ज‍ानिए, राजस्‍थान के शेखावटी में किसान क्‍यों कर रहे है शराब से खेती?

Posted By:
Subscribe to Boldsky

फसलों को कीट खरपतवारों से बचाने के लिए और महंगे कीटनाशकों से परेशान राजस्‍थान के शेखावटी क्षेत्र के किसानों ने एक नया तरीका ईजाद किया है जिसमें किसान कीटनाशक की जगह शराब का छिड़काव कर रहे हैं।

जी हां, यह बिल्कुल सही सुना आपने। वर्तमान में बहुत से किसान खेती करने में शराब का उपयोग कर रहें हैं अपनी फसलों को रोगों से बचाए रखने के लिए शेखावाटी किसानों ने एक अनोखा प्रयोग किया है और इस प्रयोग के तहत ये किसान अपनी फसल में कीटनाशक के प्रयोग की जगह देशी तथा अंग्रेजी शराब का छिडक़ाव कर रहें हैं।

उनके हिसाब से ना तो कीट खरपतवार उनके फसलों को कोई नुकसान पहुंचा पाएंगे और ना ही उन्‍हें फसलों में म‍हंगे और रासायानिक कीटनाशकों का छिड़काव करना पड़ेगा।

इन दो कारणों की वजह से

इन दो कारणों की वजह से

शेखावटी में किसान अब शराब का प्रयोग कीटनाशकों के स्थान पर कर रहें हैं, इसके दो कारण है एक तो कीटनाशकों का मूल्य बहुत ज्यादा बढ़ गया है, जिसके कारण किसान उनको खरीद नहीं पा रहें हैं और दूसरे शराब का प्रयोग करने पर फसल की ग्रोथ अच्छी होती है, जिससे किसानों को अधिक पैदावार मिल रही है। हालांकि कृषि वैज्ञानिक इस प्रकार की किसी भी साइंटिफिक रिसर्च से मनाही ही कर रहें हैं, पर किसानों का तर्क है कि इससे पैदावार अच्छी हो रही है।

25-30 एमएल है काफी

25-30 एमएल है काफी

किसानों का कहना की महज 25-30 एमएल शराब आधे बीघा खेत के लिए बहुत होती है, अधिकतर किसान 11 लीटर और 16 लीटर की स्प्रे मशीन में 100 एमएल तक देसी और अंग्रेजी शराब डालकर छिड़काव कर रहे हैं। जो की किसी भी प्रकार के कीटनाशक से कहीं कम बैठती है और पैदावार भी ज्यादा देती है।

किसानों का तर्क

किसानों का तर्क

शराब का प्रयोग करने पर फसल की ग्रोथ अच्छी हो रही है, जिससे किसानों को अधिक पैदावार मिल रही है। हालांकि कृषि वैज्ञानिक इस प्रकार की किसी भी साइंटिफिक रिसर्च से मनाही ही कर रहें हैं, पर किसानों का तर्क है कि इससे पैदावार अच्छी हो रही है।

कहां है शेखावाटी क्षेत्र

कहां है शेखावाटी क्षेत्र

राजस्‍थान की राजधानी जयपुर के आसपास के शहर झुंझुनू और सीकर शेखावाटी क्षेत्र में आते हैं।

English summary

Daaru Brands Are Now Our Indian Farmer’s Choice Of Pesticide

Farmers of Jaipur, Rajasthan are now making use of desi tharra and imported alcohol as alternates to pesticide.
Please Wait while comments are loading...