दुनिया जीतने वाले सिकंदर ने भारत के इस फकीर के सामने झुकाया था सिर

Posted By:
Subscribe to Boldsky

सिकंदर के बारे मे भला कौन नहीं जानता होगा। आपको तो पता ही होगा की सिकंदर पूरे विश्व को जीतने निकला था। एक समय ऐसा भी आया कि उसने समस्त संसार पर विजय प्राप्त भी कर ली थी। आज हम इसके बारे में बात करेंगे कि सिकंदर कौन था।

आपको बता दें कि सबकुछ जीतने के बाद जब उसने भारत की तरफ रुख किया था। सिकंदर ने भारत के एक फकीर के बारे में सुन रखा था। वो इस फकीर से मिलने की इच्छा रखता था। इस फकीर के बारे में मशहूर था कि वो किसी को भी अपनी बाते मनवा लेता था।

जीत के गुरुर में जब सिकंदर इस फकीर से मिलने पहुंचा तो कुछ ऐसा हुआ कि वो सिकंदर जीवन भर नहीं भूल पाया होगा। दरअसल अपनी जीत के कारण सिकंदर को घमंड हो गया था।

आखिर क्यों भारत को माना जाता है कामसूत्र का जन्मदाता, कितनी सच है ये बात

लेकिन जब वो उस फकीर के पास पहुंचा तो फकीर ने सिकंदर का घमण्ड दो मिनट तोड़ दिया था। आइए जानते है इस फकीर और सिकंदर के बारे में ये सच्ची घटना..

फकीर का नाम डायोजिनीस था

फकीर का नाम डायोजिनीस था

आपको बता दें कि सिकंदर जिस फकीर से मिला था उसका नाम डायोजिनीस था। ऐसा कहा जाता था कि ये फकीर हमेशा अपने आप में ही मस्त रहता था। हमेशा वो ध्यानमग्न ही रहता था। ये बात जब सिकंदर को पता चली तो उसने फकीर से मिलने की इच्छा जाहिर की थी।

इतिहास के ऐसे लोग जो मरने के बाद भी कमाते है करोड़ों डॉलर

फकीर के पास जब पहुंचा सिकंदर

फकीर के पास जब पहुंचा सिकंदर

सिकंदर इस फकीर के पास पहुंचा तो फकीर ने उससे एक सवाल किया कि तुम क्या कर रहे हो और आगे क्या करना चाहते हो। सिकंदर इस बात का जवाब देते हुए कहा कि वो एशिया महाद्वीप जीतने जा रहा है। क्योंकि वो समस्त संसार को जीतने के लिए निकला है।

फकीर ने पूंछा एक सवाल

फकीर ने पूंछा एक सवाल

सिकंदर की बात सुनकर फकीर ने उससे एक सवाल पूंछा की समस्त संसार जीत के तुम क्या करोगें। इस बात को सुनकर सिकंदर ने कही कि वो इसके बाद आराम करेगा। तब फकीर ने कहा कि इसके लिए संसार जीतने की क्या आवश्यकता है। आराम तो तुम ऐसे भी कर सकते हो। देखो मै तो दिनभर आराम करता हूं। इतना कहने के बाद फकीर हंसने लगा।

गुस्से से लाल हो गया सिकंदर

गुस्से से लाल हो गया सिकंदर

फकीर की बात सुनकर गुस्से में सिकंदर बोला कि तुम शायद मेरे बारे में जानते नहीं हो। मैने पूरे संसार को जीता है। मै एक महान इंसान हूं शायद तुम मेरे हाथों से मरना चाहते हो।

फकीर ने दिया ये जवाब

फकीर ने दिया ये जवाब

फकीर ने कहा कि तुम एक महान इंसान हो ही नहीं सकते हो। तुम भी हम सबकी तरह एक साधारण से मनुष्य हो। अगर तुम महान हो तो मेरी एक बात का जवाब दे दो। ये बात सुनकर थोड़ा शांत होते हुए सिकंदर ने फकीर से सवाल पूंछने के लिए कहा।

सवाल सुनकर फंस गया सिकंदर

सवाल सुनकर फंस गया सिकंदर

फकीन कहा कि अगर तुम किसी ऐसे रेगिस्तान में फंस जाओ जहां पानी की एक बूंद भी ना हो और तुम प्यास से मरने वाले हो तब कोई तुम्हारे पास एक ग्लास पानी लेकर आए तो पानी के बदले में तुम क्या दोगे। ये सुनकर सिकंदर सोच में पड़ गया।

 सिकंदर ने ये कहा

सिकंदर ने ये कहा

सिकंदर ने कहा कि वो एक ग्लास पानी के बदले में अपना आधा राज पाठ दे देगा। फकीर ने कहा कि उसने फिर भी पानी ना दिया तो क्या करोगे तो वो बोला कि जान बचाने के लिए वो अपना सारा राजपाठ उसको दे देगा। तब फकीर ने कहा कि तुम्हारा राज पाठ एक गिलास पानी की कीमत का भी नही है फिर इसके लिए क्यों परेशान हो। इसके लिए तुमको घमंड क्यों है।

सिकंदर घमंड टूट गया

सिकंदर घमंड टूट गया

फकीर की ये बात सुनकर सिकंदर का घमंड टूट गया और वो फकीर के पैरो में गिर गया और अपनी गुस्ताखी के लिए माफी मांगी।

English summary

story of Alexander the great and a naked fakir

Who does not know well in Alexander's time. You must know that Alexander went out to win the whole world. It was also one time that he had conquered all over the world. Today we will talk about Alexander.
Please Wait while comments are loading...