For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

कैसे सुलझाएं दो बच्‍चों के बीच की लड़ाई

|
Kids Fight
जिन मां-बाप के दो बच्‍चे होते हैं उनको अपने दोनों बच्‍चों पर एक साथ काफी ध्‍यान देना पड़ता है। पर जब बच्‍चे आपस में लड़ाई कर लें तो पेरेंट्स को उन्‍हें समझाना काफी मुश्‍किल हो जाता है। बच्‍चे छोटे हों तो उन्‍हें किसी भी तरह से बहला-फुसला कर मना लिया जाता है पर अगर बच्‍चे टीनेजर हों तो समस्‍या काफी गंभीर हो जाती है। वैसे भी टीनेजर्स का खून काफी गरम माना जाता है। इसलिए अगर आप भी अपने बच्‍चों की लड़ाइयों से परेशान हो चुके हैं तो हम आपको इससे निपटने के कुछ आसान से टिप्‍स बताएगें। चलिए जानते हैं क्‍या हैं वह-

यह है उपाय-

1. जबरदस्‍ती लड़ाई में शामिल न हों- पेरेंट्स को ध्‍यान देना चाहिये कि वह जबरदस्‍ती किसी प्रकार की लड़ाई में खुद को शामिल न करें। लड़ाई में शामिल हो जाने से वह एक विकराल रुप ले सकती है। उन्‍हें तब तक दूर रहना चाहिये जब तक बच्‍चे या तो उनके पास खुद अपनी समस्‍या लेकर आएं या फिर वे खुद की समझ से लड़ाई न सुलझा लें।

2. उनके मन में अच्‍छी बातें बैठाएं- बच्‍चों के बीच में छोटी-मोटी बातों को लेकर लड़ाइयां हो सकती हैं। इसलिए उनके मन में अपने भाई-बहन के बीच के रिश्‍तों की एकता के बारे में बताएं। उन्‍हें समझाएं कि वह एक ही माता-पिता की ही संतान हैं इसलिए उन्‍हें हमेशा एक साथ प्‍यार से रहना चाहिये।

3. लड़ाइयों को कम अहमियत दें- जब पेरेंट्स के दो बच्‍चे होते हैं तब वह उन दोनों के बीच में एक बंधन के रुप में काम करते हैं। जब भी बच्‍चे लड़ाई कर रहे हों जो माता पिता को उस लड़ाई को बिल्‍कुल भी अहमियत नहीं देनी चाहिये। बच्‍चों को भी लगना चाहिये कि उनके इस लड़ाई झगड़े का हमारे मां-बाप पर बिल्‍कुल असर नहीं पड़ रहा है, यानी की हमारा लड़ना बिल्‍कुल बेकार है।

4. टीनेज का इगो प्राब्‍लम- टीनेज के बड़े इगो प्रोब्‍लंस होते हैं, जिसको हर मां बाप को समझना चाहिये। कई सारे बच्‍चे लड़ाई को इस हद तक पहुंचा देते हैं कि वह गुस्‍से में क्‍या कर रहे हैं और क्‍या बोल रहे हैं उन्‍हें खुद भी नहीं मालूम होता। इस मामले में पेरेट्स को बड़ी ही शांती के साथ सोंच विचार करना चाहिये और हर बच्‍चे की बात को ठीक से सुन्‍ना चाहिये।

5. बच्‍चों को बिजी रखें- बच्‍चों के बीच में लड़ाइयां न हों इसके लिए उन्‍हें किसी काम में इतना बिजी कर दें कि उनके पास लड़ाई का समय ही न हो। उनसे खुद पूछें की वह किस कार्य को रूचि पूर्वक करना चाहेगें। दो बच्‍चों के माता-पिता को घर में लड़ाई रोकने के लिए बच्‍चों को किसी तरह का घर के काम में ही बिजी कर देना चाहिये।

English summary

Fights Between Two Kids | Parenting Tips | Solving Fights | बच्‍चों में लड़ाई | सुलझाएं

Parents having two kids have to give equal attention and love to both the kids. But when kids resort to fighting then the situation becomes a little difficult.
Story first published: Thursday, March 15, 2012, 17:11 [IST]
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more