जानिए पौरोणिक कथाओं के पहले ट्रांसजेंडर पात्र के बारे में, जिनका है महाभारत से गहरा नाता

By Super Admin
Subscribe to Boldsky

महाभारत की कहानी कई पात्रों के इर्द-गिर्द बुनी हुई है। इन में से कुछ पात्र अपनी अजीब कहानियों के कारण विचित्र हैं। इनमें से ही एक है शिखंडी। उन्हें भारतीय पौराणिक कहानियों का पहला ट्रांसजेंडर (जिसका लिंग परिवर्तन हुआ हो) माना जाता है।

हर बार महिला के रूप में जन्म लेने के बाद, वह तीसरे जन्म में पुरुष के रूप में बदल गया। भीष्म पितामह की मृत्यु के पीछे जो सबसे बड़ा कारण था, वह था शिखंडी। आइए जानते है इस पा

 भीष्म पितामह को शिखंडी के लिंग के बारे में पता था

भीष्म पितामह को शिखंडी के लिंग के बारे में पता था

जब कौरव और पांडवों के बीच युद्ध का निर्णय हुआ, दुर्योधन ने भीष्म पितामह से पांडवों के तरफ के मुख्य योद्धाओं के बारे में पूछा। भीष्म पितामह ने कहा कि वे एक व्यक्ति से युद्ध नहीं करेंगे जो कि द्रुपद का पुत्र है यानि शिखंडी।

उन्होने दुर्योधन को बताया कि शिखंडी का जन्म महिला के रूप में हुआ था जो कि आगे चलकर पुरुष बना। उन्होने दुर्योधन को शिखंडी के महिला से पुरुष बनने की कहानी भी बताई।

image source

शिखंडी के पूर्व जन्म की कहानी

शिखंडी के पूर्व जन्म की कहानी

भीष्म पितामह ने उस समय की बात बताई जब उनका भाई विचित्रवर्य हस्तिनापुर का राजा था। अपने भाई के विवाह के लिए, भीष्म पितामह ने काशीराज की तीनों बेटियों - अम्बा, अंबिका और अंबालिका के लिए आयोजित स्‍वयंवर से ही उनका हरण कर लिया था। जहां वे मेहमान बनकर पहुंचे थे।

image source

जाने दिया अम्‍बा को

जाने दिया अम्‍बा को

जिसमें से अम्‍बा मार्तिकावत के क्षत्रिय नरेश शाल्व से विवाह करना चाहती थी। इसलिए भीष्‍म ने अम्‍बा की इच्‍छा जान उसे आजाद कर दिया था।

भीष्‍म को माना जिम्‍मेदार

भीष्‍म को माना जिम्‍मेदार

चूंकि उसे किसी दूसरे व्यक्ति ने उठाया था इसलिए शाल्‍व ने अपवित्रता के कारण उसे नहीं अपनाया था। अम्बा इसे बहुत गुस्से में थी और उसे भीष्म पितामह को अपने दुर्भाग्य का कारण माना।

image source

परशुराम से मिली

परशुराम से मिली

वह आगे चलकर परशुराम से मिली। अम्बा से सुनने के बाद परशुराम ने भीष्म पितामह को अम्बा से शादी करने को कहा, लेकिन अपनी ब्रह्मचर्य की शपथ के कारण उन्होने मना कर दिया। दो लोगों द्वारा ठुकरा किए जाने के बाद अम्बा ने सबक सिखाने के ठानी।

अम्बा ने बदला लेने के लिए किया तप

अम्बा ने बदला लेने के लिए किया तप

अम्बा ने यमुना नदी के तट पर तपस्या शुरू की और अपना शरीर त्याग दिया। अगले जन्म में, वह राजा वत्सदेश के राजा की पुत्री बनी। उसे अपने पिछले जन्म और इस जन्म दोनों जन्मों की बातें पता थी। उसने इस जन्म में भी तपस्या जारी राखी।

शिव ने दिया वरदान

शिव ने दिया वरदान

उसकी तपस्या से खुश होकर भगवान शिव प्रकट हुये और वर मांगने के लिए कहा। उसने भगवान शिव से कहा कि वह अगले जन्म में भी लड़की ही पैदा होना चाहती है, लेकिन वे चलकर वह लड़का बनना चाहती है ताकि वह भीष्म पितामह से बदला ले सके।

इस वरदान की प्राप्ति के बाद, अम्बा ने तुरंत नया जन्म लेने की सोची और अपना बदला पूरा किया।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    Here's The Story Of The First Transgender Of Hindu Mythology

    The story of Mahabharat is woven around several characters. Some of these characters are very strange because of their bizarre tales. One such character is Shikhandi.
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more