For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

कोरोना का असर फेफड़ों पर हुआ है या नहीं, घर पर लेकर देखे 6 मिनट वॉक टेस्‍ट

|

कोरोना वायरस का संक्रमण पूरे देश में तेजी से फैल रहा है। लगातार बढ़ रहे केसों की वजह से देश में स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह से हिल चुकी है। ऑक्सीजन की भारी कमी और समय पर बेड की उपलब्‍धता नहीं मिलने की वजह से मौत का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ रहा है। हालात इतने खराब हैं कि कई जगहों पर टेस्ट भी नहीं हो पा रहे हैं।

कोरोना वायरस लोगों के लंग्स पर सबसे ज्यादा असर डाल रहा है। ऐसे में जो लोग घर पर होम आइसोलेशन में रहकर इलाज करवा रहे हैं उनके लिए डॉक्टर्स की ओर से 6 मिनट का वॉक टेस्ट करने की सलाह दी जा रही है। डॉक्टर्स का कहना है कि इस टेस्ट को आप घर पर ही कर सकते हैं। इससे आप अपने स्वास्थ्य और शरीर में ऑक्सीजन के लेवल के बारे में जान सकते हैं।

क्या है 6 मिनट वॉक टेस्ट?

क्या है 6 मिनट वॉक टेस्ट?

डॉक्टर्स का कहना है कि अगर आप घर पर ही आइसोलेसेट होकर कोरोना का इलाज करवा रहे हैं तो ऐसे में कई संक्रमितों के मन में शंका रहती है क‍ि कहीं ये वायरस लंग्स को संक्रमित तो नहीं कर रहा है। तो इसके लिए आप घर पर ही अपने स्वास्थ्य की जांच कर सकते हैं। आपको घर पर रहते हुए 6 मिनट वॉक टेस्ट करना चाहिए। आप सबसे पहले ऑक्सीमीटर से सेचुरेशन चेक कर लें और फिर 6 मिनट तक बिना रुके सामान्य गति से वॉक करें। अब 6 मिनट के बाद एक बार फिर अपना ऑक्सीजन लेवल चेक करें।अगर ऑक्सीजन का स्तर 3 से 4 डिजिट के नीचे चला जाता है तो आपको सावधान हो जाने की जरूरत है।

Most Read: Covid-19: अगर घर में है कोई कोरोना का मरीज, तो इन सेफ्टी टिप्‍स से खुद को संक्रमित होने से बचाएं

कब अलर्ट होने की ज्‍यादा जरुरत है

कब अलर्ट होने की ज्‍यादा जरुरत है

जैसे अगर आप पहली बार जब जांच करते हैं तो ऑक्सीमीटर की रिडिंग 95 आती है। अब 6 मिनट तक वॉक करने के बाद चेक करने पर अगर यह घटकर 92 या उससे कम हो जाती है तो आपको अलर्ट होने की जरूरत है। ये शुरुआती संकेत है कि आपके फेफड़ों में भी इंफेक्शन हो रहा है और आपको ऑक्सीजन की कमी हो सकती है। ऐसे लोगों को अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

किसे नहीं करना चाहिए 6 मिनट वॉक टेस्ट?

किसे नहीं करना चाहिए 6 मिनट वॉक टेस्ट?

- अगर आप अस्थमा से पीड़ित हैं तो आपको ये टेस्ट नहीं करना चाहिए।

- अगर आपकी उम्र 60 से ज्यादा है तो आप 6 मिनट की बजाय 3 मिनट ही ये वॉक टेस्ट करें।

- इस टेस्ट से ऑक्सीजन की कमी का पता चलता है और सही समय पर मरीज को अस्पतालों में भर्ती करने में मदद मिलती है।

Most Read: कोरोना वैक्‍सीन लगवाने के पहले और बाद में क्या करें और क्या नहीं, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन

कैसे बढ़ाएं ऑक्सीजन लेवल?

कैसे बढ़ाएं ऑक्सीजन लेवल?

डॉक्टर्स की मानें तो अगर किसी को फेफड़ों में दिक्कत आ रही हो और उसे तुरंत ऑक्सीजन नहीं मिल पाए, तो आप घर में रहकर भी कुछ उपाय करके ऑक्सीजन लेवल बढ़ा सकते हैं। ऐसे मरीजों को कम से कम 1-2 घंटे पेट के बल लेटना चाहिए। इससे फेफड़ों को आराम मिलता है और ऑक्सीजन के लेवल में भी सुधार आता है।

English summary

Covid 19: What Is Six Minute Walk Test?

The Maharashtra government has directed the administration to create awareness about the 6-minute test that can be performed at home with people suffering from the symptoms of COVID-19.