For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

रेगुलर शैम्पू और न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू में क्‍या है अंतर, जानें हेयरवॉश के ल‍िए क्‍या है बेहतर?

|

अपने बालों की केयर करने के लिए सबसे बेस्ट शैम्पू का चयन करना कभी भी आसान नहीं होता है। आज के समय में मार्केट में कई ब्रांड्स के तरह-तरह के विकल्प मौजूद हैं। इतना ही नहीं, आपको इन दिनों मार्केट में रेगुलर शैम्पू के अलावा न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू भी देखने को मिलते होंगे। इनके सिर्फ नाम में ही अंतर नहीं है, बल्कि इन दोनों ही टाइप के शैम्पू का बालों पर काम करने का तरीका भी अलग है।

आमतौर पर, लोग न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू का नाम सुनकर थोड़ा कन्फ्यूज़ हो जाते हैं। ऐसे में जरूरी है कि आपको इन दोनों शैम्पू के बीच का अंतर पता हो। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू और रेगुलर शैम्पू के बीच के अंतर के बारे में बता रहे हैं, ताकि आप सही शैम्पू का चयन आसानी से कर पाएं-

रेगुलर शैम्पू

रेगुलर शैम्पू

मार्केट में रेगुलर शैम्पू के अनगिनत शैम्पू के विकल्प उपलब्ध हैं। आप अपनी स्कैल्प व बालों की जरूरतों का ख्याल रखते हुए इनमें से किसी शैम्पू का चयन कर सकते हैं। मसलन, अगर आपकी स्कैल्प रूखी है और डैंड्रफ की समस्या है, तो आपके लिए एंटी-डैंड्रफ शैम्पू का इस्तेमाल करना लाभदायक हो सकता है। इसी तरह, अगर आप अपने बालों को कलर या हाइलाइट करते हैं, उनके लिए विशेष रूप से रंगीन बालों के लिए डिज़ाइन किए गए शैम्पू का उपयोग किया जा सकता है-

रेगुलर शैम्पू की सामग्री

रेगुलर शैम्पू की सामग्री

आमतौर पर, रेगुलर शैम्पू में कई तरह के इंग्रीडिएंट्स व हार्श केमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है। यह आपके बालों को क्लीन तो करते हैं, लेकिन इसके अधिक इस्तेमाल से बाल अक्सर रूखे हो जाते हैं। यह आपके बालों से नेचुरल ऑयल्स को छीन सकते हैं। इसलिए, अगर आप रेगुलर शैम्पू का चयन कर रहे हैं तो कार्बनिक और नेचुरल इंग्रीडिएंट्स वाले शैम्पू की तलाश करें जिसमें कोई कृत्रिम रंग या सुगंध न हो।

न्यूट्रलाइजिंग शैम्पू क्या है?

न्यूट्रलाइजिंग शैम्पू क्या है?

न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू अधिक प्रोसेस्ड और सैचुरेटिड टाइप के शैम्पू हैं। न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू का मुख्य काम आपके बालों के पीएच स्तर को बनाए रखना है। यदि आप कई हेयर प्रोडक्ट्स और हेयर रिलैक्सर्स का उपयोग करने के आदी हैं, तो आपको एक न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू की आवश्यकता है। दरअसल, जब आप अपने बालों में कई तरह के केमिकल बेस्ड हेयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं, तो इससे आपके बालों का पीएच स्तर गड़बड़ा जाता है। रिलैक्सर जैसे प्रोडक्ट बालों का पीएच स्तर बढ़ाते हैं। एक निश्चित समय के बाद अगर पीएच स्तर को लेवल में ना लाया जाए तो इससे कई तरह की समस्याएं खड़ी हो जाती हैं और इससे बाल टूट सकते हैं।

न्यूट्रलाइजिंग शैम्पू क्यों जरूरी हैं?

न्यूट्रलाइजिंग शैम्पू क्यों जरूरी हैं?

बालों के पीएच स्तर को बनाए रखने के साथ-साथ प्रोडक्ट बिल्डअप को हटाने के लिए भी न्यूट्रलाइजिंग शैम्पू की जरूरत होती है। दरअसल, जब आप रिलैक्सर प्रोडक्ट को साफ पानी और रेगुलर शैम्पू से धोते हैं, तो प्रोडक्ट के अवशेष बालों में रह जाते हैं। रिलैक्सर्स के पास कुछ ऐसी सामग्रियां होती हैं जिन्हें रेगुलर या नॉर्मल शैम्पू और पानी से बालों से हटाना मुश्किल होता है।

क्या न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू आपके बालों के लिए अच्छा है?

क्या न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू आपके बालों के लिए अच्छा है?

न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू कुछ खास परिस्थितियों में ही आपके बालों के लिए अच्छा होता है। क्योंकि यह कोई सामान्य शैम्पू नहीं है जो हर तरह के बालों पर सूट करता हो। न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू आपके बालों के लिए अच्छा होता है जब आप-

• बालों में रिलैक्सर का प्रयोग करें।

• विभिन्न हेयर केयर प्रोडक्ट के साथ अपने बालों में एक्सपेरिमेंट करें

• अगर आपके बालों में अधिक क्षारीयता है

न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू का इस्तेमाल करने के क्या फायदे हैं?

न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू का इस्तेमाल करने के क्या फायदे हैं?

न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू आपके बालों को कई तरह से फ़ायदा पहुंचा सकता है। वो हैं-

• आपके बालों के पीएच को संतुलित करता है

• बालों को टूटने से रोकता है

• बालों का रूखापन दूर करें

• बालों को चिकना और स्वस्थ रखता है

• बालों को बाहर से सुंदर और अंदर से मजबूत बनाता है

न्यूट्रलाइज़िंग शैम्पू का उपयोग कब करें?

चूंकि न्यूट्रलाइज़िंग शैंपू नियमित शैंपू की तुलना में अधिक अम्लीय होते हैं, इसलिए इनका उपयोग केवल तभी करना उचित है जब आपके बाल क्षारीय हों। साथ ही, इनका इस्तेमाल कभी भी रेगुलर शैम्पू की तरह नहीं किया जाना चाहिए।

English summary

Difference Between Regular Shampoo And Neutralizing Shampoo In Hindi

Regular Shampoo and Neutralizing Shampoo work differently on the hair. To know the difference, read article.
Story first published: Thursday, May 12, 2022, 9:00 [IST]