For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

Lung Test at Home: घर बैठे कैसे करें अपने फेफड़ों की जांच, ये रहा आसान तरीका

|

कोई भी ऐसा व्‍यक्ति, जो ऑक्सीजन थेरेपी से गुजर रहा हैं या जो अस्थमा या वातस्फीति जैसी सांस की बीमारी से जूझ रहा है। उन लोगों को फेफड़ों की क्षमता और अपने स्वास्थ्य के बारे में जानना जरुरी होता है।
इसका मतलब ये भी हो सकता है क‍ि आप खुद को क‍िसी गंभीर स्थिति में लाने से पहले और खुद को स्‍वस्‍थ रखने के ल‍िए भी ये कदम उठा सकते हैं। यहां हम आपको एक ऐसी तरीके के बारे में बता रहे हैं जो अधिक समय की आवश्यकता नहीं होती है और आप घर बैठे अपने फेफड़ों की स्थिति के बारे में जान सकते हैं।

फेफड़ों के स्वास्थ्य का परीक्षण क्यों करें?

फेफड़ों के स्वास्थ्य का परीक्षण क्यों करें?

अपने फेफड़ों के स्वास्थ्य, या फेफड़ों के कार्य का परीक्षण न केवल आपकी वर्तमान फेफड़ों की क्षमता को पहचानने का एक महत्वपूर्ण तरीका है, बल्कि समय के साथ आपके फेफड़ों की ताकत में भी बदलाव है। घर पर अपने फेफड़ों के स्वास्थ्य का परीक्षण करने के कुछ सही जानें:

  • जानिए कब आपातकालीन स्थिति पर अपने डॉक्टर को फोन करना है।
  • अपने अस्थमा ट्रिगर को ट्रैक करें और जांचे।
  • निर्धारित करें कि आपका ऑक्सीजन ट्रीटमेंट कैसे काम कर रहा है।
  • जो क्लीवलैंड क्लिनिक के अनुसार अपने फेफड़ों की क्षमता को जानना अस्थमा पीड़ितों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। ये आपके फेफड़ो को आने वाली क‍िसी विकट स्थिति से बचा सकता हैं। भले ही आप खुद को स्‍वस्‍थ महसूस कर रहे हों।
  • लंग फंक्शन टेस्ट की मदद से आपको अपने फेफड़ों के स्वास्थ्य की स्थिति पर मालूम रहता है-
  • ये है घरेलू उपाय

    ये है घरेलू उपाय

    आप अपने फेफड़ों की क्षमता को कैसे घर बैठे मालूम करें, इसका एक सामान्य तरीका पीक फ्लो मीटर का उपयोग करना है। ये एक हाथ में पकड़ने वाला उपकरण जो आपकी सांस की ताकत को मापता है। आप बस एक सिरे से सांस लेते हैं और मीटर तुरंत एक पैमाने पर रीडिंग दिखाता है, आमतौर पर ये लीटर प्रति मिनट (एलपीएम) में दिखाता है।

    पीक फ्लो मीटर का उपयोग कैसे करें

    पीक फ्लो मीटर का उपयोग कैसे करें

    आपके विशेष पीक फ्लो मीटर के लिए विशिष्ट निर्देश हो सकते हैं, इसलिए सबसे पहले अपने चिकित्सक या प्रशिक्षित स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के निर्देश प्राप्त करना सबसे अच्छा है।

    अमेरिकन लंग एसोसिएशन से इसे लेकर कुछ टिप्‍स दिए हैं।

    पूरी दिनचर्या को तीन बार दोहराएं। (आप जानते हैं कि आपने दिनचर्या को सही ढंग से किया है जब तीनों प्रयासों की संख्याएं एक साथ बहुत करीब हैं।)

    तीन रेटिंग में से उच्चतम रिकॉर्ड करें। ऐवरेज को काउंट न करें। यह बहुत महत्वपूर्ण है।

    अपने पीक फ्लो मीटर का उपयोग करते समय आप बहुत अधिक सांस नहीं ले सकते, लेकिन आप बहुत कम सांस छोड़ सकते हैं।

    अपने पीक फ्लो रेट को हर दिन एक ही समय के करीब मापें।

    आप और आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता सबसे अच्छा समय निर्धारित कर सकते हैं।

    एक सुझाव यह है कि अपनी पीक फ्लो रेट को प्रतिदिन दो बार सुबह 7 से 9 बजे के बीच और शाम 6 से 8 बजे के बीच मापें।

    आप अपनी दवा लेने से पहले या बाद में, या दोनों में अपनी पीक फ्लो रेट को मापना चाहते हैं, तो हर बार ऐसा ही करने की कोशिश करें।

    अपनी पीक फ्लो रेट्स का चार्ट रखें। अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ रीडिंग पर चर्चा करें।

    Photo Source

    पूर्वावलोकन कर लें

    पूर्वावलोकन कर लें

    जब आपको फेफड़े की बीमारी या अन्य श्वसन संबंधी समस्या होती है, तो आपकी स्थिति की स्थिति में दिन-प्रतिदिन उतार-चढ़ाव होता रहता है। अपने फेफड़ों की क्षमता को जानने से आपको अपने स्वास्थ्य पर नज़र रखने में मदद मिलेगी, और यह कुछ ऐसा है जो आप घर पर कर सकते हैं।

    अपने फेफड़ों के स्वास्थ्य की डेली प्रोगेस को ट्रैक करने के लिए पीक फ्लो मीटर का उपयोग करना सबसे आसान और सुविधाजनक तरीकों में से एक है। यदि आपको पुरानी ब्रोंकाइटिस या वातस्फीति जैसी बीमारी है तो यह उपकरण उपयोगी हो सकता है, लेकिन आप अपने डॉक्टर से जरुर पूछें क‍ि क्या आपके लिए घरेलू परीक्षण सही है।

    पीक फ्लो मीटर एक अपेक्षाकृत सस्ता उपकरण है जो आपके स्थानीय दवा स्टोर पर या ऑनलाइन रिटेलर के माध्यम से आसानी से उपलब्ध है। सिफारिशों के लिए आपको अपने चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए।

English summary

How to Test your Lung Capacity at Home in Hindi

Here are some good reasons to test your lung health at home:
Story first published: Saturday, September 25, 2021, 22:35 [IST]