से दूर रहें। आंखों को बंद करें और नींद में समां जाएं।

Story first published: Friday, April 28, 2017, 10:30 [IST]
English summary

Indians among world's poorest 'sleepers'

A total of 18 countries were surveyed and studied and it was found that Asians get less sleep on average than their American and European counterparts.
Please Wait while comments are loading...