टॉन्सिल के 4 मुख्य कारण और इससे राहत पाने के घरेलू उपाय

By Lekhaka
Subscribe to Boldsky

टॉन्सिल मुंह के अन्दर जीभ के निचले भाग जबडे के साथ नांक छिद्र के ठीक नीचे मौजूद होते हैं। टॉन्सिल गहरे लाल पीले हल्के सफेद मिक्स रंग के होते हैं।

टॉन्सिल एक तरह से हानिकारक वायरल बैक्टीरिया को शरीर में प्रवेश से रोकने का काम करते हैं। परन्तु कई बार टॉन्सिल खुद संक्रमित हो जाते हैं।

टॉन्सिल मुंह में आने वाले घातक बैक्टीरिया, वायरस से संक्रमण होने पर ही दर्द तकलीफ देते हैं। टॉन्सिल बढ़ने पर गले में सूजन, दर्द, बुखार और टॉन्सिल बाहर और अन्दर की तरफ फैल जाते हैं। जिससे मुंह से बदबू, सांस लेने में परेशानी, खाने में परेशानी, इत्यादि समस्यायें उत्पन्न हो जाती हैं।

Tonsil Home Remedies | टॉन्सिल के कारण और बचाव | Boldsky
टोंसिलिटिस आमतौर पर आम सर्दी और इन्फ्लूएंजा वायरस और समूह ए स्ट्रेप्टोकोकस जैसी बैक्टीरिया के कारण होता है। टॉन्सिल को जल्दी बैक्टीरिया-वायरस से मुक्त करना जरूरी है। ज्यादा देर तक टॉन्सिल संक्रमित होने से समस्या गंभीर हो सकती है।


Boldsky

1) वायरस

टॉन्सिलिटिस का सबसे आम कारण वायरल संक्रमण है इस हालत में कुछ वायरस शामिल हैं-

  • रीनोवायरस, जो आम सर्दी के लिए भी जिम्मेदार हैं।
  • इन्फ्लुएंजा वायरस, जो भी इन्फ्लूएंजा का कारण बनता है।
  • पैराएन्फ्लुएंजा वायरस, जो कूप और लैरिन्जाइटिस जैसी स्थितियों का भी कारण बनता है।
  • एंटरोवायरस, जो हाथ-पैर-और-मुंह की बीमारी भी पैदा कर सकता है, छोटे बच्चों में एक बीमारी है जो पैर और हाथों पर मुंह के अल्सर और स्पॉट का कारण बनती है।
  • एडिनोवायरस, जो आमतौर पर दस्त का कारण होता है।
  • र्यूबोला वायरस, जो खसरा के लिए जिम्मेदार है।
  • एपस्टीन-बार वायरस, जो भी ग्रंथियों में बुखार का कारण बनता है। हालांकि, इस वायरस के कारण टॉन्सिलिटिस के मामले दुर्लभ हैं। यदि यह वायरस जिम्मेदार है, तो आपको बहुत ही बीमार महसूस होने की संभावना है और आपके गले, गले में खराश, थकान और बुखार में सूजन लसीका ग्रंथियों जैसे लक्षणों का अनुभव हो सकता है।

2) बैक्टीरिया

टॉन्सिल में लगभग 15% संक्रमण बैक्टीरिया के कारण होते हैं। हालांकि कई प्रकार के बैक्टीरिया का कारण टॉन्सिलिटिस हो सकता है, समूह ए स्ट्रेप्टोकोकस बैक्टीरिया हैं। यह एक ही बैक्टीरिया है जो कि स्ट्रिप गले का कारण है। बैक्टीरिया से संधिशोथ जैसे बुखार और डिप्थीरिया जो अतीत में टॉन्सिलिटिस से जुड़े थे, अब दुर्लभ हो गए हैं क्योंकि इन संक्रमणों के खिलाफ टीका लगाया गया है और उनके लिए चिकित्सा उपचार काफी सुधार हुआ है।

3) कवक और परजीवी

कवक और परजीवी टॉंसिलिटिस का कारण बन सकता है लेकिन यह स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में दुर्लभ है।

4) धूम्रपान

शोध के अनुसार, जो लोग धूम्रपान करते हैं वे टॉन्सिलिटिस का सामना कर सकते हैं। धूम्रपान लार प्रवाह को कम करता है, श्लेष्म द्वारा प्रदान की गई प्रतिरक्षा को कम करता है, और प्रतिकूल रूप से अच्छा बैक्टीरियल संतुलन (मौखिक माइक्रोफ्लोरा) को प्रभावित करता है ऐसा माना जाता है कि इन सुरक्षात्मक कारकों पर धूम्रपान के प्रतिकूल प्रभाव से अधिक टॉन्सिलर संक्रमण के विकास का कारण हो सकता है।

1) कुछ ठंडा खाए-पिएं

कुछ ठंडा खानेपीने से सूखे गले को शांत कर सकते हैं, इसलिए जमे फ्रूट पॉप को चूसें या अपने गले की खराश को कम करने के लिए कुछ ठंडे पीते रहें।

2) तरल पदार्थ लें

सुनिश्चित करें कि आप बहुत सारे तरल पदार्थ पीते रहें। क्योंकि निर्जलित होने के कारण सिरदर्द जैसे अन्य लक्षण खराब हो सकते हैं।

3) नमक के पानी के गरारे करें

गर्म पानी के 8 औंस में नमक के आधा चम्मच को मिलाएं और अपने गले को शांत करने के लिए गरारे के रूप में उपयोग करें। लेकिन इस बात को ध्यान में रखें कि यह उपाय छोटे बच्चों के लिए उपयुक्त नहीं होगा क्योंकि वे इसे निगल सकते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    4 Common Causes Of Tonsillitis You Must Know

    The most common cause of tonsillitis is a viral infection. Some viruses which cause this condition include...
    Story first published: Tuesday, August 22, 2017, 13:30 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more