प्राकृतिक सौंदर्य

एक प्रसिद्ध ज़ेन मंदिर में स्थित बगीचे की देखरेख एक पुजारी करता था। उसे यह काम इसलिये दिया गया था क्योंकि उसे फूलों, झाड़ियों और पेड़ों से प्यार था। इस मंदिर के पास एक और छोटा मंदिर था, जहाँ एक बूढ़े ज़ेन गुरु रहते थे।

एक दिन, जब पुजारी को कुछ विशेष मेहमानों के आने की उम्मीद थी, तब उसने बगीचे की अतिरिक्त देखभाल की थी। उसने घासफूस निकाली, झड़ियों की छंटनी की, पौधों को संवारा और सावधानी एवं ध्यानपूर्वक सूखी शरद ऋतु की सभी पत्तियों को व्यवस्थित करने में एक लंबा समय बिताया। जब वह काम कर रहा था तब दोनों मंदिरों अलग करती दीवार के उस पार से बूढ़े गुरु उसे उत्सुकता के साथ देख रहे थे।

जब वह काम समाप्त कर चुका, तब पुजारी ने थोड़ी देर खड़े होकर अपने काम को प्रशंसापूर्वक देखा। "यह सुंदर है कि नहीं" उसने बूढ़े गुरु से पूछा। "है," बूढ़े आदमी ने कहा, "लेकिन कुछ कमी है। मुझे इस दीवार को पार करने में मदद करो और मैं ठीक उसे ठीक करता हूँ।"

थोड़ी झिझक के बाद, पुजारी ने बूढ़े गुरु को उठाया और उसे नीचे उतार लिया। धीरे-धीरे, गुरु बगीचे के बीच में स्थित पेड़ के पास गये, उसे तने द्वारा पकड़ कर हिलाया। पूरे बगीचे में पत्तियां बौछार के रूप नीचे गिरने लगीं। बूढ़े गुरु ने कहा,"तुम मुझे वहाँ रख सकते हैं

Read more about: जेन कथाएं, zen stories
Story first published: Thursday, July 26, 2012, 12:52 [IST]
English summary

Nature's Beauty | प्राकृतिक सौंदर्य

A priest was in charge of the garden within a famous Zen temple. He had been given the job because he loved the flowers, shrubs, and trees.
Please Wait while comments are loading...