कभी सुना है ऑर्गेज्मिक मेडिटेशन के बारे में, बिना सेक्‍स भी मिल सकता है ऑर्गेज्‍म

Subscribe to Boldsky

शारीरिक संबंध पुरुष और महिला दोनों को ही एक समय पर चरम सुख यानी कि ऑर्गेज्‍म तक पहुंचा दे यह जरूरी नहीं। आपको जानकर हैरानी होगी कि करीब 10 प्रतिशत महिलाएं ऐसी हैं जिन्होंने आज तक शारीरिक संबंध बनाते समय कभी चरम सुख का आनंद ही प्राप्त नहीं किया है। वहीं कुछ ऐसे भी महिलाएं और पुरुष हैं जिन्हें यह नहीं पता कि आखिर ऑर्गेज्म कैसा महसूस होता है। आमतौर पर लोग सैक्स और मास्टरबेशन का सहारा रिलैक्स होने के लिए लेते हैं, लेकिन इस प्रक्रिया के बाद भी बहुत ही कम लोग रिलैक्स हो पाते हैं। ऐसे में बचाव के लिए आता है ऑर्गेज्म मैडिटेशन। यह आमतौर पर महिलाओं के लिए है।

जरा इमेजिन करें एक कमरे में एक महिला और पुरुष शारीरिक संबंध बना रहे हों, लेकिन महिला इसे महसूस भी न कर पा रही हो, न ही उसके शरीर में कोई खास हरकत हो रही हो, वहीं एक दूसरा कमरा हो जहां महिला चरम सुख प्राप्त कर रही हो, लेकिन वहां कोई शारीरिक संबंध न बन रहा हो। असल में ऑर्गेज्मिक मेडिटेशन इसे ही कहते हैं। जहां शारीरिक संबंध बनाए बिना भी ऑगेज्म को महसूस किया जा सके।

orgasmic meditation

ऑर्गेज्‍म से स्प्रिुचअल हीलिंग तक

ऑर्गेज्मिक मेडिटेशन को बोलचाल की भाषा में ओएम कहा जाता है। इसके तहत सेक्स नहीं होता, लेकिन यह प्रेक्टिस महिलाओं को ऑर्गेज्म महसूस करवाने में मदद करती है। इससे केवल ऑर्गेज्म ही नहीं बल्कि स्प्रिचुअल और होलिस्टिक हीलिंग भी की जा सकती है।

Most Read: आपने सुना है तंत्रा मसाज के बारे में, जानें इसके सेक्‍सुअल फायदे

Yoga for $ex power | शयनासन, Shaynasana | सेक्स क्षमता बढ़ता है ये आसन | Boldsky
orgasmic meditation

ऐसे किया जाता है ऑर्गेज्मिक मेडिटेशन

ओएम के तहत एक स्ट्रोकर होता है और एक स्ट्रोकी होता है। आमतौर पर स्ट्रोकर महिला या पुरुष में से कोई एक हो सकता है और स्ट्रोकी ज्यादातर महिला ही होती है। स्ट्रोकी लेट जाती है और कमर से नीचे के सारे कपड़े उतार देती है। इसके बाद स्ट्रोकर पूरे कपड़े पहने हुए ही उसके पास बैठ जाता है। इसके बाद स्ट्रोकर स्ट्रोकी के निजी अंग को सहलाता है और स्ट्रोकी की सारी मसल्स टेंशन रिलीज कर रिलैक्स होने लगती हैं। इसके साथ ही वह धीरे धीरे चरम सुख की ओर बढ़ने लतगी है। इसके तहत कई बार स्ट्रोकर और स्ट्रोकी अपनी जगह बदल भी लेते हैं और चरम सुख की प्राप्ति करते हैं।

Most Read: क्‍या आपने सुना है सेक्‍स सरोगेट थैरेपी के बारे में?

एनर्जी होती है रिलीज

एक्सपर्ट्स कहते हैं कि जिस तरह मास्टरबेशन की वजह से स्ट्रेस कम होता है और इंसान रिलैक्स महसूस करता है ठीक उसी तरह ऑर्गैज्मिक मेडिटेशन के दौरान भी जो एनर्जी रिलीज होती है वह इतनी ज्यादा होती है कि आपका स्ट्रेस कम हो जाता है। हालांकि सेक्स थेरपिस्ट से पूछे बिना ऑर्गैज्मिक योग को प्रैक्टिस न करें।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    Read more about: meditation health wellness
    English summary

    Everything you need to know about orgasmic meditation

    Orgasmic meditation widely known as OM is basically about employing the effects of female orgasm to de-stress both men and women. There is no sex, but the practice itself is enough for the women to experience the orgasm .
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more