For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

सावन का महीना हो गया है शुरू, कर लें भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों के दर्शन

|

भगवान शिव की भक्ति का महीना शुरू हो गया है। इस महीने में भोलेनाथ की पूजा और उपासना करने का विशेष महत्व है। श्रावण माह में शिव मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ पहुंचती है। सावन के महीने में किसी भी शिवालय अथवा शिव मंदिर में शिवजी का जल अभिषेक करना शुभ माना जाता है। लेकिन धार्मिक मान्यताओं और लोगों की आस्था है कि कोई भी शिव भक्त सावन के महीने में 12 ज्योतिर्लिंग में से कहीं भी जलाभिषेक करता है तो उसके जन्म जन्म के कष्ट दूर हो जाते हैं तथा उसकी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। सावन माह के शुभारंभ के साथ ही जानते हैं सभी 12 ज्योतिर्लिंगों और उनकी महिमा के बारे में।

1. सोमनाथ ज्योतिर्लिंग

1. सोमनाथ ज्योतिर्लिंग

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र के काठियावाड़ इलाके में स्थित है। यह भारत ही नहीं बल्कि इस पृथ्वी का पहला ज्योतिर्लिंग माना जाता है। इस मंदिर से जुड़ी मान्यता के अनुसार दक्ष प्रजापति ने चंद्रमा को श्राप दिया था और तब चंद्रमा ने इसी स्थान पर कठोर तप करके भगवान शिव को प्रसन्न किया और श्राप से मुक्ति पाई थी। यह मंदिर विदेशी आक्रमणों के कारण 17 बार नष्ट हो चुका है और हर बार इसे तैयार किया गया।

Most Read: समुद्र मंथन से जुड़ी है कांवड़ यात्रा की शुरुआत, जानें यात्रा की अहम तारीखें

2. मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग

2. मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग

यह ज्योतिर्लिंग आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले में कृष्णा नदी के तट पर श्रीशैल पर्वत पर स्थित है। यहां भगवान शिव श्रीमल्लिकार्जुन के रूप में विराजमान हैं। इस स्थान को दक्षिण भारत का कैलाश माना जाता है। मान्यता है कि इस स्थान पर आकर शिव पूजन करने से अश्वमेध यज्ञ के समान पुण्य फल हासिल होता है।

3. महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग

3. महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग

उज्जैन शहर को मध्य प्रदेश की धार्मिक राजधानी कहा जाता है और महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग इसी शहर में क्षिप्रा नदी के तट पर स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग की खासियत है कि ये एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है। यहां प्रतिदिन की जाने वाली भस्म आरती विश्व विख्यात है। इस मंदिर से जुड़ी मान्यता है कि यहां भोलेनाथ के दर्शन करने से अकाल मृत्यु का खतरा टल जाता है। उज्जैन के निवासी महाकालेश्वर को ही अपना राजा मानते हैं और उनका विश्वास है कि वो ही उनकी रक्षा करेंगे।

4. ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग

4. ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग

मध्य प्रदेश राज्य में उज्जैन से लगभग 140 किलोमीटर की दूरी पर एक और प्रमुख ज्योतिर्लिंग मौजूद है जो दुनियाभर में ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के नाम से विख्यात है। जिस स्थान पर ये ज्योतिर्लिंग मौजूद है उस स्थान पर नर्मदा नदी बहती है और चारों तरफ पहाड़ी है। नदी और पहाड़ की मौजूदगी से यहां प्रतीत होता है कि प्रकृति ने स्वयं ही ॐ शब्द लिख दिया हो। यह ज्योतिर्लिंग औंकार अर्थात ऊं का आकार लिए हुए है, यही वजह है कि इसे ओंकारेश्वर नाम से जाना जाता है।

Most Read: शुक्रनीतिः जीवनसाथी और इन 2 चीजों को कभी ना छोड़े दूसरों के भरोसे, श्रीराम भी थे पछताए

5. केदारनाथ ज्योतिर्लिंग

5. केदारनाथ ज्योतिर्लिंग

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग उत्तराखंड में हिमालय की चोटी पर स्थित है। ऐसा माना जाता है कि ये तीर्थ भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है। इस स्थान का महत्व कैलाश के समान है। केदारनाथ के नजदीक ही बद्रीनाथ मंदिर है। इन दोनों धामों के एक साथ दर्शन से भक्त कई परेशानियों से मुक्त हो जाता है।

6. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग

6. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पुणे जिले से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह शिवलिंग काफी मोटा है इसलिए इसे मोटेश्वर महादेव के नाम से भी जाना जाता है।

7. काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग

7. काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग

यह शिवलिंग उत्तर प्रदेश में गंगा नदी के तट पर वाराणसी (काशी) में स्थित है। इस धाम से जुड़ी मान्यता है कि प्रलय आने के बाद भी यह स्थान ऐसे ही रहेगा क्योंकि भगवान शिव स्वयं त्रिशूल लेकर इसकी रक्षा करते हैं इसलिए इस जगह की विशेष महत्ता है। इस ज्योतिर्लिंग में बाबा भोलेनाथ विश्वनाथ रूप में हैं।

Most Read: चाणक्य नीति: मर्द अपनी इन चार बातों को राज ही रखें, ना करें किसी से भी साझा

8. त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग

8. त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग

त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के नासिक जिले में गोदावरी नदी के नजदीक स्थित है। भगवान शिव का एक नाम त्र्यंबकेश्वर भी है। ऐसा कहा जाता है कि गौतम ऋषि और गोदावरी नदी के आग्रह के बाद भगवान शिव को यहां ज्योतिर्लिंग के रूप में रहना पड़ा।

9. वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग

9. वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग

भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में नौंवा स्थान वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग का है। झारखंड के देवघर में भगवान शिव बाबा वैद्यनाथ के रूप में मौजूद हैं। ऐसा माना जाता है कि रावण के हाथों इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना हुई।

Most Read: शिवलिंग पर चढ़ा प्रसाद ग्रहण करना चाहिए या नहीं, जानें सच

10. नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

10. नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग गुजरात के बड़ौदा में स्थित है। यह द्वारिका पुरी से 17 मील दूर है। नीलकंठ को नागों का देवता भी कहा जाता है और नागेश्वर का पूरा अर्थ है नागों का ईश्वर।

11. रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग

11. रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग

12 ज्योतिर्लिंगों की सूची में 11वां स्थान रामेश्वरम का है जो तमिलनाडु के रामनाथम जनपद में स्थित है। यह स्थान हिंदुओं के चारों धामों में से एक है। समुद्र के किनारे भगवान रामेश्वरम का विशाल मंदिर है। माना जाता है कि इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना स्वयं प्रभु श्रीराम ने की थी और इस वजह से इस स्थान को रामेश्वरम पुकारा जाता है।

12. घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग

12. घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र में औरंगाबाद के नजदीक दौलताबाद से लगभग 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस स्थान को लोग घुश्मेश्वर और घृष्णेश्वर भी कहते हैं। इस स्थान पर लोग मंदिर के दर्शन करने और साथ ही आत्मिक शांति प्राप्त करने के लिए आते हैं।

Most Read: मंदिर से जूते-चप्पल चोरी होना शुभ या अशुभ?

English summary

Sawan 2019: know the significance of 12 jyotirlingas in sawan

A Jyotirlinga is a devotional object representing the god Shiva. There are twelve traditional Jyotirlinga shrines in India.
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more