पैसों का स्‍ट्रेस बढ़ा सकता है आपका माइग्रेन- स्टडी

Posted By: Lekhaka
Subscribe to Boldsky

फाइनेंसियल प्रॉब्लम के कारण पैदा होने वाला तनाव एक विशेष जीन वाले लोगों में माइग्रेन के विकास के जोखिम को बढ़ा सकता है। यह बात एक हालिया अध्ययन में सामने आई है।

आपको बता दें कि माइग्रेन एक गंभीर न्यूरोलॉजिकल बीमारी है, जिससे दुनियाभर में लगभग एक अरब लोग प्रभावित हैं।

हंगरी के सेमीमेलवीस विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने अध्ययन के लिए क्लॉक जीन के दो प्रकारों के लिए 2394 मरीजों को लिया और यह पता लगाया कि यह लोग माइग्रेन के साथ कैसे जुड़े हुए हैं।

side-effects of stress

क्लॉक जीन स्लीप-वेक साइकिल से जुड़ा एक जीन है, जिसे सर्कैडियन रीदम के रूप में भी जाना जाता है।

यह माइग्रेन का कारण बनता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, क्लॉक जीन शरीर के कई रीदम पैटर्न को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जिसमें शरीर का टेम्प्रेचर या कोर्टिसोल का स्तर शामिल है।

अध्ययन के दौरान, शोधकर्ताओं ने पाया कि जीन और माइग्रेन के बीच कोई सीधा संबंध नहीं था। लेकिन जब इन लोगों को किसी तरह का तनाव खासकर वित्तीय तनाव था, तो इनमें सिरदर्द जैसी माइग्रेन की समस्या लगभग 20 फीसदी अधिक पाई गई।

side-effects of stress

टीम ने क्लॉक जीन के भीतर फंक्शनल सिंगल न्यूक्लियोटाइड पॉलीमॉर्फिज़्म पर विचार किया, जो यह बताता है कि जीन से कितना प्रोटीन लिया गया है। चूंकि यह प्रोटीन बॉडी क्लॉक मशीनों को नियंत्रित करता है इसलिए इस तरह के वेरिएंट उन प्रक्रियाओं को खराब कर सकते हैं, जो तनाव के दौरान माइग्रेन से बचा सकती हैं।

हालांकि यह अध्ययन यह नहीं दिखाता है कि माइग्रेन का कारण क्या होता है लेकिन यह दिखाता है कि स्ट्रेस और जीन दोनों से इसका खतरा होता है।

बुडापेस्ट में सेमीमेलवीस यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर डैनियल बक्ष्सा के अनुसार, 'हम यह कह सकते हैं कि फाइनेंसियल प्रॉब्लम से पैदा होने वाला तनाव ऐसे लोगों में माइग्रेन का कारण बन सकता है, जो लोग एक विशेष जीन संस्करण वाले हैं।

English summary

Financial Stress Increases Migraine Risk - Study

Stress caused by financial hardship can increase migraine risk in people with a particular gene. Know the details here on Boldsky.
Story first published: Wednesday, September 6, 2017, 10:45 [IST]
Please Wait while comments are loading...