For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

रमजान 2019: जानें कब से रखे जाएंगे रोजे और इस पाक महीने का महत्व

|

इस्लाम धर्म को मानने वाले अनुयायियों के लिए रमजान का महीना सबसे पाक महीना है। ऐसा माना जाता है कि इस माह जन्नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं। इस ख़ास महीने में इबादत करने और अल्लाह को याद करने का फल बाकि महीनों के मुकाबले ज्यादा मिलता है।

Ramadan 2019: Date, time

ऐसी मान्यता है कि इस खास महीने में ऊपर वाला अपने अकीदतमंदों पर बहुत मेहरबान रहता है। यही वजह है कि हर मुसलमान को पूरे साल रमजान महीने का बेसब्री से इंतजार रहता है। इस साल यानी 2019 में रमजान का पाक महीना 5 मई, रविवार से शुरू होगा, जो एक महीने तक चलेगा।

चांद दिखने के साथ ही रोजे रखने का दौर आरंभ हो जाता है। इस माह में मुस्लिम धर्म के लोग रोजे रखने के अलावा अल्लाह की इबादत करते हैं और कुरआन पढ़ते हैं।

रोजे रखने का भी है तरीका

रोजे रखने का भी है तरीका

रोजे रखने वाला व्यक्ति रोजेदार कहलाता है। रोजेदार रोजा रखने के लिए सूरज निकलने से पहले खा सकता है जिसे सेहरी कहते हैं। सेहरी करने के बाद रोजेदार सूरज डूबने तक ना कुछ खा सकता है और ना ही पी सकता है। सूरज ढलने के बाद मगरिब की अजान होती है और इसके बाद ही रोजेदार अपना रोजा खोल सकता है। रोजा खोलने की इस प्रक्रिया को इफ्तार कहा जाता है।

Most Read: रमजान के दौरान भूल कर भी ना करें ऐसे 10 काम

कौन से लोग रख सकते हैं रोजे

कौन से लोग रख सकते हैं रोजे

इस्लाम धर्म के मुताबिक बच्चा जब सात साल की उम्र को पूरा कर लेता है तब से ही उस पर रमजान के रोजे रखना फर्ज माना जाता है। मगर सात से छोटी उम्र के बच्चे, यात्रा कर करने वाले लोग, बूढ़े-बुजुर्ग, किसी बीमारी से ग्रसित लोग और गर्भवती औरतों को रोजे ना रखने की छूट होती है। वे खुद ही निर्णय ले सकते हैं कि क्या वो रोजे रख पाने की स्थिति में हैं या नहीं।

रोजा रखने के साथ और भी चीजों का रखना पड़ता है ख्याल

रोजा रखने के साथ और भी चीजों का रखना पड़ता है ख्याल

रोजा रखने का मतलब दिन भर बिना कुछ खाए पिए, सिर्फ भूखे प्यासे रहना नहीं है। रोजे में खाने पीने से दूरी बनाने के साथ साथ हर तरह के गलत काम से भी खुद को दूर रखना होता है। रोजे के दौरान व्यक्ति ना तो किसी की बुराई कर सकता है, किसी को नुकसान पहुंचा सकता है, ना किसी के बारे में बुरा सोच सकता है और ना ही किसी पर गलत नजर डाल सकता है। इस पाक महीने में शख्स हर तरह के गलत ऐब से दूर रहता है।

Most Read: इफ्तार के समय क्या खाएं और क्‍या नहीं?

नमाज होता है बेहद जरूरी

नमाज होता है बेहद जरूरी

रमजान के दौरान रोजेदार कायदे से पांच वक्त की नमाज अदा करता है। बिना नमाज के रोजे रखना फाका कहलाता है। रोजे रखने वाले व्यक्ति की इबादत तब तक अधूरी मानी जाती है जब तक वो ऊपर वाले के दर पर जाकर हाजिरी नहीं देता है और खुद को हर तरह की बुराइयों से दूर नहीं रखता है।

जन्नत जाने का रास्ता है रोजा

जन्नत जाने का रास्ता है रोजा

पैगंबर मोहम्मद जन्नत में दाखिल होने के लिए आठ दरवाजों का जिक्र कर चुके हैं और उनके मुताबिक इनमें से एक दरवाजा सिर्फ रोजा रखने वालों के लिए खोला जायेगा। इस दरवाजे से दाखिल होकर रोजेदार जन्नत में पहुंच सकता है।

हर साल 29 या फिर 30 दिन के रोजे रखे जाते हैं और फिर रात को चांद दिखने के बाद अगले दिन ईद का पर्व मनाया जाता है।

English summary

Ramadan 2019: Date, time, significance of roza or fast in Islam

Ramzan or Ramadan is the special month in which followers of Islam regularly do the ‘Namaz’ and keep the rigorous fast called ‘Roza ‘in which not a drop of water is consumed for straight 12 hours.
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more