गुस्‍सैल बच्‍चे को डील करने के तरीके

By: Aditi Pathak
Subscribe to Boldsky

जिन बच्‍चों को बात - बात पर गुस्‍सा आ जाता है उन्‍हे डील करना बहुत मुश्किल होता है। ऐसी आदतों वाले बच्‍चे से निपटने के लिए आपको धैर्य और समझ, दोनों की आवश्‍यकता होती है। जिन बच्‍चों को ऐसी आदतें होती हैं दरअसल उन्‍हे आपसे या किसी और से कुछ चाहिए होता है, उनकी कोई मांग होती है जो कुछ भी हो सकती है और पूरा न हो पाने के कारण वह बात - बात पर खीझते रहते है। अगर आपका बच्‍चा हाल के दिनों में ऐसा कई बार कर चुका है तो आपको उस पर ध्‍यान देने की आवश्‍यकता है वरना उसका व्‍यवहार बहुत चिड़चिड़ा हो जाएगा।

बच्‍चे का बात - बात पर नखरे करना, कई बार पैरेंटस के लिए मुश्किल खड़ा कर देता है। इसके लिए बेहतर होगा कि आप अपने बच्‍चे से बात करें और उससे उसकी प्रॉब्लम पूछें। उस पर हमेशा ध्‍यान दें और उसकी केयर करें। यहां कुछ टिप्‍स दिए जा रहे है कि आप किस प्रकार अपने गुस्‍सैल बच्‍चे को डील करें।

How To Deal With A Bad-Tempered Child?

1) कारण जानें : बच्‍चे के झल्‍लाने और गुस्‍सानें के पीछे कई कारण हो सकते है, आप अपने बच्‍चे से प्‍यार से बात करें और उससे इस तरह परेशान रहने का कारण जानें। उसके परेशान और गुस्‍सा करने की वजह को जानने के बाद उस समस्‍या को दूर करने का प्रयास करें। इससे बच्‍चे के व्‍यवहार में परिवर्तन आएगा।

2) कुछ बुनियादी नियम बनाएं : अपने घर में कुछ बुनियादी नियम बनाकर रखें, जो बच्‍चों और बड़ो सभी पर लागू होते हों। इससे बच्‍चा बंधा रहेगा और कम जिद्द करेगा। जैसे - खाने के लिए डाइट प्‍लान बना लें ताकि वह खाने - पीने के चीजों में ज्‍यादा डिमांड न रख पाएं। इसके अलावा कई और रूल सेट कर लें।

3) शुरू में ही टोकें : अगर आपको ऐसा लगता है कि पिछले कुछ दिनों से आपका बच्‍चा बहुत ज्‍यादा जिद्द करने लगा है तो उसे शुरूआत में टोक दें कि आजकल तुम बहुत ज्‍यादा जिद्द करते हो, ये ठीक नहीं है। इससे उसे अपनी गलती तुरंत समझ में आएगी।

4) मार्गदर्शन प्रदान करें : कई बार पैंरेटस को अपने बच्‍चे के लिए समय नहीं होता है, ऐसे में वह चिड़चिड़े और जिद्दी हो जाते है। अपने बच्‍चों को दिन में समय दें और उनकी हर बात को ध्‍यान से सुनें। उन्‍हे इग्‍नोर न करें। वह जो भी कहें उनकी हर बात सुनें ताकि वह आपसे हर बात शेयर कर सकें और जिद् न करें।

5) अनदेखा कर दें : कई बार ऐसा करना ब हुत जरूरी होता है। जब बच्‍चा बहुत डि‍मांड करने लगे या आपकी बात न मानें, तो थोड़े समय के लिए उसकी हरकतों और उसकी बात को इग्‍नोर करना सीखें। इससे बच्‍चे को अपनी गलती समझ में आएगी।

6) धैर्य रखें : अगर आपका बच्‍चा बहुत ज्‍यादा नखरीला है और आपकी बात नहीं मानता है तो धैर्य रखें। ऐसे जिद्दी बच्‍चों को प्‍यार से ट्रीट करें। उनको हर बार नॉर्मल रहकर समझाएं। धैर्य रखने से आपको बच्‍चे को संभालने में आराम रहेगा।

7) प्रोफेशनल की मदद लें : गुस्‍सैल बच्‍चे को डील करने का सबसे अच्‍छा तरीका यह है कि आप प्रोफेशनल काउंसलर की मदद लें। काउंसलर, बच्‍चों को कई थेरेपी के माध्‍यम से भी सही कर देते हैं और उनके व्‍यवहार में चेंजेस ला देते है। प्रोफेशनल की सलाह से बच्‍चों को सही तरीके से ट्रीट करने के बारे में पता चल जाता है।

8) ज्‍यादा ओवर रिएक्‍ट न करें : जब बच्‍चा बात - बात पर नखरे दिखाएं या चिडचिडाएं तो उस पर ज्‍यादा ओवर रिएक्‍ट न करें। बच्‍चे पर पूरी तरह से नजर रखें और उसे समझाएं कि वह जो कर रहा है, गलत है और ऐसा करने से उसके दोस्‍त कम होते जाएंगे।

Read more about: kids, बच्‍चे
English summary

How To Deal With A Bad-Tempered Child?

Child temper tantrums can create mental strain and stress to the parents. It can be considered a part of behavioural problem.
Please Wait while comments are loading...