जानिए चेस्ट पेन क्यों होता है? और इससे कैसे बचा जा सकता है

Posted By: Lekhaka
Subscribe to Boldsky

चेस्ट पेन सिर्फ हार्ट अटैक या एनजाइना नहीं है। यह गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज, स्ट्रेस या पैनिक अटैक जैसे अन्य कारणों से भी हो सकता है। कार्डिएक (दिल संबंधी) चेस्ट पेन का दर्द आमतौर पर अन्य शरीर के अंगों में फैलता है और तीव्रता में परिवर्तन नहीं करता है। नॉन-कार्डियक चेस्ट पेन दूसरी तरफ नहीं फैलता है और जब आप बैठते हैं या खड़े होते हैं तो तीव्रता में कमी हो सकती है। व्यायाम और बेहतर खानपान से दोनों तरह के चेस्ट पेन के लिए सही है। सीने में दर्द आपकी गर्दन और ऊपरी पेट के बीच होता है। हालांकि यह अक्सर दिल से जुड़े मुद्दे से होता है, लेकिन आमतौर पर यह कई अन्य समस्याओं में से एक के कारण होता है।

चेस्ट पेन के कारण

चेस्ट पेन के कारण

चेस्ट पेन हार्ट अटैक या एनजाइना या गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग, एक चिंता और चेस्ट वॉल जैसी अन्य हृदय संबंधी समस्याओं का नतीजा हो सकता है। यदि आपको छाती में गंभीर दर्द हो रहा है, तो यह दिल से संबंधित हो सकता है (कार्डियक)। कार्डिएक छाती में दर्द या तो दिल का दौरा पड़ने का संकेत देता है - जहां दिल की एक हिस्से को रक्त की आपूर्ति अवरुद्ध कर दी जाती है - या एनजाइना हो सकता है, जहां दिल की मांसपेशियों को रक्त की आपूर्ति बाधी होती है।

छाती में दबाव के परिणाम

छाती में दबाव के परिणाम

कम से कम 15 मिनट से अधिक समय तक दर्द होना

आपके शरीर के अन्य हिस्सों में फैलता है जैसे कि आपकी बाहों और पीठ

अन्य लक्षण सांस की कमी, मतली, और व्यर्थ पसीना आना

गैस्ट्रोओफेगागल रिफ्लक्स डिजीज

गैस्ट्रोओफेगागल रिफ्लक्स डिजीज

गैस्ट्रोओफेगागल रिफ्लक्स डिजीज (जीईआरडी) - एक ऐसी स्थिति जिसमें पेट से एसिड ज्यादा हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप आपके मुंह में एक अप्रिय स्वाद और आपकी छाती में जलन होती है।

कार्डिएक और नॉन-कार्डिएक चेस्ट पेन के बीच अंतर

कार्डिएक और नॉन-कार्डिएक चेस्ट पेन के बीच अंतर

कार्डिएक चेस्ट पेन आपके शरीर के अन्य हिस्सों में फैलता है और इसकी तीव्रता नॉन-कार्डिएक चेस्ट पेन के मामले में भी विपरीत है। हृदय और अन्नप्रणाली दोनों एक दूसरे के करीब छाती में स्थित होते हैं और एक समान तंत्रिका आपूर्ति होती है। इसलिए, यदि आपके दोनों क्षेत्रों में दर्द है, तो वही तंत्रिका फाइबर मस्तिष्क की उत्तेजना देती है, जिससे दोनों के बीच अंतर करना मुश्किल हो जाता है।

कार्डियक चेस्ट पेन

कार्डियक चेस्ट पेन

कार्डियक चेस्ट पेन उस तरह का है जो आपके शरीर के अन्य हिस्सों जैसे कि आपके बाहों (विशेष रूप से आपके बाएं हाथ के ऊपरी हिस्से), कंधे, गर्दन और पीठ में फैलता है। नॉन-कार्डियक चेस्ट पेन आमतौर पर जीईआरडी से जुड़ा होता है। यह एनोफेगल आंतों के कारण आपके गले और ऊपरी छाती में फैल सकता है।

कार्डियक चेस्ट पेन के लक्षण

कार्डियक चेस्ट पेन के लक्षण

अगर आपको नॉन-कार्डियक चेस्ट पेन हो रहा है, तो आपको गहरी श्वास या खाँसी लेने के दौरान यह गंभीर हो सकता है। यदि शरीर की स्थिति में बदलाव के कारण आपकी सीने की तीव्रता में परिवर्तन होता है, तो यह सबसे ज्यादा दिल से संबंधित नहीं है। जब आप अपने शरीर को सीधा करते हैं तो जीईआरडी के कारण छाती में दर्द कम होता है। जब आप बैठते हैं या खड़े होते हैं झुकने हैं, तो स्थिति बदतर बन सकती है। दूसरी ओर, कार्डियक चेस्ट पेन, शरीर की स्थिति किसी भी बदलाव के बावजूद बनी होती है।

5 Ayurveda tricks avoid Chest pain | सीने में है दर्द तो अपनाएं ये आयुर्वेदिक टिप्स | Boldsky
चेस्ट पेन का इलाज

चेस्ट पेन का इलाज

दर्द कोई सा भी इससे फर्क नहीं पड़ता है। अगर आप किसी भी लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो आपको डॉक्टर से सलाह ललेनी चाहिए। आप अपने आप को फिट रखने के द्वारा भी इससे बच सकते हैं। हर दिन कम से कम 30 मिनट का व्यायाम करने से आप अपना वजन नियंत्रित कर सकते हैं और तनाव को कम कर सकते हैं, जिससे दिल का दौरा पड़ने की संभावना बढ़ सकती है। यदि आपकी सीने में दर्द गर्ड के कारण है, तो आप तला और मसालेदार खाद्य पदार्थों के सेवन को कम कर सकते हैं।

English summary

Everything You Need To Know About Chest Pain

Chest pain is not just heart attack or angina. It may also be due to other causes such as gastroesophageal reflux disease, stress or panic attack.
Please Wait while comments are loading...