क्या आप टॉयलेट फोन यूज करते हैं? आपको हो सकती हैं ये खतरनाक समस्याएं

Posted By: Lekhaka
Subscribe to Boldsky

हमें स्मार्टफोन की इतनी लत लग चुकी है कि टॉयलेट इस्तेमाल करने के दौरान भी हम अपना स्मार्टफोन साथ ले जाना नहीं भूलते। लेकिन क्या आप जानते हैं, ये आदत आपके स्वास्थ्य के लिए कितनी खतरनाक हो सकती है और इसकी वजह से कितनी बीमारियां आपके शरीर में घर कर सकती है?

असल में कई बार साफ करने के बावजूद भी हमारे टॉयलेट से कीटाणु पूरी तरह हट नहीं पाते। टॉयलेट के हर कोने पर बैक्टीरिया और वायरस जमे रह जाते हैं और फिर यही कीटाणु हमारे फोन पर आ जाते हैं। जिसकी वजह से हमें बहुत तरह की बीमारियां हो सकती हैं

 Why you need to stop using phone in the toilet

टॉयलेट की शीट, फ्लश, दीवारें आदि लाखों कीटाणुओं से घिरे रहते हैं। दरअसल, टॉयलेट फ्लश करते हुए पानी के साथ वेस्ट मटेरियल के छोटे-छोटे कण भी चारो दिशा में 6 फुट तक ऊपर उठते हैं और टॉयलेट के हर हिस्से में फैल जाते हैं। इसी वजह से हमारे साफ दिखते टॉयलेट में भी काफी कीटाणु होते हैं।

Harmful Effects of using Smartphones in Toilets, खतरनाक है टॉयलेट में मोबाइल का इस्तेमाल | Boldsky
मोबाइल फोन इस्तेमाल करते हुए यही कीटाणु हमारे हाथों के जरिए स्मार्टफोन की स्क्रीन और कवर पर चले जाते हैं। अब यही स्मार्टफोन हम बाद में या खाना खाते हुए भी इस्तेमाल करते हैं, जिससे फोन पर चिपके कीटाणुओं को हमारे शरीर पर या मुंह के अन्दर जाने का रास्ता मिल जाता है। ये कीटाणु इतने खतरनाक होते हैं कि इनसे हमें कई खतरनाक चर्मरोग और शारीरिक बीमारियां हो सकती हैं।
phone

टॉयलेट के अन्दर ई-कोलाई, शिगेला, हेपेटाइटिस ए, एमआरएसए, नोरोवायरस और गेस्ट्रोइन्टेस्टिनल वायरस जैसे कीटाणु होते हैं। जो हमें डायरिया, उल्टी, पेट में ऐंठन, पेट दर्द जैसी बीमारियों का शिकार बना सकते हैं। साथ ही साल्मोनेला, स्ट्रेप्टोकोकस की वजह से हमें कई प्रकार के चर्मरोग भी हो सकते हैं.

चूंकि स्मार्टफोन के अधिकतर कवर रबर के बने होते हैं, जो खतरनाक बैक्टीरिया और वायरस को अनुकूल वातावरण प्रदान करते हैं। साथ ही फ्लश या शौच करते हुए बैक्टीरिया वायु कणों के द्वारा हमारे फोन पर चिपक जाते हैं।

English summary

Why you need to stop using phone in the toilet

When you take your mobile to the loo with you, you expose it to many germs and salmonella like bacteria.
Please Wait while comments are loading...