For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

स्‍तनपान के बाद कैसे स्‍तनों को ढीलें होने से बचाएं, पढ़े ये टिप्‍स

|

निस्संदेह, स्तनपान आपके बच्चे के लिए सबसे अद्भुत चीजों में से एक है जो आप कर सकते हैं। लेक‍िन कभी-कभी महिलाएं स्‍तनपान के वजह से ढ़ीले पड़ गए स्‍तनों की चिंता से परेशान हो जाती है। आपकी गर्भावस्था के दौरान, आपका वजन स्वाभाविक रूप से बढ़ता है और आपके स्तनों का आकार बढ़ता है। स्तनपान के दौरान आपका स्तन कैसे बदलता है, यह कुछ अलग-अलग कारकों पर भी निर्भर करता है जैसे कि आपके दूध की आपूर्ति और आप कितनी बार दूध पिलाती हैं।

स्तनपान कराने वाली अधिकांश महिलाओं को स्तनपान बंद करने पर उनके स्तनों में अंतर दिखाई देगा, लेकिन क्या स्तनपान के बाद स्तनों को ढीला होने से रोकने का कोई तरीका है?

अच्‍छी सर्पोटिव ब्रा पहनें

अच्‍छी सर्पोटिव ब्रा पहनें

गर्भावस्था के दौरान और बाद में सपोर्टिव ब्रा पहनना बहुत जरूरी है। गर्भावस्था के दौरान आपके स्तनों में भारीपन आ जाता है। क्‍योंकि आपका वजन बढ़ता है और आपके स्तन दूध का उत्पादन करना शुरू कर देते हैं, इसलिए आपको सर्पोटिव ब्रा पहनें। सभी गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए एक अच्छी सहायक नर्सिंग ब्रा होना आवश्यक है, लेकिन यह सही ढंग से फिट होनी चाहिए।ब्रा को सहज महसूस करना चाहिए और अपने स्तनों को एक सीधी स्थिति में मजबूती से पकड़ना चाहिए। यह सुनिश्चित करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आपने सही ब्रा पहनी है, किसी विशेषज्ञ से फिटिंग करवा लेना चाहिए।अच्‍छी क्‍वॉल‍िटी वाली ब्रा पहनने से स्तनपान के बाद स्तनों को ढीला होने से रोकने में मदद मिलेगी।

अच्छी पोस्‍चर में स्तनपान कराएं

अच्छी पोस्‍चर में स्तनपान कराएं

अधिकांश माताएं स्तनपान के दौरान स्वाभाविक रूप से अपने बच्चे पर झुक जाती हैं, हालांकि, इसका आपके स्तनों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। स्तनपान के दौरान अपनी मुद्रा सुनिश्चित करने का सबसे अच्छा तरीका है कि बच्चे को स्तन स्तर तक उठाने के लिए एक नर्सिंग तकिया या दूसरे तरीका का स्‍पोर्ट ल‍िया जाएं।कहना का मतलब ये है क‍ि बच्चे के स्तन को नीचे की ओर झुकाने से बचें। इस पोस्‍चर में स्तनपान कराने से स्तनपान के बाद स्तनों को ढीला होने से रोकने में मदद मिलेगी।

गर्म और ठंडे पानी से मालिश करें

गर्म और ठंडे पानी से मालिश करें

क्या आप जानते हैं कि गर्म पानी रक्त परिसंचरण में सुधार करता है जबकि ठंडा पानी टोनिंग और कसने में मदद करता है?वैकल्पिक रूप से, आप अपने स्तनों को गर्म फलालैन और बर्फ के टुकड़ों से मालिश कर सकते हैं लेकिन इतना नहीं कि आप अपने स्तनों को सुन्न कर दें।

अपने स्तनों को समय-समय पर मॉइस्चराइज करें

अपने स्तनों को समय-समय पर मॉइस्चराइज करें

अपने स्तनों को नमीयुक्त रखने से आपके स्तनों की लचीलेपन को नियंत्रित रखने में मदद मिलेगी, जो बदले में, उन्हें कोमल बनाए रखेगा और स्तनपान के बाद स्तनों को शिथिल होने से रोकने में आपकी मदद करेगा।विटामिन ई तेल, शिया बटर या कोकोआ बटर को दिन में कम से कम 2 बार सुबह और रात में स्तनों पर लगाएं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे हर समय ठीक से मॉइस्चराइज़्ड हैं। यह न केवल स्तनों की लोच में सुधार करेगा बल्कि त्वचा को भी कसेगा और खिंचाव के निशान की उपस्थिति को कम करेगा जो अक्सर स्तनों पर विकसित हो सकते हैं।

सही डाइट लें

सही डाइट लें

क्या आप जानते हैं कि स्तनपान कराने वाली महिलाओं को सामान्य से अधिक फल और सब्जियां खानी चाहिए?कॉम्‍प्‍लेक्‍स कार्ब्स, प्रोटीन और स्वस्थ वसा से भरपूर डाइट को फॉलो करने से स्तनपान कराने वाली महिलाओं को स्वस्थ त्वचा और स्तनों में दिखाई देने वाले कनेक्टिव टिश्‍यूज के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करने में मदद मिल सकती है।स्तनपान कराने वाली मांओं को भी अंडे की जर्दी और मक्खन खाना चाह‍िए, जिसमें एराकिडोनिक एसिड होता है, जो स्तनों को दृढ़ रखने में मदद करता है।

एक्‍सरसाइज शुरू करें

एक्‍सरसाइज शुरू करें

फिटनेस में वापस आना नई मांओं के लिए वास्तव में मुश्किल हो जाता है लेकिन व्यायाम करने से भी इनमें कसावट रहती है।नियमित व्यायाम आपकी त्वचा में कसावट बनाए रखने में मदद करेगा और आपके शरीर में वसा की मात्रा को कम करेगा जो अनिवार्य रूप से स्तनपान के बाद स्तनों को ढीला होने से रोकने में मदद करेगा।यह केवल नई मांओं के मामले में ही नहीं है, आपको गर्भावस्था के शुरुआती और मध्य चरणों में भी मध्यम व्यायाम करने का प्रयास करना चाहिए। तेजी से वजन घटाने से बचने के लिए, जिसका नकारात्मक प्रभाव हो सकता है, धीरे-धीरे वजन कम करने की कोशिश करें और एक ही बार में और थोड़े समय के भीतर नहीं।

English summary

How To Prevent Breast Sagging After Breastfeeding In Hindi

How your breast change during breastfeeding can depend on a few different factors such as your milk supply and how often you feed.