For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

क‍िडनी में कैसे बन जाते है स्‍टोन, जानें वजह और क्‍या है इलाज

|

क‍िडनी स्‍टोन की स्थिति तब बनती है जब विघटित मिनरल्‍स क‍िडनी में जमा होने लगते है। क‍िडनी स्‍टॉन छोटे हो सकते है और ये मूत्र पथ के माध्यम आगे जाकर विकसित होने लगते है, लक्षणों को नजरअंदाज करने की वजह से गोल्फ की गेंद के आकार तक बढ़ सकते हैं। बड़े आकार की पथरी गंभीर दर्द का कारण बन सकते हैं। ये स्‍टोन आपके यूरिनरी ट्रैक्‍ट यानी मूत्राशय के मार्ग के आसपास जैसे- क‍िडनी, मूत्रवाहिनी, मूत्राशय

मूत्रमार्ग और क‍िडनी के आसपास कहीं भी विकसित हो सकता है। क‍िडनी स्‍टोन सबसे दर्दनाक मेडिकल कंडीशन में से एक है। आज इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि क‍िडनी स्‍टोन के कारण क्‍या है और क‍िस वजह से क‍िडनी स्‍टोन शरीर में होने लगते हैं।

गुर्दे की पथरी के प्रकार

गुर्दे की पथरी के प्रकार

सभी गुर्दे की पथरी एक ही क्रिस्टल से नहीं बनी होती है। जानें पथरी बनने के कारण-

कैल्शियम

कैल्शियम

कैल्शियम स्टोन सबसे आम होता हैं। वे अक्सर कैल्शियम ऑक्सालेट से बने होते हैं (हालांकि उनमें कैल्शियम फॉस्फेट या मैलेट हो सकता है)। कम ऑक्सालेट युक्त खाद्य पदार्थ के सेवन से इस प्रकार के को बनने से रोका जा सकता है। उच्च ऑक्सालेट खाद्य पदार्थों का कम सेवन करना चाह‍िए, जैसे-

आलू के चिप्स

मूंगफली

चॉकलेट

बीट

पालक

हालांकि, भले ही कुछ गुर्दे की पथरी कैल्शियम से बनी हो, लेकिन अपने आहार में पर्याप्त कैल्शियम लेने से पथरी बनने से रोका जा सकता है।

यूरिक अम्ल

यूरिक अम्ल

इस प्रकार की किडनी स्टोन महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक होता है। वे गाउट वाले लोगों या कीमोथेरेपी से गुजरने वाले लोगों में हो सकते हैं।

इस प्रकार का स्टोन तब विकसित होता है जब मूत्र बहुत अधिक अम्लीय होता है। प्यूरीन से भरपूर आहार के सेवन से मूत्र में अम्लीय स्तर बढ़ जाता है। मछली, शंख और मांस जैसे पशु प्रोटीन में प्यूरीन एक रंगहीन पदार्थ है।

स्ट्रुवाइट

स्ट्रुवाइट

इस तरह का स्टोन ज्यादातर यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) से पीड़ित महिलाओं में पाया जाता है। ये पथरी धीरे-धीरे बढ़ सकती है और पेशाब में रुकावट पैदा कर सकती है। इससे क‍िडनी में इंफेक्‍शन हो सकता है।

सिस्टीन

सिस्टीन

सिस्टीन एक रेयर क‍िस्‍म का स्‍टोन है। ये पुरुषों और महिलाओं दोनों में होते हैं, ये एक प्रकार का अनुवांशिक विकार है, जिसे सिस्टिनुरिया कहा जाताहै। सिस्टीन - एक एसिड है, इसमें क‍िडनी से मूत्र लीक होने लगता है।

क‍िडनी स्‍टोन बनने की वजह

क‍िडनी स्‍टोन बनने की वजह

कि‍डनी स्‍टोन में सबसे बड़ा खतरा ये होता है प्रति दिन 1 लीटर से कम मूत्र बननाहै। यही कारण है कि समय से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं में गुर्दे की पथरी होना आम बात है। हालांकि, 20 से 50 वर्ष की आयु के लोगों में गुर्दे की पथरी होने की संभावना सबसे अधिक होती है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायबिटीज एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिजीज (NIDDK) के अनुसार, महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक किडनी स्टोन की समस्‍या होती है।

इसके इन वजहों से भी हो सकती है क‍िडनी का स्‍टोन-

इसके इन वजहों से भी हो सकती है क‍िडनी का स्‍टोन-

ये भी खतरे बढ़ाने वाले फैक्‍टर:

निर्जलीकरण

मोटापा

प्रोटीन, नमक या ग्लूकोज के उच्च स्तर वाला आहार

गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी

आंत्र रोग में सूजन की वजह से कैल्शियम अवशोषण का बढ़ाना।

ट्रायमटेरिन डाइयूरेटिक्स, एंटीसेज़्योर ड्रग्स और कैल्शियम-आधारित एंटासिड जैसी दवाएं लेना।

लक्षण-

लक्षण-

- मूत्र में रक्त (लाल, गुलाबी, या भूरा मूत्र)

- उल्टी

- जी मिचलाना

- रंगरह‍ित या दुर्गंधयुक्त मूत्र

- ठंड लगना

- बुखार

- बार-बार पेशाब करने की जरूरत

- मूत्र की थोड़ी मात्रा में पेशाब करना

छोटे गुर्दे की पथरी के मामले में, आपको कोई दर्द या लक्षण नहीं हो सकता है क्योंकि पथरी आपके मूत्र पथ से होकर गुजरती है।

जटिलताएं

जटिलताएं

क‍िडनी स्‍टोन अंदर रह जाने की वजह से भी कई तरह की जटिलताएं हो सकती है।

अगर क‍िडनी स्‍टोन मूत्राशय से जोड़ने वाली नली को ब्‍लॉक कर देते हैं, तो मूत्र शरीर से बाहर नहीं निकल पाएगा। इसकी वजह से यूटीआई या गुर्दे के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

यदि बार-बार क‍िडनी की पथरी मूत्र प्रणाली में रुकावट का कारण बनती है, तो इससे क्रोनिक किडनी रोग का खतरा बढ़ सकता है।

लगभग 50% लोग जिन्हें किडनी स्‍टोर हुई है, सही समय पर इलाज नहीं होने के वजह से दूसरी क‍िडनी में भी ये ही समस्‍या हो जाती है।

क्‍यों क‍िडनी स्‍टोन की समस्‍या हो सकती है

किडनी स्टोन हमेशा किडनी में नहीं रहती। कभी-कभी ये क‍िडनी से मूत्रवाहिनी में चले जाते हैं। मूत्रवाहिनी छोटे और नाजुक होते हैं, और पथरी इतनी बड़ी हो सकती है कि ये मूत्रवाहिनी से मूत्राशय तक आसानी से नहीं पहुंच पाते है।मूत्रवाहिनी के नीचे पथरी के होने से मूत्रवाहिनी में ऐंठन और जलन हो सकती है। इससे पेशाब में खून आने लगता है। कभी-कभी पथरी या स्‍टोन मूत्र के प्रवाह को ब्‍लॉक कर देती है। जिससे पेशाब में रुकावट होने लगती है। यूरिनरी ब्‍लॉकेज की वजह से किडनी में संक्रमण और किडनी खराब हो सकती है।

कैसे मालूम करें क‍िडनी स्‍टोन के बारे में?

क‍िडनी स्‍टोन के बारे में मालूम करने के बारे में कई तरह के टेस्‍ट हो सकते है, जैसे-

- कैल्शियम, फास्फोरस, यूरिक एसिड और इलेक्ट्रोलाइट्स के लिए

रक्त यूरिया नाइट्रोजन (बीयूएन) और क्रिएटिनिन गुर्दे की कार्यप्रणाली का आकलन करने के लिए ब्‍लड टेस्‍ट क‍िया जाता है।

- क्रिस्टल, बैक्टीरिया, रक्त और सफेद कोशिकाओं की जांच के लिए यूरिनलिसिस

उत्तीर्ण पत्थरों की परीक्षा उनके प्रकार का निर्धारण करने के लिए निम्नलिखित परीक्षण रुकावट को दूर कर सकते हैं:

पेट का एक्स-रे

आईवीपी

रेट्रोग्रेड पाइलोग्राम

क‍िडनी का अल्ट्रासाउंड

क‍िडनी और पेट का एमआरआई स्कैन

पेट का सीटी स्कैन

सीटी स्कैन और आईवीपी में इस्तेमाल होने वाली कंट्रास्ट डाई किडनी के कार्य को प्रभावित कर सकती है। हालांकि, जिन लोगों के क‍िडनी नॉर्मल तरीके से काम कर रहे है तो उनके ल‍िए चिंता का विषय नहीं है।

कुछ दवाएं हैं जो डाई के साथ मिलकर क‍िडनी को नुकसान पहुंचा सकते है। इसल‍िए इस चीज को सुनिश्चित कर लें कि आपका रेडियोलॉजिस्ट आपके द्वारा ली जा रही दवा के बारे में जानता है।

इलाज

क‍िडनी स्‍टोन का इलाज सिर्फ लक्षणों के आधार पर क‍िया जाता है।

- मुंह से या अंतःस्रावी रूप से तरल पदार्थ का अधिक सेवन।

- दर्द निवारक दवा।

- स्‍टोन को न‍िकालने में मदद करने वाली दवा का सेवन करने से।

बड़े स्‍टोन को कैसे निकालें?

बड़े स्‍टोन को न‍िकालने के ल‍िए अन्‍य ट्रीटमेंट की जरुरत पड़ती है, जैसे- शॉक वेव लिथोट्रिप्सी (एसडब्ल्यूएल), यूरेटरोस्कोपी, या परक्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी (पीसीएनएल)।

- एसडब्ल्यूएल में पथरी को छोटे टुकड़ों में तोड़ने के लिए अल्ट्रासाउंड तरंगों का उपयोग क‍िया जाता है ताकि इसे पार करना ईजी हो जाएं।

- यूरेटेरोस्कोपी में डॉक्‍टर वे व्यक्ति के मूत्रमार्ग के माध्यम से मूत्रवाहिनी तक एक लंबी, पतली ट्यूब पास करेंगे, जो मूत्राशय और गुर्दे को जोड़ती है। फिर वे पत्थर को तोड़ने के लिए लेजर एनर्जी का उपयोग करते हैं।

- वहीं पीसीएनएल में भी पीठ और किडनी में एक लंबा, पतला उपकरण डाला जाता है, ये लेजर एनर्जी का उपयोग करके पत्थर को तोड़ने या हटाने का काम करता है। इस प्रक्रिया के लिए सामान्य एनेस्थिया की जरुर पड़ती है।

- क‍िडनी से बड़ी पथरी को निकालने के बाद संक्रमण जैसी जटिलताओं का खतरा बढ़ जाता है। एक डॉक्टर को संभावित जटिलताओं के बारे में पहले ही बता देना चाहिए ताकि यदि कोई विकसित हो, तो व्यक्ति संकेतों को पहचान सके।

English summary

Kidney Stone Causes, Symptoms, Treatments, & Prevention in Hindi

In this article, we look at how to recognize kidney stones and explain what to do if they occur