जानिये कल्‍पना चावला के बारे में रोचक तथ्‍य

Subscribe to Boldsky

कल्‍पना चावला का जन्‍म भारत के करनाल में हुआ था। उन्‍होने अपनी प्रारंभिक शिक्षा, टैगोर बाल निकेतन सीनियर सेकेंडरी स्‍कूल, करनाल से की थी और उन्‍होने अपनी स्‍नातक की शिक्षा, 1982 में पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज से एयरोनाटिकल इंजीनियरिंग में इंजीनियरिंग की डिग्री लेकर पूरी की।

इसके बाद, 1982 में वह संयुक्‍त राष्‍ट्र अमेरिका चली गई। वहां जाकर उन्‍होने 1984 में अर्लिंगटन में टेक्‍सास जाकर टेक्सास विश्वविद्यालय से एरोस्पेस इंजीनियरिंग में परास्‍नातक डिग्री हासिल की।

READ: दुनिया के 10 देश जिनके पास हैं सबसे शक्‍तिशाली सेनाएं

अप्रैल 1991 में संयुक्‍त राष्‍ट्र अमेरिका की देशीयकृत नागरिक बनते हुए, चावला ने नासा अंतरिक्ष यात्री कोर के लिए आवेदन किया। उनका पहला स्‍पेस मिशन, 19 नवंबर 1997 में शुरू हुआ था, जिसमें कुछ 6 अंतरिक्ष यात्री थे जिन्‍होने एसटीएस-87 स्‍पेस शटल कोलम्‍बिया फ्लाइट से उड़ान भरी थी।

चावला, पहली महिला अंतरिक्ष यात्री और दूसरी भारतीय अंतरिक्ष यात्री थी। उनसे पूर्व राकेश शर्मा ने अंतरिक्ष की यात्रा, 1984 में की थी। अपने पहले मिशन में, चावला ने अंतरिक्ष में 372 घंटों से ज्‍यादा समय बिताते हुए, पृथ्‍वी के 252 ऑर्बिट में 10.4 मिलियन से ज्‍यादा की यात्रा की।

READ: इसे पढ़ने के बाद भारत से हो जाएगा और भी ज्‍यादा प्‍यार

कल्‍पना चावला ने भारत का नाम रोशन कर दिया, लेकिन दुर्भाग्‍यवश, स्‍पेसशटल कोलम्‍बिया की एक आपदा में उनका निधन हो गया। उन्‍हे न सिर्फ भारत और अमेरिका ने बल्कि पूरी दुनिया से सम्‍मानित किया। उनके बारे में अन्‍य रोचक तथ्‍य निम्‍न प्रकार हैं:

1. जन्‍मतिथि:

कल्‍पना चावला का जन्‍म 17 मार्च 1962 में हुआ था। वह अंतरिक्ष की यात्रा करने वाली पहली भारतीय महिला थी।

2. पहली उड़ान:

1997 में कल्‍पना चावला ने पहली अंतरिक्ष यात्रा की। जिस समय वह स्‍पेस शटल कोलम्बिया में थी, उस समय उन्‍होने एक प्राइमरी रोबोटिक आर्म ऑपरेटर और मिशन स्‍पेशलिस्‍ट का कार्य किया था।

3. मृत्‍यु:

कल्‍पना चावला की मृत्‍यु, 2003 में हुई थी। इस दुर्घटना में अन्‍य 6 लोगों की भी मृत्‍यु हो गई थी।

4. शिक्षा:

कल्‍पना चावला ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा, टैगोर बाल निकेतन सीनियर सेकेंडरी स्‍कूल, करनाल से की थी और उन्‍होने अपनी स्‍नातक की शिक्षा, 1982 में पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज से एयरोनाटिकल इंजीनियरिंग में इंजीनियरिंग की डिग्री लेकर पूरी की।

5. विज्ञान की परास्‍नातक डिग्री:

1982 में वह संयुक्‍त राष्‍ट्र अमेरिका चली गई। वहां जाकर उन्‍होने 1984 में अर्लिंगटन में टेक्‍सास जाकर टेक्सास विश्वविद्यालय से एरोस्पेस इंजीनियरिंग में परास्‍नातक डिग्री हासिल की।

6. अंतरिक्ष यात्री बनने का ख्‍याब:

कल्‍पना चावला को बचपन से ही अंतरिक्ष यात्री बनने का मन था। उन्‍होने इसी अनुसार शिक्षा ग्रहण की थी। 1988 में उन्‍होने अपनी पीएचडी की शिक्षा, बोल्डर में कोलोराडो विश्वविद्यालय से एरोस्पेस इंजीनियरिंग में पूरी की थी।

7. नासा:

कल्‍पना चावला ने 1988 में नासा में कार्य करना शुरू किया।

8. नौकरी:

जब कल्‍पना चावला नासा में उपाध्‍यक्ष बनी तो उनकी जिम्‍मेदारी, वर्टिकल / लघु टेकऑफ़ और लैंडिंग अवधारणाओं पर कम्प्यूटेशनल द्रव डायनेमिक्स (सीएफडी) अनुसंधान करना था।

9. प्रमाणित फ्लाइट इंस्‍ट्रक्‍टर:

चावला एक सुलझी हुई महिला थी। उन्‍हे एक कॉर्मिशयल पायलट लाईसेंस मिला हुआ था, जिसके अंर्तगत उन्‍हे सीप्‍लेन, मल्‍टीइंजन एयरप्‍लेन और ग्‍लाइडर चलाने की अनुमति प्राप्‍त थी।

10. नासा एस्‍ट्रोनॉट कॉर्प:

चावला, नासा की कॉर्प थी, उन्‍हे 1991 में अमेरिका की नागरिकता भी मिल गई थी। उनहे कई पुरस्‍कार मिले और नासा का विशिष्‍ट सेवा पदक भी प्राप्‍त हुआ।

Read more about: life, जिंदगी
Story first published: Monday, March 30, 2015, 11:12 [IST]
English summary

Interesting Kalpana Chawla Facts

Chawla was the first Indian-born woman and the second Indian person to fly in space, following cosmonaut Rakesh Sharma who flew in 1984 on the Soyuz T-11. On her first mission, Chawla traveled over 10.4 million miles in 252 orbits of the earth, logging more than 372 hours in space.
Please Wait while comments are loading...