For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

नीलग‍िरी के पत्तों में छ‍िपा है सांस की तकलीफ और जुकाम, जानें अन्य फायदे

|

नीलगिरी एक सदाबहार पेड़ है। ये कई संक्रमण जैसे खांसी, जुकाम और भीड़ के लक्षणों को कम करने के लिए किया जाता है। इसके साथ ही ये कई स्वास्थ्य लाभ के साथ मांसपेशियों और जोड़ों के दर्द से भी छुटकारा दिलाता है। ऐसे ही इसके पेड़ से निकलने वाले तेज का इस्तेमाल कई चीजों में किया जाता है। यूकेलिप्टस के पत्तों का इस्तेमाल अस्थमा और सांस संबंधित स्थितियों के लिए भी किया जाता है। इसी तरह ये कई कारणों से अहम माना जाता है। हम आपको इस लेख में बताएंगे कि यूकेलिप्टस कितना फायदेमंद है और ये कैसे सांस की समस्याओं से छुटकारा दिला सकता है।

जुकाम और ठंड को दूर करता है यूकेलिप्टस

जुकाम और ठंड को दूर करता है यूकेलिप्टस

सर्दी और ब्रोंकाइटिस के लिए ये एक तरीके का लोकप्रिय घरेलू उपाय है। आपको बता दें कि यूकेलिप्टस या नीलगिरी कफ को खत्म करने के लिए भी फायदेमंद होता है। खांसी की कई दवाओं में नीलगिरी का तेल शामिल होता है। हालांकि, शोधकर्ताओं ने सांस की समस्या को पूरी तरह से ठीक करने को लेकर यूकेलिप्टस पर अध्ययन करने की बात कही है।

नीलग‍िरी की चाय बनाकर पीएं

नीलग‍िरी की चाय बनाकर पीएं

आमतौर पर इस तरह के हर्बल का इस्तेमाल चाय के जरिए ही किया जाता है जो आपके सांस और संक्रमण को कम करने का काम करता है। यूकेलिप्टस की चाय पीने के लिए आप इसकी पत्तियों का इस्तेमाल करें। चाय को बनाते समय अच्छी तरह से उबाल लें और फिर गुनगुना रहने पर इसका सेवन कर लें।

यूकेलिप्टस से करें गरारा

यूकेलिप्टस से करें गरारा

अगर आपके गले में कफ या भारीपन महसूस हो रहा हो तो आप इसके गरारे भी कर सकते हैं। यूकेलिप्टस से गरारे करने से आप बंद नाक और जुकाम से छुटकारा पा सकते हैं। इसके लिए आप गुनगुने पानी के साथ इसकी पत्तियों को डाल लें और गरारे करें।

यूकेलिप्टस का ड्रॉप

यूकेलिप्टस का ड्रॉप

नीलग‍िरी की पत्तियों का ड्रॉप या बूंदे भी आपके लिए काफी फायदेमंद होती है जो संक्रमण का इलाज करती है। इसे अपनाने के लिए आप नीलगिरी की पत्तियों को पानी के साथ उबलने दें और इसे ठंडा कर किसी बोतल में रख लें और जब भी आपको इसका इस्तेमाल करना हो तो इसका ड्रॉप ले लें।

यूकेलिप्टस के अन्य फायदे क्या हैं?

यूकेलिप्टस के अन्य फायदे क्या हैं?

दांतों को रखता है स्वस्थ

नीलगिरी में मौजूद गुण और रोगाणुरोधी क्षमता माउथवॉश और दांतों को स्वस्थ रखने में मददगार होता है। इसके साथ ही नीलगिरी दांतों में मौजूद बैक्टीरिया से लड़ने में सक्रिय होता है जो दांतों की सड़न और पीरियडोंटाइटिस का कारण बनता है।

 फंगल संक्रमण और घाव

फंगल संक्रमण और घाव

त्वचा पर होने वाले कई संक्रमण के इलाज के लिए यूकेलिप्टस को फायदेमंद और असरदार माना जाता है। ये आपके घाव या चोट पर भी काम करता है और उसे ठीक करने में मदद करता है।

दर्द में राहत

दर्द में राहत

नीलगिरी दर्द निवारक के रूप में भी काम करता है, मांसपेशियों या हड्डियों में होने वाले कुछ दर्द को ये कम कर करने में आपकी मदद कर सकता है।

English summary

Unexpected Benefits of Eucalyptus Leaves in Hindi

you’re probably wondering what to do with the eucalyptus leaves.