नियमित रूप से आंखों की जांच कराने से इन 4 खतरनाक बीमारियों से बच सकते हैं आप

By Lekhaka
Subscribe to Boldsky

दृष्टि के बिना निश्चित रूप से कोई भी इंसान एक सामान्य जीवन नहीं जी सकता है। क्योंकि दृष्टि संवेदी शक्तियों में से एक है जो बहुत आवश्यक है। इसलिए आंखों को स्वस्थ और सुरक्षित रखने के लिए आपको इनकी पूरी देखभाल करनी चाहिए।

सुबह सोकर उठने पर इन कारणों की वजह से होता है सिरदर्द

आजकल अधिकांश लोग काफी अस्वास्थ्यकर जीवनशैली जीते हैं। दिनभर कंप्यूटर, फोन आदि जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर काम करने से आंखों पर असर पड़ता है। जाहिर है इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का अधिक उपयोग और प्रदूषण, खराब आहार आदि चीजें आंखों को कमजोर बना सकती हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपकी दृष्टि सही है और कोई बीमारी तो नहीं है,आपको नियमित आधार पर आंखों के टेस्ट कराना बहुत महत्वपूर्ण है।

कैंसर से बचने के लिए आज ही से शुरू कर दें ये 6 काम

6 foods to keep Eyes health and Glasses free (चश्मा नहीं लगाना तो रोज खाएं ये 6 चीजें )| Boldsky

एक अध्ययन के अनुसार, आंखों के परीक्षण करने से कैंसर, हृदय रोग और अन्य प्रमुख बीमारियों का पता लगाने में मदद मिल सकती है। चलिए जानते हैं आंखों का टेस्ट कराने से किन-किन रोगों का पता चलता है।

डायबिटीज

डायबिटीज

आंखों की नियमित जांच कराने से यह पता चल सकता है कि रेटिना में थोड़ा बहुत खून तो नहीं है, जो ब्रस्ट वीन के कारण हो सकता है, जिससे यह पता चलता है कि आप डायबिटीज की चपेट में हैं। जाहिर है इस लक्षण से आपको डायबिटीज के उपचार में मदद मिल सकती है।

ब्रेन ट्यूमर

ब्रेन ट्यूमर

ब्रेन ट्यूमर सबसे घातक प्रकार के कैंसर में से एक है और यह बहुत आम है। जब जांच के दौरान दृष्टि में असामान्य परिवर्तन, ऑप्टिक तंत्रिका का रंग बदलना आदि का पता चलता है, तो इनसे ब्रेन ट्यूमर की उपस्थिति का पता लगाने में मदद मिल सकती है।

हार्ट डिसीज

हार्ट डिसीज

वृद्ध लोगों में हार्ट रोग बहुत ही आम हैं और दिल की बीमारियों के लिए सबसे स्पष्ट कारण उच्च कोलेस्ट्रॉल और उच्च रक्तचाप हैं। जब जांच के दौरान यह पता चलता है कि कॉर्निया के आसपास सफेद रंग के छल्ले हैं, तो यह उच्च कोलेस्ट्रॉल या उच्च बीपी का संकेत हो सकता है, जो बाद में हृदय रोगों का परिणाम हो सकता है।

मल्टीपल स्केलेरोसिस

मल्टीपल स्केलेरोसिस

मल्टीपल स्केलेरोसिस एक खतरनाक रोग है जिसमें प्रतिरक्षा प्रणाली तंत्रिका के ऊतकों की सुरक्षात्मक परत को नष्ट करती है, जिससे अंग की गंभीर क्षति होती है। आंखों की जांच से स्केलेरोसिस की उपस्थिति निर्धारित करने में मदद मिल सकती है, क्योंकि इस घातक बीमारी वाले लोगों में ऑप्टिक तंत्रिका में आमतौर पर सूजन होती है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    Getting Your Eyes Tested Can Save Your Life!

    Nowadays, most people live unhealthy lifestyles. Working on electronic devices like computers, phones, etc. throughout the day has an impact on the eyes.
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more