क्‍यूं मनाया जाता है गंगा दशहरा

Posted By: Staff
Subscribe to Boldsky

ज्येष्ठ शुक्ल दशमी के दिन ही भगीरथ गंगा को धरती पर लाये थे, इसी दिन गंगा धरती पर अवतरण हुई थी, यह तिथि मई या जून में होती है। जिसे आज हम गंगा दशहरा के नाम से भी मनाते हैं और इसे हम गंगावतरण के नाम से भी जानते हैं।

इसका मतलब है गंगा का अवतरण। इस अवसर पर लोग गंगा में नहाते हैं, और पूजा करके गरीबों को दान पुण्य करते हैं।

READ MORE: चौकाने वाले खुलासे: द्रौपदी के पांच पति क्यों थे?

Ganga Dussehra Importance

मान्यता है कि भगीरथ के पूर्वजों को श्राप मिला था जिसकी वजह से राजा भगीरथ ने गंगा को घरती पर लाने के लिए घोर तपस्‍या की थी। पृथ्वी पर आने से पहले, देवी गंगा भगवान ब्रह्मा के कमंडल में रहती थी।

गंगा दशहरा के अवसर पर लोग इलाहाबाद / प्रयाग, गढ़मुक्तेश्वर, हरिद्वार, ऋषिकेश और वाराणसी में स्नान के लिए जाते हैं। कहा जाता है कि इस दिन गंगा में स्नान करने से इंसान के सारे पाप धुल जाते हैं। वाराणसी में गंगा दशहरा बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है।

इस पर्व पर लाखों लोग गंगा जी में स्नान करके, दसवमेध घाट पर उनकी आरती करतें हैं। कुछ लोग गंगा दशहरा को गंगा जयंती समझने लगते हैं, जिस दिन गंगा जी फिर से पुनर्जीवित हुई थी।

English summary

Ganga Dussehra Importance

Ganga Dussehra is dedicated to Goddess Ganga. Ganga Dussehra falls during Dashami Tithi of Jyeshtha Shukla Paksha.
Story first published: Friday, May 29, 2015, 8:00 [IST]
Please Wait while comments are loading...