For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

शनि जयंती: भगवान शनि की आरती से बन जाएंगे सारे बिगड़ें काम, मिलेगा उनका आशीर्वाद

|

शनिदेव को क्रूर देवता माना जाता है, मगर ऐसा नहीं है। वो उन जातकों पर अपना प्रेम भी बरसाते हैं जो सच्चे और साफ़ मन से उनकी आराधना करते हैं। वो अपने भक्तों की मनोकामनाएं भी पूरी करते हैं और साथ ही जीवन में आने वाले कष्टों से भी उनकी रक्षा करते हैं। शनि देव मनुष्य को उसके कर्मों के अनुरूप फल देते हैं। अगर आप भी शनि महाराज की कृपा पाना चाहते हैं तो मन में बिना किसी छल-कपट के उनकी पूजा करें। आप शनिदेव की विशेष कृपा पाना चाहते हैं तो शनि जयंती के अलावा हर शनिवार को उनकी आरती कर सकते हैं। सच्चे मन से की गई आपकी साधारण पूजा भी स्वीकार कर ली जाएगी।

शनि भगवान की आरती

जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी।
सूर्य पुत्र प्रभु छाया महतारी॥
जय जय श्री शनि देव....

श्याम अंग वक्र-दृ‍ष्टि चतुर्भुजा धारी।
नी लाम्बर धार नाथ गज की असवारी॥
जय जय श्री शनि देव....

क्रीट मुकुट शीश राजित दिपत है लिलारी।
मुक्तन की माला गले शोभित बलिहारी॥
जय जय श्री शनि देव....

मोदक मिष्ठान पान चढ़त हैं सुपारी।
लोहा तिल तेल उड़द महिषी अति प्यारी॥
जय जय श्री शनि देव....

देव दनुज ऋषि मुनि सुमिरत नर नारी।
विश्वनाथ धरत ध्यान शरण हैं तुम्हारी॥
जय जय श्री शनि देव भक्तन हितकारी।।

English summary

Shani Dev Aarti Stuti Lyrics In Hindi

Shani Dev Aarti: The Shani is an extremely strong planet, worshiping the planet during its dasha kills its malefic effects.