इन वजहों से प्रसव के दौरान फंस जाता है बच्चा

By Parul Rohatgi
Subscribe to Boldsky

अकसर प्रसव के दौरान बच्चे के बड़े आकार के कारण सी-सेक्शन द्वारा डिलीवरी करवानी पड़ती है। वहीं कुछ बच्चे गर्भ में पूरी तरह से विकसित ही नहीं हो पाते हैं।

गर्भावस्था के आखिरी हफ्तों में बच्चे के विकास के बारे में पता लगाया जा सकता है। साथ ही डिलीवरी का समय भी जाना जा सकता है।

कई बार प्रसव के दौरान बच्चा फंस जाता है या उसे बाहर निकालने में दिक्कत होती है। इस बारे में आपको कुछ जरूरी बातें जान लेनी चाहिए।

 Labor

गलत पोजीशन
प्रसव के समय बच्चे का सिर हमेशा नीचे की तरफ होना चाहिए और उसका मुंह मां की पीठ की ओर रहना चाहिए। बच्चे की ठोड़ी उसके सीने से लगी होती चाहिए और उसका सिर पेल्विस की ओर रहना चाहिए ताकि वो आराम से बाहर निकल सके। इसे सेफालिक प्रस्तुति कहते हैं। गर्भावस्था के 32वें और 36वें सप्ताह में बच्चा इस पोजीशन में आ जाता है।

लेकिन कुछ मामलों में बच्चा गलत पोजीशन ले लेता है जिसकी वजह से बच्चे को बाहर निकलने में दिक्कतें आती हैं। जब प्रसव के लिए बच्चा सही स्थिति में नहीं होता है तब डॉक्टर सी-सेक्शन की सलाह देते हैं। अगर बच्चा पहले सही पोजीशन में हो लेकिन बाद में वो अपनी पोजीशन बदल ले तो ऐसे में सिजेरियन ऑपरेशन किया जाता है।

बच्चे का बड़ा आकार
जब बच्चे‍ का सिर और शरीर पेल्विस के लिए बहुत बड़ा होता है तो इसे सिफालिक पेल्विक डिस्प्रपोर्शन कहते हैं। ऐसी स्थिति बहुत ही कम देखी जाती है। प्रसव से पूर्व अगर बच्चे के आकार के बारे में पता चल जाए और पेल्विस के अनुसार वह बहुत बड़ा लगे तो ऐसे में सी-सेक्शन द्वारा बच्चे को बाहर निकाला जाता है।

कंधे में परेशानी
इस स्थिति को शोल्डर गिर्डल डिस्टोकिया कहते हैं जब बच्चे का कंधा और सिर एक-दूसरे से सामंजस्य नहीं बना पाता है। प्रसव से पहले से बेहद मुश्किल समय होता है। जननमार्ग में नाभि के संकुचन के कारण ऐसा होता है। योनि से जन्मे लेने वोल 0-3-1 प्रतिशत बच्चों में ऐसा होता है।

प्रसव के दौरान पोजीशन
प्रसव के दौरान आपकी पोजीशन बहुत महत्व रखती है। अगर आप प्रसव के समय भी एक्टिव रहती हैं तो इससे जननागों में पेल्विस के लिगामेंट्स को बढ़ने में मदद मिलती है। प्रसव के दौरान आप जितना ज्यादा क्रियाशील रहेंगीं उतना ही ज्यादा आसानी से प्रसव हो जाएगा। कुछ मामलों में पीठ के बल लेटने से सामान्य प्रसव में देरी और मुश्किलें आ सकती हैं।

पेल्विस का अनियमित आकार
हर मनुष्य के अंगों और शरीर में भिन्नता पाई जाती है। उसी प्रकार महिलाओं की पेल्विस का आकार और आकृति भी अलग-अलग होती है।

सामान्य‍ तौर पर पेल्विस का आकार चार तरह का होता है – गायनेसॉइड, प्लै‍टिपॉइड, एंथ्रोपॉइड और एंड्रॉइड। पेल्विस का आकार आनुवांशिक, वंशानुगत और नस्लीय विशेषता पर आधारित होता है। महिलाओं में प्रसव उनकी पेल्विस के आकार पर ही निर्भर करता है।

किसी चोट, ट्रॉमा या आपके जन्म के तरीके के कारण भी पेल्विस का आकार छोटा या अनियमित हो सकता है। प्रसव के दौरान बच्चे को बाहर आने में दिक्कत हो सकती है। प्रसव से पहले गर्भावस्था के हर चरण का पूरी तरह से ध्यान रखना चाहिए और जरूरत पड़ने पर सी-सेक्शन करवाया जाता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    इन वजहों से प्रसव के दौरान फंस जाता है बच्चा | 5 Reasons Why Babies Get Stuck During Labor

    Have you heard of moms giving birth through c-section as their baby was ‘too big’? Most babies don’t grow too big but there are exceptions.
    Story first published: Thursday, July 27, 2017, 14:00 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more