कैसे बनें दूसरों से एकदम जुदा

Posted By:
Subscribe to Boldsky

आप चाहे ऑफिस में काम करते हों या फिर कॉलेज में पढ़ते हों, आपने देखा होगा कि कितने ही लोग हैं जो दूसरों से जुदा दिखने के चक्‍कर में एक दूसरे की कॉपी करते नहीं थकते। आज का जमाना ही ऐसा है कि कोई किसी से दब कर नहीं रहना चाहता और खुद को हर काम में बेस्‍ट दिखाना चाहता है। कहीं आप भी तो उसी भींड का हिस्‍सा नहीं बन गए?

अगर बन गए हैं तो अभी से ही दूसरों की कॉपी करना बंद कर के खुद का एक स्‍टाइल डेवलप करें। खुद की पहचान करना बहुत जरुरी है नहीं तो आप भी इसी भींड में फस कर रह जाएंगे। खुद के गुण को पहचाने और इस आर्टिकल को पढे़, जिसमें आपको पता चलेगा कि आपको दूसरों से एकदम जुदा कैसे बनना है।

How To Be Different From Others


कैसे बनें दूसरों से एकदम जुदा

खुद के अंदर के गुण को पहचाने- हर इंसान में कोई ना कोई बात बिल्‍कुल खास होती है। हो सकता है आपका नेचर दूसरों से हट कर हो या फिर आपके अंदर कोई ऐसा हुनर छुपा हो जो ऑफिस में किसी के पास ना हो। उस चीज की पहचान करें और आगे बढे़।

खुद को अपनाएं - एक बार जब आपने अपने गुण की पहचान कर ली हो तो, अब जरुरत है कि आप खुद को भी उसी रूप में अपना लें जिस रूप में आप हैं। कई लोग तब हार जाते हैं जब वे खुद के अंदर के टैलेंट को नहीं अपना पाते।

वही करें जो आपको अच्‍छा लगे- किसी की परवाह किये बिना कि वह क्‍या बोलेंगे आदि ना सोंच कर अपने मन की करें। अगर आपको अकेले मूवी देखना पसंद है तो वही करें। अगर आपको रोड के बीचों बीच किसी गरीब को खाना खिलाना अच्‍छा लगता है तो वो भी करें, बिना किसी के डर और शर्म के।

किसी की चुगली ना करें- ऑफिस में गॉसिप करना बिल्‍कुल भी अच्‍छी बात नहीं होती। इससे आपके अंदर की छुपी हुई सारी अच्‍छाई छुप जाएगी और दूसरे लोग आपसे बेरहमी से पेशा आना शुरु हो जाएंगे।

हमेशा सीखने की कोशिश करें- कभी भी यह ना सोंचे कि आपको सब कुछ आता है। ऐसा कभी नहीं हो सकता कि किसी इंसान को सब कुछ आता हो। चाहे बात नई टेक्‍नॉलिजी की हो या फिर खुद के अंदर अच्‍छे गुण आने की हो, हमेशा सीखते रहने की चाह हर इंसान में होनी चाहिये।

संकोच करना छोड़ दें- संकोच करने से कभी भी आपको अपना लक्ष्‍य नहीं प्राप्‍त होगा। यह कदम उठाइये और चैलेंज को फेस करना सीखिये। जिंदगी नाम ही है रिस्‍क लेने का। जो आपने कभी नहीं किया है उसे एक बार बिना संकोच के कर के और कह के देखिये।

English summary

How To Be Different From Others

In a world full of imitations, copied ideas and run-of-the-mill thinking, it becomes extremely difficult for originality and uniqueness to have any space. In fact, if you do try and be different, the act is scorned at, rather than appreciated.
Please Wait while comments are loading...