For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

'वेयरवोल्फ सिंड्रोम' के कारण भालू जैसा दिखता है ये लड़का, जानिए क्या है ये बीमारी

|

मध्य प्रदेश के एक टीनेज 'वेयरवोल्फ सिंड्रोम' नाम के एक दुर्लभ स्थिति के साथ जी रहा है। किशोर के मुताबिक उसके साथ पढ़ने वाले बच्चे उसे डरते हैं और उसके पास भी नहीं बैठते है। ये टीनेज नंदलेटा गांव में रहता हैं। जिसका नाम ललित पाटीदार है। जो छह साल की उम्र में हाइपरट्रिचोसिस की बीमारी से ग्रासित हो गया था। इस समस्या में सामने वाले के पूरी बॉडी में असामान्य मात्रा में बाल विकसित होने लगते हैं। ऐसा माना जाता है कि मध्य युग के बाद से केवल 50 लोगों को ही यह समस्या हुई है। ऐसे में ललित का पूरा शरीर बालों से ढका हुआ है। उसके साथी उसे "मंकी बॉय" कहकर बुलाते हैं।


क्या है हाइपरट्रिचोसिस

हाइपरट्रिचोसिस, जिसे वेयरवोल्फ सिंड्रोम के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें किसी व्यक्ति के शरीर पर कहीं भी बहुत ज्यादा बाल होने लगते हैं। यह विकार महिलाओं और पुरुषों दोनों को प्रभावित कर सकता है। बालों की असामान्य वृद्धि चेहरे और शरीर को पूरी तरह ढक देती है। हाइपरट्रिचोसिस जन्म के समय भी दिख सकता है। और कुछ समय बाद भी इसका प्रभाव दिख सकता है।


हाइपरट्रिचोसिस के प्रकार

जन्मजात हाइपरट्रिचोसिस लैनुगिनोसा

यह पहली बार सामान्य लानुगो के रूप में होता है, जो जन्म के समय बच्चे के शरीर पर पाए जाने वाले बारीक बाल होते हैं। लेकिन बाद के हफ्तों के दौरान गायब होने के बजाय, बच्चे के शरीर पर विभिन्न स्थानों पर मुलायम महीन बाल बढ़ने लगते हैं।

कंजेनिटल हाइपरट्रिचोसिस टर्मिनलिस

इस रह के हाइपरट्रिटोसिस बीमारी में बालों का असामान्य विकास जन्म के साथ शुरू हो जाता है। जो कभी खत्म नहीं होता है। बाल, आमतौर पर लंबे और मोटे होते हैं, जो व्यक्ति के चेहरे और शरीर को ढकते हैं।

अतिरोमता

हाइपरट्रिचोसिस का यह रूप महिलाओं में ही पाया जाता है। जिसके परिणामस्वरूप उन जगहों पर काले, घने बाल उगते हैं। जिसमें महिलाओं के बाल सामान्य रूप से नहीं होते, जैसे कि उनका चेहरा, छाती और पीठ।

हाइपरट्रिचोसिस के कारण

जन्मजात हाइपरट्रिचोसिस जीन के पुनर्सक्रियन के कारण हो सकता है जो बालों के विकास का कारण बनता है। शुरुआत में एक आदमी में बालों के व्यापक विकास का कारण बनने वाले जीन विकास के दौरान "बंद" हो गए। इस गलती का अभी तक कोई ज्ञात कारण सामने नहीं आया है।

हाइपरट्रिचोसिस का इलाज

हाइपरट्रिचोसिस के विकार का कोई इलाज नहीं है। आप इस बीमारी के जन्मजात रूप को रोकने के लिए कोई उपाय नहीं कर सकते हैं। लेकिन अधिग्रहीत हाइपरट्रिचोसिस के कुछ रूपों के जोखिम को कुछ दवाओं, जैसे मिनोक्सिडिल से परहेज करके कम किया जा सकता है। लेकिन दीर्घकालिक इलाज में इलेक्ट्रोलिसिस और लेजर सर्जरी शामिल हैं। इलेक्ट्रोलिसिस छोटे विद्युत आवेशों के साथ व्यक्तिगत बालों के रोम का विनाश है। लेजर सर्जरी में एक समय में कई बालों पर एक विशेष लेजर लाइट का यूूज किया जाता है। इन इलाजों से बालों का झड़ना अक्सर स्थायी हो सकता है।

English summary

Boy with rare 'werewolf syndrome', know what is this disease in hindi

Hypertrichosis is a disorder known as 'werewolf syndrome'. Let us know what are the causes of this disease-
Story first published: Wednesday, November 23, 2022, 15:00 [IST]
Desktop Bottom Promotion