For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

हरे मटर और मूंग दाल के चीले की लो कैलोरी रेसिपी

Posted By: अजीथा घोरपड़े
|
हरी मटर और मूंगदाल के चिल्ले की रेसिपी : घर पर कैसे बनाएं हरी मटर और मूंगदाल के चिल्ले की रेसिपी

चीला अमुमन बेसन का बनाया जाता है, लेकिन इसी चीले का हेल्दी और टेस्टी वर्जन है 'मूंग दाल का चीला'। जिसमें ​हैल्थ और स्वाद का गजब का मिश्रण होता है। क्योंकि मूंग दाल प्रोटीन का बहुत अच्छा स्त्रोत होती है। मटर और छिलके वाली मूंग दाल को एक साथ पीस कर बनने वाला यह चीला, उत्तरी भारत का फेमस स्ट्रीट फूड है।जबकि वहीं इसके दक्षिण भारत के स्वरूप को पेसारत्तू या फिर डोसा कहा जाता है। दिखने में यह पेन केक और क्रेप्स के माफिक लगते है।

इन चीलों को बनाने के लिए मूंग दाल को कुछ घंटो के लिए भीगों कर रखा जाता है, फिर इसमे हरे मटर और बाकि सामग्री मिलाकर एक मुलायम और गाढ़ा बैटर तैयार किया जाता है। आप इसे सॉस, हरी चटनी या फिर अपनी पसंदीदा डिप के साथ गर्मा-गर्म परोस सकते है।

इस स्वादिष्ट चीलों को हालांकि बहुत से ट्विस्ट और टर्न देकर बनाया जा सकता है, लेकिन हमने आज यहां मटर और मूंग दाल के साथ कुछ मसालें मिलाकर चीलें तैयार किए है। तो आइए देखते है झटपट तैयार होने वाले इन चीलों का रेसिपी वीडियो, फोटोज और स्टेप बाई स्टेप विधि के जरिए इन्हें घर पर ही बनाने की कोशिश करते है।

हरे मटर और मूंग दाल के चीले की रेसिपी| कैसे बनाएं मटर और मूंग दाल का चीला| छिलके वाली दाल और मटर के चीले की रेसिपी| मूंग दाल के पुडले की रेसिपी
हरे मटर और मूंग दाल के चीले की रेसिपी| कैसे बनाएं मटर और मूंग दाल का चीला| छिलके वाली दाल और मटर के चीले की रेसिपी| मूंग दाल के पुडले की रेसिपी
Prep Time
2 Hours5 Mins
Cook Time
5M
Total Time
2 Hours10 Mins

Recipe By: मीना भंडारी

Recipe Type: मेन कोर्स

Serves: 7

Ingredients
  • छिलके वाली मुंग दाल - 1 कप

    पानी - भिगोने के लिए

    हरी मिर्च - 2

    जीरा - 2 टी स्पून

    नमक - 2 टी स्पून

    मटर - ¾ कप

    हिंग - चुटकी भर

Red Rice Kanda Poha
How to Prepare
  • 1. एक कप में मूंग दाल लेकर, उसे अच्छे से धो लें।

    2. अब दाल में मिलाकर उसे 2 घंटे तक भिगने दें।

    3. फिर भिगी हुई मूंग दाल को मिक्सी जार में डालें।

    4. इसी जार में हरी मिर्च और जीरा भी मिक्स कर दें।

    5. अब नमक और मटर डालें।

    6. फिर एक चुटकी हिंग भी डाल दें।

    7. इन सभी को पीस कर एक अच्छा गाढ़ा बैटर बना लें।

    8. अब गर्म हुए पैन में बैटर डालें।

    9. इस बैटर को गोलाकार आकार में फैला लें।

    10. 2-3 मिनिट तक पकने दें।

    11. अब साइड बदलें और इसे दूसरी साइड से भी 1 मिनिट के लिए पकने दें।

    12. एक बार जब यह दोनों ओर से पक जाए तो, इसे फोल्ड कर, गर्मा-गर्म परोसे।

Instructions
  • विभाजित मूंगदाल को 3 से 4 घंटे भिगोकर रख दें
  • ज्यादा पानी में इसमें डालन की जरूरत नहीं है इसमें थोड़ा पानी ही सही है
  • ताजा मटर या फ्रोजन मटर का उपयोग किया जा सकता है
  • इन लोगों के लिए ये डिश बिल्कुल सही हो जो अपना वजन कम करना चाहते है.
Nutritional Information
  • सर्विंग साइज - 1
  • कैलोरीज - 90.9 cal
  • प्रोटीन - 7 g
  • कार्बोहाइड्रेट्स - 8.1 g

1. एक कप में मूंग दाल लेकर, उसे अच्छे से धो लें।

2. अब दाल में मिलाकर उसे 2 घंटे तक भिगने दें।

3. फिर भिगी हुई मूंग दाल को मिक्सी जार में डालें।

4. इसी जार में हरी मिर्च और जीरा भी मिक्स कर दें।

5. अब नमक और मटर डालें।

6. फिर एक चुटकी हिंग भी डाल दें।

7. इन सभी को पीस कर एक अच्छा गाढ़ा बैटर बना लें।

8. अब गर्म हुए पैन में बैटर डालें।

9. इस बैटर को गोलाकार आकार में फैला लें।

10. 2-3 मिनिट तक पकने दें।

11. अब साइड बदलें और इसे दूसरी साइड से भी 1 मिनिट के लिए पकने दें।

12. एक बार जब यह दोनों ओर से पक जाए तो, इसे फोल्ड कर, गर्मा-गर्म परोसे।

क्या मूंग की दाल वजन कम करने में मददगार होती है?

जी हां, भीगे हुए मूंग या भीगी हुई मूंग की दाल खाने से कोलेसिस्‍टोकिनिन हार्मोन (cholecystokinin hormone) सक्रिय हो जाता है, जिससे पाचन क्रिया बेहतर होती है, साथ ही थोड़ा सा खाने के बाद ही लगने लगता है कि पेट भर गया। इस प्रकार मूंग की दाल वजन को नियंत्रित करने में मददगार साबित होती है।

मूंग की दाल में कौन सा विटामिन पाया जाता है?

मूंग की दाल में मुख्‍य रूप से विटामिन बी कॉम्‍प्लेक्स होता है। इसके अलावा विटामिन ई, विटामिन के और विटामिन सी भी होता है। मूंग की दाल का असली फायदा तब मिलता है, जब आप इसके साथ रोटी, या भात (पका हुआ चावल) खाते हैं। कार्बोआइड्रेट्स, विटामिन और प्रोटीन की सही मात्रा शरीर के अंगों को बनाने में मददगार होती है।

क्या हम मूंग की दाल रोज़ाना खा सकते हैं?

मूंग की दाल में आयरन कंटेंट की मात्रा अच्छी होती है, इसलिए अगर आपको खून की कमी यानि कि आप एनेमिक हैं, तो रोज़ाना मूंग की दाल का सेवन आपके लिए फयदेमंद साबित हो सकता है। इससे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है, जिससे कई प्रकार की बीमारियों के रिस्क को कम होता है।

मूंग की दाल खाने के क्या-क्या फायदे हैं?

मूंग की दाल प्रोटीन से भरपूर होती है, इसलिए इसे अंडे के विकल्प के तौर पर इस्‍तेमाल कर सकते हैं। मूंग की दाल में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो क्रोनिक बीमारियों से बचाने में मददगार होते हैं। हृदय रोग, पेट संबंधी रोग, कोलेस्ट्रॉल आदि से बचाने में मददगार होती है।

English summary

हरे मटर और मूंग दाल के चीले की रेसिपी

Green peas and moong dal chilla is a well-known dish, especially in North India. Watch the video on how to make this dish with the step-by-step procedure h
[ 4 of 5 - 55 Users]
Desktop Bottom Promotion