For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

Karwa Chauth 2020: तिथि और शुभ मुहूर्त के साथ जानें इस दिन चंद्रोदय का समय

|

विवाहित महिलाओं के लिए करवाचौथ सबसे बड़ा पर्व है। हिंदू धर्म में इस व्रत का विशेष महत्व है। सुहागिन महिलाएं अपने पति की सुख-समृद्धि और लंबी आयु की कामना के साथ इस दिन व्रत करती हैं। महिलाएं इस खास व्रत के लिए पूरे साल इंतजार करती हैं। करवा चौथ का व्रत खासतौर पर उत्तर भारत में मनाया जाता है। मगर अब इसकी लोकप्रियता देश के बाकि हिस्सों में भी बढ़ रही है। जानते हैं इस साल करवा चौथ का व्रत कब रखा जाएगा और चांद निकलने का समय क्या होगा।

करवा चौथ 2020 तिथि

करवा चौथ 2020 तिथि

हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन करवा चौथ का व्रत रखा जाता है। इस साल करवा चौथ का व्रत 4 नवंबर, बुधवार के दिन रखा जाएगा।

करवा चौथ व्रत: मिट्टी के करवे से ही पानी पीकर महिलाएं क्यों तोड़ती हैं व्रत?

करवा चौथ पूजा मुहूर्त

करवा चौथ पूजा मुहूर्त

करवा चौथ पूजा मुहूर्त- शाम 5 बजकर 30 मिनट से 6 बजकर 48 मिनट तक

करवा चौथ पर चंद्रोदय का समय- रात 8 बजकर 15 मिनट पर

चतुर्थी तिथि का आरंभ: 04 नवंबर को 03:24 पर

चतुर्थी तिथि समाप्त: 05 नवंबर को 05:14 पर

करवा चौथ व्रत का महत्व

करवा चौथ व्रत का महत्व

करवाचौथ के दिन भगवान गणेश की वंदना की जाती है और इनके साथ भोलेनाथ, माता पार्वती और चंद्र देव को पूजा जाता है। इस साल करवाचौथ का व्रत बुधवार को पड़ने से इस पर्व की महत्ता और बढ़ गयी है। इस दिन महिलाएं पूरे दिन व्रत करती हैं और रात में चांद के दीदार के बाद ही अपना व्रत खोलती हैं। वो इस दिन अपने सुखद विवाहित जीवन की कामना करती हैं। सुहागिन महिलाएं यह निर्जला व्रत अपने पति के अच्छे स्वास्थ्य और लंबी आयु के लिए करती हैं। लोगों की आस्था है कि करवाचौथ का व्रत करने से पुण्य मिलता है और दांपत्य जीवन की कठिनाईयां दूर होती हैं।

Most Read: छलनी से चांद देखकर ही क्यों तोड़ा जाता है करवाचौथ का व्रत

English summary

Karwa Chauth 2020: Date, Puja Muhurat, Moon Timings, Significance

Karwa Chauth 2020: Check out the Date, timings and puja muhurat and significance of the festival in Hindi.