For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

सिलेंडर से ज्‍यादा ऑक्सीजन लेना आपके फेफड़ों के ल‍िए हो सकता है घातक, इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज

|

COVID-19 की दूसरी लहर में बीतते दिनों के साथ कैसेज में इजाफा होता जा रहा है। हालांक‍ि, अस्पतालों में बेड की कमी है, इसलिए मरीज अपने घर पर ऑक्सीजन सिलेंडर का इस्तेमाल कर रहे हैं।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि सिलेंडर से ज्‍यादा ऑक्सीजन लेना भी खतरनाक हो सकता है? बहुत सारे लोग ऑक्सीजन सिलेंडर का ऐसे समय में इस्तेमाल कर रहे हैं, जब उन्हें ऑक्सीजन की थोड़ी ही कमी हुई है, वो भी डॉक्टर की सलाह के बिना। ये लंबे समय में आपके फेफड़ों के लिए बेहद हानिकारक साबित हो सकता है। सि‍लेंडर से ज्‍यादा ऑक्‍सीजन लेने से फेफड़ों पर ऑक्‍सीजन प्‍वाइज‍निंग की समस्‍या भी हो सकती है।

फेफड़ों को हो सकती है समस्‍या

फेफड़ों को हो सकती है समस्‍या

जब आप सांस लेते हैं, तो हवा से ऑक्सीजन आपके फेफड़ों में प्रवेश करती है और फिर यह आपके खून में जाती है। ऑक्सीजन तब खून के माध्यम से शरीर के सभी हिस्सों में पहुंच जाती है। सभी हिस्सों में ऑक्सीजन के पहुंचने से शरीर के सभी अंग और ऊतक सामान्य रूप से काम करते रहते हैं, लेकिन जब बहुत ज्यादा मात्रा में ऑक्सीजन ले जाती है, तो फेफड़ों को नुकसान पहुंचता है। फेफड़े में मौजूद छोटी वायु की थैली (एल्वियोली) द्रव से भर सकती है या फेफड़ो दोबारा फूलने लायक नहीं रह जाते। जिसकी वजह से सामान्य रूप से हवा नहीं ग्रहण कर पाते। इससे फेफड़ों को ख़ून में ऑक्सीजन भेजने में मुश्किल होती है।

ऑक्‍सीजन प्‍वाइज‍निंग कैसे रोंके?

ऑक्‍सीजन प्‍वाइज‍निंग कैसे रोंके?

ऑक्सीजन प्‍वाइजन‍िंग को रोकने का एक प्रोसेस है, जो सप्लीमेंटल ऑक्सीजन के सेवन को सीमित करके किया जा सकता है। हां, अगर आप वेंटिलेटर पर हैं, तो हेल्थकेयर टीम जो आपको देख रही है, मशीन में ऑक्सीजन की मात्रा को सीमित कर सकती है। अगर आप कुछ ऑक्सीजन थेरेपी या स्कूबा इक्यूपमेंट का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो आपको मशीन की सेटिंग बदलने के लिए अपने संबंधित डॉक्टर या एक्सपर्ट से पूछा जा सकता है।

दूसरी ओर, अगर आप किसी भी पोर्टेबल ऑक्सीजन का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो उस स्थिति में आपका डॉक्टर आपकी स्थिति का टेस्ट करेगा, जिसमें सामान्य शारीरिक गतिविधि या व्यायाम करने के साथ-साथ आपकी जांच करना भी शामिल है।

ये ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा को आपके फेफड़ों तक पहुंचने और अवशोषित करने की अनुमति देता है। इसलिए, सुरक्षित रूप से सप्लीमेंटल ऑक्सीजन इक्यूपमेंट का इस्तेमाल करने से पहले अपने संबंधित हेल्थकेयर प्रोवाइडर्स से कंसल्ट करना बेहद महत्वपूर्ण है।

ज्यादा ऑक्सीजन भी मौत की वजह बन सकता है

ज्यादा ऑक्सीजन भी मौत की वजह बन सकता है

ऑक्सीजन फेफड़ों और फिर खून के जरिए आपके शरीर के दूसरे अंगों तक पहुंचती है। यही आपके अंगों के सामान्य कामकाज की ओर जाता है लेकिन आपके फेफड़ों को ऑक्सीजन की ज्यादा मात्रा मिलने से डैमेज्ड होने का खतरा होता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि एल्वियोली नामक छोटी वायु थैली जो आपके फेफड़ों में होती है, द्रव से भरी हो सकती है या वापस लेने योग्य नहीं होती है जो फेफड़ों को सामान्य रूप से हवा को ग्रहण करने की अनुमति नहीं दे सकती है। नतीजतन, ये खून तक पहुंचने के लिए ऑक्सीजन के लिए बहुत मुश्किल हो सकता है।

घर पर ही कर रहे हैं Oxygen Cylinder का Use, ना करें ये Mistakes | How to use Oxygen Cylinder at home
इन लक्षणों का न करें इग्‍नोर

इन लक्षणों का न करें इग्‍नोर

जब फेफड़े खून में सही तरीके से ऑक्सीजन नहीं पहुंचा पाते, तो इस तरह की परेशानी वाले लक्षण दिख सकते हैं:

- खांसी आना

- गले में हल्की जलन होना

- छाती में दर्द

- सांस लेने में तकलीफ़

- चेहरे और हाथों में मांसपेशियों का हिलना

- चक्कर आना

- धुंधला दिखना

- जी मिचलाना

English summary

How excess use of oxygen from cylinder can cause permanent damage to your lungs

Oxygen poisoning can be prevented. This requires limiting the intake of supplemental oxygen. Read on to know how the excess use of oxygen can damage your lungs.
Story first published: Friday, May 14, 2021, 16:30 [IST]