For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

World Thalassemia Day 2022: थैलेसीमिया से पीड़ित महिला प्रेगनेंसी प्‍लान करते हुए रखें इन बातों का ध्‍यान

|

हर साल 8 मई को विश्व थैलेसीमिया दिवस मनाया जाता है। यह दिन आम जनता के बीच थैलेसीमिया के बारे में जागरूकता बढ़ाने और वैश्विक थैलेसीमिया समुदाय को जोड़ने और रोगियों के जीवन और कल्याण में सुधार के लिए बदलाव की वकालत करने में सहायता करने के लिए समर्पित है।

थैलेसीमिया एक ऑटोसोमल रिसेसिव ब्‍लड डिसऑर्डर है, एक प्रकार का जेनेटिक डिसऑर्डर जिसमें शरीर का हीमोग्लोबिन संश्लेषण कम या दबा हुआ होता है। जिस वजह से इस स्थिति में लाल रक्त कोशिकाओं को कमजोर और नष्ट करने के लिए जानी जाती है, जो शरीर के हीमोग्लोबिन के उत्पादन में हस्तक्षेप करती है, और इसके परिणामस्वरूप हल्का या गंभीर एनीमिया यानी रक्‍त की कमी होती है।

थैलेसीमिया से पीड़ित महिलाएं जब प्रेगनेंसी प्‍लान करती है तो उनमें गर्भावस्था को लेकर कुछ समस्‍याएं देखने को मिल सकती है, इसल‍िए इस स्थित‍ि का निदान समय पर होना जरुरी है। आज हम यहां, थैलेसीमिया से पीड़ित महिलाओं में गर्भावस्था की प्‍लान‍िंग से लेकर इससे जुड़ी गंभीरता पर चर्चा करेंगे।

थैलेसीमिया है क्या?

थैलेसीमिया है क्या?

थैलेसीमिया एक आनुवंशिक रोग है, जो मनुष्य के रक्त को प्रभावित करता है। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें रोग परिवार में एक पीढ़ी से दूसरे पीढ़ी तक जा सकता है। एक स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में उसके बॉडी वेट का सात प्रतिशत खून होता है। यह करीब 4.7 से 5.5 लीटर होता है। यह खून बोन मैरो में बनता है। बोन मैरो इंसान की प्रमुख हड्डियों के बीच पाया जाने वाला मुलायम ऊतक है। जिसे अस्थि मज्जा भी कहते हैं। जिस रोगी को थैलेसीमिया हो जाता है, उसके शरीर में हीमोग्लोबीन में गड़बड़ी आ जाती है। इससे लाल रक्त कण (RBC) नहीं बन पाते हैं और शरीर में खून की कमी होने लगती है और यदि मरीज को थैलेसीमिया मेजर हो, तो 25-30 साल में उसके शरीर में इतनी समस्याएं आने लगती हैं कि अंतत: उसकी मृत्यु हो जाती है।

थैलेसीमिया और गर्भावस्था

थैलेसीमिया और गर्भावस्था

थैलेसीमिया और गर्भावस्था गर्भावस्था के दौरान थैलेसीमिया मां और भ्रूण दोनों के लिए कई जटिलताओं से जुड़ा हुआ है। चूंकि थैलेसीमिया का अक्सर जीवन के पहले दो वर्षों के भीतर निदान किया जाता है, इस स्थिति वाले लोग को अपनी बढ़ती उम्र के साथ इस स्थिति के बारे में पता होता है।

यही कारण है कि थैलेसीमिया से पीड़ित कई महिलाएं अक्सर अपनी स्थिति और इससे संबंधित लक्षणों और जटिलताओं जैसे बढ़े हुए प्लीहा और अनियमित पीरियड्स के बारे में जानकर अपनी गर्भावस्था को लेकर चिंतित रहते हैं।

थैलेसीमिया प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

थैलेसीमिया प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

थैलेसीमिया से पीड़ित महिलाएं, विशेष रूप से बीटा-थैलेसीमिया मेजर जैसे गंभीर रूपों वाली महिलाओं को बार-बार, ब्‍लड ट्रांसफ्यूजन की जरुरत होती है। अध्ययनों का कहना है कि इस प्रक्रिया से उनके शरीर में आयरन की अधिकता हो जाती है जिससे उनके प्रजनन कार्य को नुकसान पहुंचता है और हाइपोगोनैडोट्रोपिक हाइपोगोनाडिज्म जैसी स्थितियां पैदा हो सकती हैं। एक अध्ययन के अनुसार, लगभग 51-66 प्रतिशत थैलेसीमिया रोगियों में कुछ अन्य प्रजनन प्रणाली विकास संबंधी समस्याएं देखने को मिलती हैं जैसे यौन रोग, यौवन की विफलता, छोटा कद और बांझपन। पिट्यूटरी ग्रंथि, जो हमारे शरीर में प्रजनन हार्मोन को उत्तेजित करने या उत्पन्न करने में मदद करती है, शरीर में लौह अधिभार के कारण बड़ी मात्रा में लौह जमा कर सकती है। ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (एलएच) और कूप-उत्तेजक हार्मोन (एफएसएच), एस्ट्रोजन, और टेस्टोस्टेरोन सभी गोनैडोट्रोपिन और वृद्धि हार्मोन हैं जो हमारे प्रजनन के लिए आवश्यक हैं। लोहे के अधिभार के कारण पिट्यूटरी सिकुड़ जाती है, जो अपरिवर्तनीय हो सकती है और डिम्बग्रंथि ऊतक में जमा हो सकती है जिससे अंडा नष्ट हो सकता है।

गर्भावस्था और थैलेसीमिया

गोनैडोट्रोपिन और वृद्धि हार्मोन की शिथिलता प्रजनन प्रणाली के सामान्य कामकाज को बाधित करती है। यह स्थिति महिलाओं में अंडे की परिपक्वता, उसके निषेचन, भ्रूण के विकास और इस प्रकार, समग्र गर्भावस्था को प्रभावित करके बांझपन की ओर ले जाती है। एक अध्ययन के अनुसार, थैलेसीमिया इंटरमीडिएट के रोगियों में, गर्भावस्था के दौरान कुछ जटिलताओं में भ्रूण का नुकसान, गर्भपात, समय से पहले प्रसव, भ्रूण का खराब विकास और घनास्त्रता जैसी समस्‍याएं शामिल हो सकती हैं। यह मुख्य रूप से आयरन के अधिभार के कारण शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव में वृद्धि के कारण होता है। एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि थैलेसीमिया से लीवर की शिथिलता जैसी जटिलताएं हो सकती हैं, जिससे मधुमेह जैसी बीमारियां हो सकती हैं, जो बदले में महिलाओं में प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं।

थैलेसीमिया का टेस्‍ट

थैलेसीमिया गर्भावस्था को हाई रिस्‍क प्रेगनेंसी या उच्‍च जोखिम गर्भावस्‍था से जोड़कर माना जाता है। यह महत्वपूर्ण है कि अपेक्षित माता-पिता नियमित रूप से प्रसवपूर्व जांच करवाएं ताकि मां और बच्चे के स्वास्थ्य की लगातार जांच की जा सके। इससे परिवार नियोजन बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। HPLC टेस्ट करा लिया जाता है। जिस दंपत्ति ने यह टेस्ट शादी से पूर्व न कराया हो और उन्हें अंदाजा हो कि उनको थैलेसीमिया माइनर है, तो गर्भ धारण करने के 10वें से 12वें सप्ताह के बीच उन्हें म्यूटेशन टेस्ट करा लेना चाहिए और यदि थैलेसीमिया के लक्षण पाए जाएं, तो गर्भपात करा लेना ही बेहतर उपाय है। यह गर्भपात कानूनन सही भी माना जाता है।

लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या और हीमोग्लोबिन सामग्री में किसी भी असामान्यता का आकलन करने के लिए एक कंप्‍लीट ब्‍लड काउंट (सीबीसी) नामक रक्त परीक्षण भी किया जाना चाहिए।

थैलेसीमिया के साथ गर्भावस्था की योजना कैसे बनाएं?

बीटा-थैलेसीमिया मेजर वाले जोड़े यह निर्धारित करने के लिए आईवीएफ उपचार और प्री-इम्प्लांटेशन आनुवंशिक परीक्षण चुन सकते हैं कि भ्रूण में रोग मौजूद है या नहीं। इन प्रक्रियाओं से रोगों के संचरण की संभावना कम हो जाती है क्योंकि केवल उन भ्रूणों को ही गर्भाशय में प्रत्यारोपित किया जा सकता है जो रोग से मुक्त हैं। दंपति को गर्भवती होने के बाद स्त्री रोग विशेषज्ञ, भ्रूण चिकित्सा विशेषज्ञ और हेपेटोलॉजिस्ट के साथ नियमित रूप से प्रसवपूर्व परामर्श में लेना चाहिए।

English summary

World Thalassemia Day 2022: Pregnancy In Women With Thalassemia

World Thalassemia Day 2022: in this article, we will discuss details on pregnancy in women with thalassemia. Take a look.
Story first published: Saturday, May 7, 2022, 14:15 [IST]