हर राशि का के होते है दो पहलू, आइए जाने उनके नेगेटिव साइड

By: Gauri Shankar
Subscribe to Boldsky

हम सब में सकारात्मक और नकारात्मक क्वालिटीज़ होती हैं, और हमें यह जानने की ज़रूरत है कि हम जीवन में आगे बढ्ने के लिए इन ताकतों और कमजोरियों को कैसे काम में लेते हैं। हर राशि का एक विपरीत पक्ष भी होता है और हर राशि का यह विपरीत पक्ष जानना बेहद आश्चर्यजनक होता है, जो कि राशि के सकारात्मक पक्षों से बिलकुल अलग होता है।

हम आपको राशियों के इन विपरीत या नकारात्मक पक्षों के बारे में आज इस आर्टिकल के माध्यम से बता रहे हैं... जानने के लिए आगे पढ़ें

मेष -

मेष -

इस राशि के लोग ऊर्जा से भरे होते हैं। ऐसे लोगों में जुनून भरा होता है। ऐसे लोग प्रेरित और महत्वाकांक्षी होते हैं। वे जहां भी जाते हैं रोशनी फैलाते हैं। इसके अलावा, ये लोग अति-विश्वासी और दृढ़ इच्छा वाले होते हैं, ये कभी भी मुसीबतों को देखकर भागते नहीं है।

नकारात्मक पक्ष -

नकारात्मक पक्ष -

इसके अलावा मेष राशि वालों का नकारात्मक पक्ष यह है कि ये मूढ़ी, चिढ़ने वाले और आक्रामक होते हैं। जब चीजें सही नहीं चलती तो ये नाराज हो जाते हैं। ये अपनी तरह ही काम करना पसंद करते हैं, और दूसरों की सुनना इन्हें अच्छा नहीं लगता है। उन्हें यह जानना ज़रूरी है कि ये अपनी आग से दूसरों को जला सकते हैं।

वृष-

वृष-

जीवन में स्थिरता के लिए ये लोग कठिन मेहनत करते हैं। ये अपने चाहने वालों के प्रति समर्पित होते हैं और रिश्ते में विश्वास बनाए रखते हैं। इन्हें जीवन की अच्छी चीजें पसंद हैं, ये कठिन परिश्रमी हैं। ये लोग प्यार करने लायक, विश्वास करने लायक और जमीन से जुड़े होते हैं।

नकारात्मक पक्ष –

नकारात्मक पक्ष –

ये लोग जिद्दी, कठोर और नहीं मानने वाले होते हैं। ये रिश्तों में अधिकार जताने वाले होते हैं। ये बेकार मामलों में भी खुद को ज़्यादा शामिल कर लेते हैं जो इनके लिए परेशानी कर सकता है।

मिथुन –

मिथुन –

ये एक ही व्यक्ति के दो पहलू की तरह होते हैं। इस राशि को ‘द ट्विन्स' कहते हैं, जिसका मतलब है दो ध्रुवों वाला व्यक्तित्व। एक और जहां ये अच्छे दोस्त, खुली सोच और सामाजिक होते हैं वहीं ये ज़िंदगी को जटिल नहीं बनाते हैं। ये समस्याओं का सामना करते हैं, कमजोर नहीं पड़ते। इनके कई दोस्त होते हैं और ये हर तरह के साहस के लिए तैयार रहते हैं।

नकारात्मक पक्ष-

नकारात्मक पक्ष-

ये आसानी से बेचैन हो जाते हैं। ये कई बार अगंभीर होते हैं और आवेग में निर्णय लेते हैं। जब वे तनाव या चिंता में होते हैं तो इनका एक अलग व्यक्तित्व दिखाई देता है। व्यक्तित्व में ‘विभाजन' के कारण ये बैचनी महसूस करते हैं।

कर्क –

कर्क –

इनके कई पॉज़िटिव पक्ष हैं। इनमें आत्म-सम्मान कम होता है, इसलिए ये भूल जाते हैं कि ये कितने शानदार हैं। ये देखभाल करने वाले, दयाशील, समर्पित, और वफादार होते हैं। ये शानदार श्रोता होते हैं और आपको दुख के समय अपना कंधा सिर रखने के लिए ये दे देते हैं। इसके अलावा, ये रचनात्मक, दयालु, संवेदनशील और सुंदर होते हैं।

नकारात्मक पक्ष –

नकारात्मक पक्ष –

ये कई बुरे लोगों से निपटते हैं जिनका लोगों को पता भी नहीं होता। अतिसंवेदनशील होने के कारण ये जल्दी चिंताग्रस्त, तनाव और मानसिक रूप से परेशान हो जाते हैं। ये अपने आप पर घमंड नहीं करते हैं।

सिंह-

सिंह-

ये जन्म से ही नेतृत्व क्षमता रखते हैं और हर चीज को बेहतरी से करते हैं। ये महत्वाकांक्षी, मिलनसार, मज़ाकिया और आकर्षक होते हैं।

नकारात्मक पक्ष-

नकारात्मक पक्ष-

ये ज़्यादा आत्म-लीन, अहंकारी और नाटकीय होते हैं। ये दूसरों के साथ अच्छा तालमेल नहीं सीखते। कई बार ये लोग सतही या अल्पज्ञता से व्यवहार करते हैं।

कन्या –

कन्या –

ऐसे लोग विश्लेषण करते हुये चीज की जड़ तक जाते हैं। ये चीजों को व्यवस्थित, विश्लेषणात्मक और तार्किक दृष्टि से देखते हैं। ये समस्या समाधान में अच्छे होते हैं और अच्छे श्रोता होते हैं।

नकारात्मक पक्ष-

नकारात्मक पक्ष-

ये हर चीज का विश्लेषण करने लगते हैं और ज़िंदगी को ज़्यादा गंभीर रूप से लेते हैं। ये एक तारतमयय से नहीं चलते। सही संतुलन के लिए इन्हें यह प्लान या रूटीन की ज़रूरत होती है। ये कई बार बहुत क्रिटिकल होते हैं।

तुला –

तुला –

इनके जीवन में शांति होती है, ये हर किसी से सम्मान और दयालुता से मिलते हैं। दूसरों की मदद करना इनका स्वाभाव होता है, यह इन्हें मानवतावादी बनाता है। जीवन में संतुलन बनाए रखने के लिए पूरी कोशिश करते हैं।

नकारात्मक पक्ष –

नकारात्मक पक्ष –

ये संशय को हर कीमत पर मिटाना चाहते हैं। इनमें कई मामलों में अच्छे गुण होते हैं, लेकिन कई बार ऐसे हालातों में जब किसी से मुक़ाबला होता है, तो इन्हें सीखना चाहिए कि ऐसे में दूसरों के प्रति क्या नज़रिया रखें। ये अक्सर दुविधा में और अलग से रहते हैं, जिससे इनके लिए परेशानी पैदा होती है।

वृश्चिक –

वृश्चिक –

इनकी त्वरित बुद्धि और हास्य व्यंग्य इन्हें खास बनाता है। ये गहरे भावनात्मक होते हैं और अपनी भावनाओं को छिपाते हैं, ताकि लोग फायदा ना उठा सकें। इसके अलाव, ये भावुक, संगठित और स्वतंत्र होते हैं।

नकारात्मक पक्ष –

नकारात्मक पक्ष –

ऐसे लोग चीजों को अपने पक्ष में बदलने वाले और प्रतिशोधी होते हैं। इन्हें धोका या चुनौती पसंद नहीं है, इसलिए गुस्सा करने के बजाय, ये निकल जाते हैं और आपसे बदला लेने की ठान लेते हैं।

धनु –

धनु –

इनमें अपने प्रति गहनता होती है जो लोगों को आकर्षित करती है। ये आग के पतंगे के तरह चुम्बकीय होते हैं। इसके अलावा, ये आशावादी, साहसी, मजा लेने वाले, मिलनसार और प्रेरित करने वाले होते हैं।

नकारात्मक पक्ष-

नकारात्मक पक्ष-

ये काम पर ज़्यादा ध्यान नहीं देते हैं। इन्हें गुस्सा ज़्यादा आता है, जिससे सामने वाला भी गुस्सा हो बैठता है। इनका एक निश्चित लक्ष्य नहीं होता है, जिससे ये बेचैन और बोर होते हैं।

मकर –

मकर –

ये कठिन परिश्रमी होते हैं। इन्हें जीवन में धन और सफलता मिलती है। इसके अलावा, ये बुद्धिमान, प्रेरित, तार्किक और व्यस्थित होते हैं। इनके लिए इनका काम सबसे महत्वपूर्ण चीज है।

नकारात्मक पक्ष –

नकारात्मक पक्ष –

ये अड़ियल, समझौता नहीं करने वाले और घमड़ी प्रवृति के होते हैं। इनके लिए दूसरों का आइडिया सुनना बेहद कठिन होता है। इनका स्वभाव खराब होता है। ये नाराज़ जल्दी हो जाते हैं।

कुम्भ-

कुम्भ-

ये लोग बुद्धिमान होते हैं। इन्हें घूमना, लोगों से मिलना और चैलेंज लेना पसंद है। ये घंटों बात कर सकते हैं, इनकी कई रुचियाँ होती हैं और कई तरह की गतिविधियां करना इन्हें पसंद है। ये अच्छे दूरदर्शी और लीडर होते हैं।

नकारात्मक पक्ष-

नकारात्मक पक्ष-

ये कई बार अलग से और भावनात्मक रूप से खोये हुये होते हैं। ये चीजों को प्रैक्टिकल ज़्यादा लेते हैं, जो बुरा नहीं है। यदि ये भावनात्मक पक्ष पर काबू नहीं करते हैं तो रिश्ता निभाना इनके लिए कठिन होता है।

मीन –

मीन –

ये भावनात्मक, संवेदनशील और देखभाल करने वाले होते हैं। ये सहानुभूति रखने वाले और अच्छे दोस्त बनाते हैं। इसके अलावा, ये अपने प्यार करने वालों के प्रति वफादार होते हैं और उनके लिए कुछ भी कर सकते हैं।

नकारात्मक पक्ष –

नकारात्मक पक्ष –

ये सच्चाई का सामना नहीं कर पाते और बचकर निकलना चाहते हैं। ये अकेलापन पसंद करते हैं और अपने लिए अकेलेपन में समय ज़रूर बिताते हैं।

English summary

The Two Sides Of Each Zodiac Sign Explained

Each zodiac has its flip side and knowing this side of the personality makes it interesting…
Story first published: Saturday, November 11, 2017, 12:30 [IST]
Please Wait while comments are loading...