महिलाएं अपनी योनि की देखभाल ऐसे करें

Posted By: Staff
Subscribe to Boldsky

योनि, हर औरत के शरीर का अह्म हिस्‍सा होता है और शायद यही वह हिस्‍सा होता है जिसके आधार पर वह जीवन में पत्‍नी से लेकर मां बनती है।

लड़कियों को शुरूआत में योनि के बारे में ज्‍यादा जानकारी नहीं होती है, लेकिन 2 दशक के बाद ही पीरियड्स, गॉयनी से मिलना, शादी, सेक्‍स और बच्‍चों का जन्‍म होना आदि के बाद औरतें अच्‍छी तरह से योनि का ध्‍यान रखना सीख जाती है। सभी महिलाएं अच्‍छी तरह जानती है कि योनि को साफ रखना चाहिए, पैड हर 5 घंटे में बदल लेना चाहिए और पैप परीक्षण नियमित करवाना चाहिए। 

READ: योनि में खुजली का कैसे करें इलाज

लेकिन जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है और मेनोपॉज फेज चल रहा होता है, उस दौरान योनि को स्‍वस्‍थ रखना बेहद आवश्‍यक होता है क्‍योंकि एक भी गलती कैंसर के खतरे को बढ़ा सकती है।

READ: योनि को स्वस्थ रखने के आसान तरीके

इस आर्टिकल में कई प्रकार की गल्तियों को बताया जा रहा है जे अक्‍सर महिलाएं करती हैं और खुद को नुकसान पहुंचा लेती है। तो आइए जानते है कि योनि को स्‍वस्‍थ रखने के लिए किन बातों को ध्‍यान रखना चाहिए:

पीरिसड्स के दौरान अनियिमितता :

पीरिसड्स के दौरान अनियिमितता :

कई बार उम्र बढ़ने के साथ-साथ पीरियड्स में ब्‍लीडिंग काफी गाढ़ी होती है, लेकिन ऐसा हर बार और हर किसी के साथ नहीं होता है। अगर आपको हर दो सप्‍ताह में पीरियड्स और सेक्‍स करने के दौरान या सेक्‍स करने के बाद योनि से खून निकलता है तो डॉक्‍टर से सम्‍पर्क करें। ज्‍यादा खून निकलना अच्‍छा संकेत नहीं है, बच्‍चेदानी में गांठ, एनीमिया, हारमोन्‍स सम्‍बंधी समस्‍या, सर्वाइकल, यूट्रिन या ओवेरियन कैंसर होने के बाद भी ये समस्‍या हो जाती है।

योनि संक्रमण का इलाज :

योनि संक्रमण का इलाज :

योनि में संक्रमण होना कोई गंभीर बीमारी नहीं है लेकिन गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है। हर महिला को जीवनकाल में कम से कम एक बार योनि में ईस्‍ट-इंफेक्‍शन होता ही है। कई बार औरतों को योनि में खुजली होने लगती है और वह इस पर एंटी-फंगल क्रीम लगा लेती है, लेकिन हर बार ऐसा नहीं करना चाहिए। योनि में दो प्रकार के संक्रमण होते है - बैक्‍टीरियल वेजीनोसिस (बीवी), इस संक्रमण में योनि में बैक्‍टीरिया हो जाते है। दूसरा ट्रिकोमोनिसाईसिस होता है जिसमें बहुत खुजली होती है। इनका इलाज अवश्‍य करवाना चाहिए, ताकि आप पूर्णत: स्‍वस्‍थ हो सकें।

टेल्‍कम पाउडर लगाना :

टेल्‍कम पाउडर लगाना :

कई बार महिलाएं किसी भी प्रकार की समस्‍या होने पर टेल्‍कम पाउडर या बेबी पाउडर को छिड़क लेती है, ऐसा करने से कैंसर का खतरा 30 प्रतिशत ज्‍यादा बढ़ जाता है। इससे बेहतर होगा, आप कॉटन की पैंटी पहने और पीरियड्स के दौरान योनि को पानी से साफ करती रहें।

कीगल एक्‍सरसाइज न करना:

कीगल एक्‍सरसाइज न करना:

गर्भावस्‍था के दौरान और बाद में महिलाएं कीगल एक्‍सरसाइज करती रहती है लेकिन फिर अचानक से छोड़ देती हैं। अगर वह इसे लगातार करें तो उनकी योनि 50 साल की उम्र में 40 साल ही तरह ही रहेगी। पेल्विक एरिया की मांसपेशियां उम्र बढ़ने के साथ कमजोर हो जाती है जो कीगल एक्‍सरसाइज करने से मजबूत हो जाती है

बर्थ कंट्रोल का उपयोग न करना:

बर्थ कंट्रोल का उपयोग न करना:

अगर आपको पीरियड्स आने बंद हो गए हैं तो इसका मतलब ऐसा नहीं है कि आपको मेनोपॉज हो गया है, हो सकता है कि गर्भवती हों, एक उम्र के बाद बर्थ कंट्रोल का उपयोग न करना सुरक्षित नहीं होता है, आप गर्भवती हो ही सकती हैं। इसलिए आप सेक्‍स करने के दौरान अपने पार्टनर को कंडोम यूज करने कों कहें या फिर आप टेबलेट खाएं।

कॉन्‍ट्रोसेप्टिव का इस्‍तेमाल न करना:

कॉन्‍ट्रोसेप्टिव का इस्‍तेमाल न करना:

40 साल की उम्र के बाद लोग कॉन्‍ट्रोसेप्टिव का इस्‍तेमाल बहुत कम करते है, उन्‍हे अच्‍छा नहीं लगता है, लेकिन कंडोम का उपयोग करते हुए सेक्‍स करना सेफ होता है।

सेक्‍स न करना:

सेक्‍स न करना:

एक डेटा प्रकाशन में यह बात सामने आई है कि 40 वर्ष के बाद और 50 वर्ष के बाद की महिलाओं ने सर्वेक्षण में कहा है कि पिछले वर्ष में उन्‍होने बहुत कम सेक्‍स किया है। ऐसा करने से योनि में रूखापन, शरीर में एस्‍ट्रोजन का स्‍तर काफी कम, खुजली और असहज होने जैसी कई समस्‍याएं उत्‍पन्‍न हो जाती है। सेक्‍स नियमित रूप से करने से योनि में चिकनापन रहता है और योनि स्‍वस्‍थ रहती है।

लाइनर पैंटी पहनें:

लाइनर पैंटी पहनें:

अगर आपको पीरियड्स में अनियमियतता है तो आप हमेशा लाइनर पैंटी ही पहनें, इससे कभी भी पीरियड्स शुरू होने पर आपको शर्मिंदगी नहीं ढेलनी पड़ेगी, हालांकि इससे कई प्रकार के संक्रमण हो सकते है, इसलिए इन्‍हे साफ रखें।

 नियमित परीक्षण न करवाना:

नियमित परीक्षण न करवाना:

अमेरिकन कॉलेज ऑफ ऑब्‍स्‍ट्रिशियन और गायनोकोलॉजिस्‍ट के द्वारा हाल ही में जारी निर्देशों के अनुसार, 30 वर्ष तक अपना परीक्षण करवाती हैं लेकिन उसके बाद ढीली पड़ जाती है और पेप परीक्षण नहीं करवाती है। ऐसा न करें। हर साल डॉक्‍टर के पास रेगुलर चेकअप के लिए जाएं। इस दौरान ब्रेस्‍ट और योनि परीक्षण करवाएं।

English summary

New Rules For Healthy Vagina

As you get older — and especially as you approach perimenopause and menopause — you may have new vaginal symptoms or issues you’re not so prepared to deal with. And seemingly harmless habits can have a big impact on everything from your sex life to your cancer risk.
Please Wait while comments are loading...