For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

फ्रैक्‍चर होने पर प्‍लाटर का ऐसे रखें ध्‍यान, वरना हो सकती है इससे बुरी हालत

|

जब भी हमारे शरीर की कोई हड्डी टूटती है यानी फ्रैक्‍चर होता है तो डॉक्‍टर उस हड्डी को जोड़ने के ल‍िए वहां प्लास्टर लगा देते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि अगर प्लास्टर के दौरान आप उस हिस्से का ठीक से ख्याल नहीं रखते हैं तो इससे स्थिति और बिगड़ सकती है। यहां हम बता रहे हैं कि प्लास्टर लगने के दौरान आप क्या करें और क्या न करें।

अगर आपको जल्‍दी अपनी टूटी हुई ह ड्डी को ठीक करना है तो आपको इन बातों का विशेष ख्‍याल रखना होगा।

कब दिखाएं डॉक्‍टर को

कब दिखाएं डॉक्‍टर को

जिस फ्रैक्‍चर यानी टूटी हड्डी पर प्‍लास्‍टर लगाया जाता है उसे लटकाए नहीं। अंगुलियों का निरंतर व्‍यायाम करें। प्‍लास्‍टर को पानी से बचाकर लगे। अगर फैक्‍चर के आसपास अंगुलियों में नील जमी हुई दिखाई पड़ती है या सूजन नजर आए तो जल्‍द से जल्‍द डॉक्‍टर को जरुर दिखाएं।

फ्रैक्‍चर होने पर लापरवाही न बरतें

फ्रैक्‍चर होने पर लापरवाही न बरतें

ग्रामीण इलाकों में फ्रैक्‍चर होने की स्थिति में डॉक्‍टर के पास जाने के बजाय कई लोग नीम-हकीम के पास चलें जाते हैं। हड्डी टूटने पर लापरवाही बरतने पर विकलांगता की समस्‍या हो सकती हैं। इसल‍िए किसी अनुभवी डॉक्‍टर के पास ही जाएं और प्‍लास्‍टर उतारने के बाद विशेषज्ञ की सलाह से व्‍यायाम यानी फिजियोथैरेपी लें।

प्लास्टर के दौरान क्या करें:

प्लास्टर के दौरान क्या करें:

- प्लास्टर के दौरान हमेशा अपनी उँगलियों और अंगूठो को हिलाते रहें अन्यथा वे सुन्न पड़ जाते हैं।

- शरीर के चोट या प्लास्टर वाले हिस्से को किसी चीज या तकिये की मदद से थोड़ा ऊपर रखें।

- अगर प्लास्टर के दौरान आपकी उँगलियों में दर्द होने लगे या वे सुन्न पड़ जायें और उनमें कालापन आ जायें तो तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह लें।

- प्लास्टर वाले हिस्से को छोड़कर बाकी शरीर के सभी जोड़ों को हिलाते रहें जिससे वो जाम न हो जाएँ और उनमें ब्लड सर्कुलेशन बना रहे।

- अगर आप फ्रैक्चर के इलाज में कोई घरेलू उपचार आजमाने जा रहे हैं तो पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछ लें।

कभी न करें ये गलतियां

कभी न करें ये गलतियां

- कभी भी प्लास्टर वाली जगह को किसी कठोर तल पर न रखें।

- फ्रैक्चर वाले हिस्से को हमेशा पानी से बचा कर रखें। पानी के संपर्क में आने से स्थिति और बिगड़ सकती है।

- प्लास्टर के अन्दर खुजली होने पर किसी नुकीली चीज का प्रयोग न करें।

- प्लास्टर के अन्दर किसी भी तरह की कोई चीज न डालें।

English summary

Principles of Casting and Splinting

The cast keeps an injured area from moving while it heals. Movement can cause pain, delay healing or make the injury worse.
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more