For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

रिलेशनशिप में होने वाली उम्‍मीदों को कैसे करें कम

|

रिलेशनशिप का मतलब है जिससे आप प्‍यार करते हैं उसे खुश रखना और खूब प्‍यार देना लेकिन कई बार भावनाओं, व्‍यवहार, डर और सपनों के चक्‍कर में रिलेशनशिप में कड़वाहट आ जाती है।

जब किसी रिश्‍ते में उम्‍मीदें बढ़ती हैं तो परेशानियां भी पनपने लगती हैं। हम सामने वाले व्‍यक्‍ति से ये उम्‍मीद नहीं कर सकते हैं कि जैसे हम उसके साथ हैं, वो भी हमारे साथ वैसा ही रहे। रिलेशनशिप में उम्‍मीदें थोड़ी कम ही रखनी चाहिए।

How To Reduce Expectations In A Relationship

एक रिश्‍ते में कुछ उम्‍मीदें रखना सामान्‍य है जैसे कि एक-दूसरे से प्‍यार या सम्‍मान की उम्‍मीद करना। लेकिन कई बार हम अपने पार्टनर से बहुत ज्‍यादा उम्‍मीदें कर बैठते हैं जिनके पूरा ना होने पर रिश्‍ते में कड़वाहट आने लगती है। इस वजह से मन में कुंठा आ जाती है और रिश्‍ता खराब होने लगता है। आपको पता होना चाहिए आपको अपने रिश्‍ते से क्‍या चाहिए। ये रिलेशनशिप के संतुलन के लिए बहुत जरूरी है। सपनों की बजाय असल जिंदगी में रहकर आप ऐसा कर सकते हैं।

आपसी समझ

आपसी समझ

अगर आपको अपने तरीके से प्‍यार करता है तो आपको वो समझ नहीं आ सकता है लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि वो आपको प्‍यार नहीं करते। आपको अपने व्‍यवहार को बदलने की जरूरत है ना कि अपने पार्टनर को। अगर दो लोग एक-दूसरे को अच्‍छी तरह से समझते हैं तो बेकार की उम्‍मीदों के लिए कोई जगह नहीं रह जाती है।

जानें आप क्‍या चाहते हैं

जानें आप क्‍या चाहते हैं

सबसे पहले तो ये तय करें कि आप इस रिश्‍ते से क्‍या चाहते हैं। बेकार की चीजों में उलझकर अपने रिश्‍ते को खराब ना करें बल्कि असली जिंदगी को समझें।

कोई परफैक्‍ट नहीं है

कोई परफैक्‍ट नहीं है

उम्‍मीदों का हकीकत से संतुलन होना चाहिए। आपकी सारी उम्‍मीदों का पूरा होना तो नामुमकिन है। इससे आपको गुस्‍सा आ सकता है। हर इंसान अपने आप में परफेक्‍ट है, आपको बस उसे समझना पड़ेगा। गलतियां करने में कोई बुराई नहीं है। अपनी जिंदगी में खुशियां लाने के लिए आपको अपनी उम्‍मीदों को थोड़ा कम करना पड़ेगा।

ध्‍यान रखें

ध्‍यान रखें

जब आप किसी इंसान से कुछ चीजों की उम्‍मीदें करना छोड़ देते हैं तो अपने व्‍यवहार में आने वाले बदलाव को भी देखें। तब आपको पता चलेगा कि आपका पार्टनर आपके लिए सब करता है बस वो आपकी उम्‍मीदों के हिसाब से नहीं होता।

स्‍टैंडर्ड और रिलेशनशिप की उम्मीदें

स्‍टैंडर्ड और रिलेशनशिप की उम्मीदें

क्‍वालिटी, उसूलों और आदतों को ध्‍यान में रखते हुए अपने पार्टनर से कोई उम्‍मीद करें। हो सकता है कि आप इतनी ज्‍यादा उम्‍मीदें लगाकर बैठ जाएं जिनका असल जिंदगी में पूरा होना नामुमकिन हो। अपने पार्टनर को समझ कर उम्‍मीदें बनाएं।

उनकी जगह खुद को रख कर देखें

उनकी जगह खुद को रख कर देखें

किसी से भी कोई उम्‍मीद करने से पहले उसको समझने की कोशिश करें। ये जानें कि वो क्‍यों आपकी उम्‍मीदों पर खरा नहीं उतर पा रहा है। उसकी परिस्थिति को समझें। इससे आपका रिश्‍ता भी मजबूत होगा।

थोड़ा झगड़ा भी जरूरी है

थोड़ा झगड़ा भी जरूरी है

इसका मतलब ये नहीं है कि आपको अपने पार्टनर से रोज लड़ाई करनी है। थोड़ा-बहुत झगड़ा भी रिश्‍ते के लिए अच्‍छा होता है। इससे आपको पता चलता है कि आपका पार्टनर आपको कितना प्‍यार करता है और आप दोनों कैसे एक साथ मिलकर अपने झगड़े को सुलझाते हैं।

English summary

How To Reduce Expectations In A Relationship

One should know what he wants out of a relationship. It is very important to balance a relationship. This can be done by adopting the realistic approach.
Story first published: Wednesday, October 23, 2019, 9:30 [IST]
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more