India
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

गर्म दूध के साथ शहद का सेवन करना सेहत के ल‍िए सही है या गलत, पढ़े यहां

|

जो लोग हेल्थ कॉन्शियस होते हैं, वह अक्सर चीनी से पूरी तरह से दूरी बनाते हैं और इसकी जगह शहद का इस्तेमाल करते हैं। एक नेचुरल स्वीटनर के रूप में जाना जाने वाला शहद कई गुणों से युक्त है। कच्चे शहद में एंटी-बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं, जिसके कारण यह सेहत पर अपना सकारात्मक प्रभाव डालता है। हालांकि, यह भी आवश्यक है कि शहद का सेवन सही तरह से किया जाए। आयुर्वेद में कहा जाता है कि शहद को कभी भी गर्म करके या दूध के साथ नहीं पकाना चाहिए। शायद यही कारण है कि बहुत से लोगों के मन में यह मान्यता है कि शहद को कभी भी गर्म दूध में मिक्स नहीं करना चाहिए। इससे सेहत पर इसका विपरीत असर पड़ता है। हो सकता है कि आपकी विचारधारा भी कुछ ऐसी ही हो। तो चलिए आज इस लेख में हम इस धारणा की वास्तविकता के बारे में जानेंगे-

कुछ ऐसी है लोगों की धारणा

कुछ ऐसी है लोगों की धारणा

अमूमन लोग सोचते हैं कि गर्म शहद खाना खतरनाक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि चीनी वाली किसी भी चीज़ को गर्म करने से 5-हाइड्रॉक्सीमिथाइलफुरफ्यूरल या एचएमएफ नामक पदार्थ का उत्पादन बढ़ सकता है, जिसे प्राकृतिक रूप से कार्सिनोजेनिक माना जाता है। हालांकि, यह न केवल शहद, बल्कि सभी चीनी युक्त पदार्थों पर लागू होता है। यकीनन शहद उबालने से निस्संदेह यह और अधिक जहरीला हो जाएगा।

क्या कहती है रिसर्च

क्या कहती है रिसर्च

वहीं, नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन रिसर्च के मुताबिक शहद को उबालने और घी में मिलाने से दोनों ही नुकसानदायक प्रभाव डालते हैं। अध्ययन के निष्कर्षों के अनुसार, "गर्म शहद (>140 डिग्री सेल्सियस) घी के साथ मिलकर एचएमएफ (हाइड्रॉक्सी मिथाइल फुरफुरल) बनाता है, जिसके हानिकारक परिणाम हो सकते हैं और अंततः यह एक जहर की तरह काम कर सकता है।"

गर्म दूध में मिलाएं या नहीं

गर्म दूध में मिलाएं या नहीं

रिसर्च के अनुसार, शहद के लिए तापमान वृद्धि 140 डिग्री से कम तक सीमित हैं। यह उस आदर्श तापमान से बहुत कम है जिस पर आपके दूध का गिलास होने की संभावना है। इस तरह यह कहा जा सकता है कि गर्म दूध में शहद मिलाना शायद उतना विषैला न हो। हालांकि, शहद को 140 डिग्री से ऊपर के तापमान पर गर्म करना आपके लिए कम स्वस्थ हो सकता है क्योंकि कुछ पोषक तत्व नष्ट हो सकते हैं। लेकिन फिर भी यह सलाह दी जाती है कि दूध में एक चम्मच प्राकृतिक स्वीटनर अर्थात् शहद मिलाने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि दूध थोड़ा ठंडा हो गया है। कभी भी दूध को उबालने के तुरंत बाद उसमें शहद मिलाने से बचें। यह शहद के साथ दूध का आनंद लेने का आदर्श तरीका है।

दूध के साथ शहद का सेवन करने के स्वास्थ्य लाभ

दूध के साथ शहद का सेवन करने के स्वास्थ्य लाभ

गर्म दूध के साथ शहद लेने की सच्चाई जानने के बाद आपको दूध के साथ शहद का सेवन करने के कुछ लाभों के बारे में भी जान लेना चाहिए। इससे आपको कुछ बेमिसाल लाभ मिल सकते हैं। जैसे-

• हर सुबह एक गिलास दूध में शहद मिक्स करके लेने से स्टेमिना बेहतर होता है। दूध में प्रोटीन पाया जा सकता है, जबकि शहद में मेटाबॉलिज्म को प्रभावी ढंग से उत्तेजित करने के लिए आवश्यक कार्बोहाइड्रेट होते हैं।

• दूध और शहद दोनों में मजबूत एंटी-माइक्रोबायल प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं। लेकिन इन दोनों का सेवन एक साथ किया जाता है, तो उनकी जीवाणुरोधी प्रभावशीलता बढ़ जाती है। पोषक तत्व प्रदान करने के अलावा, दूध और शहद माइक्रोबियल संक्रमण के खिलाफ एक कुशल बचाव के रूप में भी काम कर सकते हैं।

• वे पाचन समस्याओं, कब्ज और पेट फूलने के इलाज के लिए उपयोगी हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त, यह सर्दी और खांसी जैसी श्वसन स्थितियों के इलाज में भी प्रभावी है।

• शहद और दूध दोनों में क्लींजिंग और एंटी-बैक्टीरियल पाए जाते हैं। जिसके कारण इसका सेवन करने से स्किन पर भी सकारात्मक प्रभाव नजर आता है।

English summary

Honey And Hot Milk Is A Toxic Combination Or Not In Hindi

here we are talking about the combination of honey and hot milk and its effect on health. Read on to know more.
Desktop Bottom Promotion