For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में होते हैं ये हॉर्मोनल बदलाव, शरीर में सूजन आने की होती है ये वजह

|

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में गर्भ में बच्चें के शरीर का विकास लगभग पूरा हो चुका होता है। आप इसे प्रग्नेंसी का होम स्ट्रेच कह सकते हैं। ये 28वें हफ्ते से शुरू हो जाता है। गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में आपका शरीर भारी हो जाएगा। आपको रोजमर्रा के काम जैसे बैठना, उठना, खड़े होना या फिर चलने में दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान शरीर में हॉर्मोन के बदलाव के कारण पेट खिंचा हुआ सा महसूस हो सकता है। जिस वज‍ह से शरीर में काफी बदलाव आते हैं। आइए जानते हैं कि तीसरी त्रिमाही में गर्भावस्‍था के दौरान शरीर में क्‍या-क्‍या हार्मोनल बदलाव होते हैं?

प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन की बढ़ जाती है अधिकता

प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन की बढ़ जाती है अधिकता

Image Courtesy

प्रेग्नेंसी के 32 सप्ताह में शरीर में प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन का लेवल हाई हो जाता है। इस समय एस्ट्रोजन अपने हाई लेवल पर होता है। प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में एस्ट्रोजन का लेवल पहली तिमाही की अपेक्षा छह गुना बढ़ जाता है। हार्मोनल बदलाव के चलते पैरों के आसपास अधिक सूजन दिखाई देने लगती है। इसे लिम्फेटिक सिस्टम से जोड़ा जा सकता है। एस्ट्रोजन को अप्रत्यक्ष रूप से पानी और नमक के साथ भी जोड़ा जा सकता है। गर्भावस्था की तीसरी तिमाही आते-आते शरीर में फ्लूइड रिटेंशन की वजह से पांव के अलावा हाथ, कलाई और उंगलियों में भी सूजन दिखने लगती है।

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में एसिड रिफ्लक्स की समस्या

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में एसिड रिफ्लक्स की समस्या

प्रेग्नेंसी के आखिरी चरण में, महिलाएं एसिड रिफ्लक्स या हार्टबर्न जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता हैं। एस्ट्रोजन के कारण इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है। रिलैक्सिन की हेल्प से डिलिवरी के समय मांसपेशियों को ढीला करने में मदद मिलती है। प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में एसिड रिफ्लक्स की समस्या से बचने के लिए खानपान पर ध्यान देना बहुत जरूरी है।

प्रोलेक्टिन हॉर्मोन की अधिकता

प्रोलेक्टिन हॉर्मोन की अधिकता

प्रोलेक्टिन हॉर्मोन स्‍तनदुग्‍ध को बढ़ावा देने वाले ऊतक को उत्तेजित करने का काम करता है। प्रोलेक्टिन का स्तर गर्भावस्था के अंतिम चरण में बढ़ जाता है। ये करीब 10 गुना तक बढ़ जाता है। ये कोलोस्ट्रम को तैयार करने का काम करता है। मां का पहला गाढ़ा पीला दूध यही होता है। इसकी वजह से कभी जन्‍म से पहले दुग्‍धस्‍त्राव भी होने लगता है।

प्रसव के बाद शरीर में होता है ये हॉर्मोनल बदलाव

प्रसव के बाद शरीर में होता है ये हॉर्मोनल बदलाव

ड‍िलीवरी के फौरन बाद शरीर में एंडोर्फिन हार्मोन का स्‍त्राव होता है। ये डिलिवरी के दौरान होने वाले दर्द को सही करता है। ये हॉर्मोन 24 घंटे के लिए काम करता है। प्लासेंटा के शरीर से बाहर निकलने के बाद एस्ट्रोजन, रिलैक्सिन, एचसीजी और एचपीएल जैसे हॉर्मोन का लेवल कम हो जाता है।

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में होते हैं

ये बदलाव

पीठ या कूल्हे में दर्द

पेट में दर्द

सांस लेने में तकलीफ महसूस होना

स्तन का बढ़ा हुआ महसूस होना

वजन अधिक बढ़ जाना

तरल पदार्थ का योनी से लीक होना

पेट में खिचांव स्ट्रेच मार्क्स के निशान आ जाना

पेट में बच्चे का अधिक मूमेंट फील होना

सोते समय स्थिति बदलने में परेशानी होना

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में मूड स्विंग

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में मूड स्विंग

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में हार्मोन के बदलाव के कारण महिलाओं में मूड स्विंग की समस्या बहुत ही सामान्‍य हैं। ऐसे में अक्सर महिलाएं मूडी हो जाती हैं। कभी-कभी गर्भावस्था में होने वाले मूड स्विंग्स महिला के साथ पार्टनर और परिवार के सामने समस्या खड़ी कर देते हैं। गर्भावस्था के दौरान 20 प्रतिशत महिलाएं इन मूड बदलाव के कारण चिड़चिड़ी और परेशान रहती हैं। इस दौरान आपको लगातार चिंताएं होती हैं जो गर्भावस्था में मूड में बदलाव को बढ़ावा देती हैं। पार्टनर को ऐसे समय में महिला का साथ देना चाहिए और उसे समझना चाहिए।

नींद न आने की समस्या

नींद न आने की समस्या

Image Courtesy

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में हार्मोनल बदलाव के कारण जो समस्‍या सबसे समस्‍या होती है वो हैं नींद न आना। इस समय में अधिकतर महिलाओं को सोते समय बेचैनी महसूस हो सकती है। कई बार लेट जाने के बाद भी बड़े पेट के कारण महिलाओं को करवट लेने में समस्या महसूस होती है, और वे सो नहीं पाती। इस बारे में एक बार डॉक्टर से बात करें।

हाइपरपिग्मेंटेशन की समस्‍या

हाइपरपिग्मेंटेशन की समस्‍या

Image Courtesy

गर्भावस्था की तीसरी तिमाही के दौरान हार्मोन में बदलाव के कारण होने वाली हाइपरपिग्मेंटेशन से मोल्स और फ्रीकल्स के रंग में बदलाव हो सकता है। हार्मोनल बदलाव की वजह से आपको शरीर में कुछ बदलाव जरुर होंगे। प्रेग्नेंसी में हार्मोन के बदलाव के कारण काले पैच भी बन सकते हैं। स्किन पिगमंटेशन अक्सर गायब हो सकते हैं। बेहतर होगा कि चेंज दिखने पर तुरंत डॉक्टर से परामर्श करें।

English summary

Hormonal Changes in Body During Third Trimester Pregnancy

Estrogen and progesterone peak around 32 weeks and your estrogen levels are the highest they will ever be during third trimester—six times higher than before pregnancy
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more