दिवाली 2017 : इस दिवाली अमावस्या का कुछ खास है प्रभाव, जानना जरूरी है...

By Salman Khan
Subscribe to Boldsky

दिवाली वैसे तो हर बार अमावस्या में ही पड़ती है पर इस बार का कुछ खास योग है जो आपको सामने बन रहा है। इस त्योहार के अवसर पर घरों और दूकानों को सजाया-संवारा जाता है, उनकी साफ-सफाई की जाती है। इस दिन धन की देवी लक्ष्मी की पूजा विशेष रुप से की जाती है।

क्यों मनाई जाती है छोटी दिवाली, जानिए पूजा का शुभ मुहूर्त

हिन्दू धर्म के अनुसार दीपावली के दिन धन की देवी महालक्ष्मी के साथ विघ्न-विनाशक श्री गणेश की देवी मातेश्वरी सरस्वती देवी की भी पूजा-आराधना की जाती है। कहा जाता है कि कार्तिक मास की अमावस्या की आधी रात में देवी लक्ष्मी धरती पर आती हैं और हर घर में जाती हैं। जिस घर में स्‍वच्‍छता और शुद्धता होती है वह वहां निवास करती हैं। दीपावली एक ऐसा त्यौहार है जो बहुत सी वजहों से महत्वपूर्ण है।

दिवाली की रात इन जानवरों के दिखने से होता है ये काम....

अमावस्या की अंधियारी रात को रोशन करने के अलावा यह अध्यात्म की साधना करने वालों के लिए भी महत्वपूर्ण है। इसे ऐतिहासिक कारणों से भी मनाया जाता है। दिवाली में अवावस्या का विशेष महत्व है आइए जानते इस बार आपको किन बातों का ध्यान रखना है।

Searches related to effect of amavasya In this diwali

क्या करता है अमवस्या का अंधेरा

इस दिवाली में अमावस्या का अंधेरा कुछ खास तरह के प्रभावों के साथ आने वाला है। इसबार का अमावस्या का अंधेरा स्त्री के लिए कुछ खास होगा। इसका मतलब यह है कि जब अंधेरा आता है, तो स्त्री प्रकृति तुरंत निराशा और अवसाद में घिर जाती है। जैसे ही अंधेरा होता है, स्त्री प्रकृति अवसाद में चली जाती है। वह चाहती है कि उसके आस-पास की हर चीज रोशन हो, वरना वह निराशा में चली जाती है। पुरुष अंधकार में बैठ सकते हैं, पुरुष प्रकृति अंधकार में बैठकर मनन कर सकती है। ऐसी मान्यता है कि अंधकार से घिरी घरती को रोशन करने के लिए माता दुर्गा के स्त्री रूप ने सभी दानवों का आज की रात वध किया था।

Searches related to effect of amavasya In this diwali

दिया नहीं ये है साधना

अगर आप सोचते है कि बस दिवाली में दिया जलाने का यूं कि चलन है तो ये आपकी गलतफहमी है। क्योंकि ये आप दिया नहीं जलाते है बल्कि आप इस दुनिया मे फैल बुराई को खत्म करते है जो कि अंधेरे के रूप में इस रात को फैली होती है।

दीपावली के दिन दिए जलाने की परम्परा को हम साधना के रूप में रूपांतरित कर सकते हैं। दियों के इस त्यौहार पर एक सरल साधना की जा सकती है। इस दिवाली में इन बातों का ध्यान रखना चाहिए क्योंकि ये दिवाली कुछ खास है और अमावस्या का प्रभाव भी देखने को मिलेगा।

Searches related to effect of amavasya In this diwali

इन लोंगों के लिए जलाए अमावस्या में दीपक

अगर आप किसी से बहुत प्रेम करते है तो ध्यान रखें कि पहला दिया उस व्यक्ति के लिए जिससे आप अथाह प्रेम करते हैं। इससे आपके प्रेम संबंधों में मधुरता आएगी।

अगला यानि कि दूसरा दिया खुद अपने लिए इससे आप पर भी भगवान की कृपा होगी।

जाहिर सी बात है कि आपकी जिंदगी में कोई ना कोई ऐसा व्यक्ति जरूर होगा जिससे आप नफरत करते है तो उस तीसरा दिया उस व्यक्ति के जिससे आप घृणा करते हैं। इससे हो सकता है आपकी नफरत खत्म हो जाए।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    Why is Amavasya falling in Deepavali period considered as auspicious

    Diwali is like every time it happens in the new moon, but this time there is some special yoga that is going on in front of you. On this festival, homes and shops are decorated, cleaned and cleaned.
    भारत का अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक पोल. क्या आपने भाग लिया?
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more