करीना की डायटिशियन रुजुता दिवेकर ने कहा 'मसाला चाय' पीना है हेल्‍दी

Subscribe to Boldsky

कई बार हम सुनते है कि हमारे कई दोस्‍त डाइटिंग करते वक्‍त चाय भी छोड़ देते है। अगर कारण पूछो तो नो कैफीन डाइट की बात कह देते है। इस 'नो कैफीन' और कुछ कैलोरीज के लिए हम कई बार अपनी देसी एनर्जी ड्रिंक चाय को भी छोड़ देते है। लेकिन कई चाय प्रेमी है जिनकी शुरुआत गर्मागर्म चाय के बिना नहीं होती है और अगर मसाला चाय हो तो 'सोने पे सुहागा'। कई डायटिशियन का मानना है कि चाय सेहत के लिए हानिकारक‍ होता है।

लेकिन वहीं सेलिब्रेटी न्‍यूट्रिशियन और डायटिशियन रुजुता दिवेकर ने चाय के समर्थन में कहा है कि चाय वजन घटाने में सहायक होता है, क्‍योंकि इसमें चीनी, दूध और कैफीन मौजूद होता है। काफी समय से इंडियन फूड की वकालत करने वाली रुजुता दिवेकर ने अपने सोशल मीडिया पर पोस्‍ट करके बताया है कि चाय कितनी हेल्‍दी होती है और उसे सफेद चीनी के साथ कैसे पीना चाहिए, उन्‍होंने मसाला चाय को भी एनर्जी ड्रिंक‍ माना है। उन्‍होंने मसाला चाय को एनर्जी ड्रिंक माना है।

आइए जानते है कि मसाला चाय में क्‍या और कौनसे गुण होते है।

Boldsky

कब चाय पीनी चाहिए और कब नहीं

  • सुबह उठने के बाद
  • रात को सोने से पहले
  • दिनभर में एक मील खाने के कुछ देर में


कितने कप दिन में पीने चाहिए ?

  • एक दिन में 2-3 कप चाय बहुत है।

मसाला चाय है फायदेमंद

ग्रीन टी और ग्रीन कॉफी में कौनसा ज्‍यादा हेल्‍दी होता है? इस सवाल पर रुजुता दिवेकर का मानना है कि ये दोनों ही सिर्फ ही हेल्‍थ के नाम पर प्रॉ‍फिट प्रॉडक्‍ट है। ये इतने हेल्‍दी नहीं होते है जितना की लोग सोचते है, इससे ज्‍यादा हेल्‍दी ड्रिंक मसाला चाय है । इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्‍सीडेंट तत्‍व स्‍वास्‍थय में सुधार करते है।

चाय कैसे पीनी चाहिए चीनी के साथ या बिना चीनी?

बिल्‍कुल चीनी के साथ। WHO और कई ग्‍लोबल डायबिटिज ऑर्गेनाइजेशन का मानना है कि चीनी के 6 से 9 टेबल स्‍पून एक दिन के लिए काफी होते है। इसलिए अपने चाय और कॉफी में चीनी मिलाएं। लेकिन पैकेज्‍ड फूड को खाना अवॉइड करें क्‍योंकि उसमें अदृश्‍य चीनी की मात्रा मौजूद होती है। जैसे कि फ्रूट जूस, बिस्किट, और ब्रेकफास्‍ट सेरेल्‍स।
इसलिए चाय

मेटाबॉलिज्‍म को बढ़ाए

एक अच्‍छा और सक्रिय चयापचय को आमतौर से वजन घटाने से जोड़ा जाता है, लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि अच्‍छा चयापचय शरीर को आहार को पचाने और भोजन के उपयोग में मदद करने जैसी अन्‍य बातों के लिए भी जिम्‍मेदार होता है। अपने स्वास्थ्य का एक अनिवार्य हिस्सा होने के नाते, चाय पीने से आपके पूरे पाचन तंत्र में सुधार होता है। इसके अलावा आयुर्वेद में, चाय को गर्मी पैदा करने वाले भोजन के रूप में जाना जाता है और इसलिए यह आपके चयापचय में तेजी लाने में मदद करता है।

कोल्‍ड और फ्लू को दूर भगाये

मसाला चाय में मौजूद एंटीबैक्‍टीरियल, एंटी-फंगल और एंटी पैरासिटिक गुणों के कारण यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने और आम संक्रमण से बचने के लिए जाना जाता है।

थकान से लड़ें

दिन भर की थकान के बाद गर्मा-गर्म मसाला चाय का एक प्‍याला किसी जादू से कम नहीं होता। इसमें मौजूद टैनिन नामक तत्‍व शरीर को शांत और पुनर्जीवित करने का काम करता है। इसके अलावा चाय में कैफीन एक उत्‍तेजक की तरह काम करता है। हांलाकि इसमें कॉफी की तुलना में बहुत कम मात्रा में कैफीन होता है, लेकिन वह उसी की तरह प्रभावशाली होता है। चाय में मौजूद यह मिश्रण थकान को दूर करने का सबसे अच्‍छा तरीका है।

एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर

मसाला चाय बनाने में इस्‍तेमाल होने वाले सभी मसाले केवल व्‍यक्तिगत स्‍वास्‍थ्‍य लाभ ही नहीं देते बल्कि सूजन का मुकाबला करने के लिए शरीर में तालमेल बनाने के काम भी करते हैं। सूजन को कम करने में मदद करने वाला सबसे महत्‍वपूर्ण तत्‍व अदरक है। लौंग सूजन को कम करने में मददगार दूसरा अच्‍छा उपाय है। यह शरीर की मांसपेशियों की सूजन को कम करने में आपकी मदद करता है। यह दोनों मसाले बहुत ही शक्तिशाली दर्द निवारक है।

ऐसे बनाएं

मसाले की सामग्री- साबुत काली मिर्च - 2-3 सौंठ - 1 चम्‍मच दालचीनी- 1 पीस इलायची- 2-3 चम्‍मच लौंग- 1-2 जायफल- 1/4 कद्दूकस कर लें।

चाय की सामग्री- दूध- 3/4 गिलास पानी - 1/2 गिलास चाय पावडर- 1/2 चम्‍मच चीनी- स्‍वादानुसार

विधि- सबसे पहले साबुत मसालों को पीस लें। चाय के बर्तन में पानी गरम करें, उसमें चीनी, सौंठ, लौंग और काली मिर्च उबालें। जब मसाले अपना रंग छोड़ दें, तब पानी में चाय की पत्‍ती डाल कर उबालें। इसके बाद दूध और कुटी हुई इलायची डाल कर चाय को अच्‍छी तरह से पका लें। आपकी चाय तैयार है। इसे छानें और सर्व करें।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    Kareena Kapoor's nutritionist Rujuta Diwekar says yes to masala chai!

    Our classic Indian masala chai has been scrutinised for the longest time, with many experts dissing it for being ‘unhealthy’. Cut to 2018 and Rujuta Diwekar.
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more