क्‍या आपने सोचा है कि पुरुषों के निपल्‍स क्‍यों होते हैं?

Posted By:
Subscribe to Boldsky

हम सभी इंसानों के शरीर पर निपल्‍स होते हैं और जब कभी महिलाएं पुरुषों के निपल्‍स की तरफ देखती हैं तो उन्‍हें अचम्‍भा होता है कि पुरुषों के पास निपल्‍स क्‍यूं होते हैं? आज इस आर्टिकल में हम आपको मानव शरीर के रचना और उससे जुड़े वैज्ञानिक कारणों के बारे में बताएंगे।

क्‍या आप जानते हैं कि न सिर्फ इंसानों के पास बल्कि कुछ स्‍तनधारियों जीवों के नर में भी निपल्‍स पाए जाते हें। अब ये पढ़कर तो आप भी बहुत उत्‍सुक हो गए होंगे और इस बारे में जरुर सोच रहे होंगे।

आइए जानते है कि क्‍यों पुरुषों और स्‍तनधारी जीवों की नर प्रजाति में भी निपल्‍स पाए जाते हैं। जबकि न तो उनके दूध बनता है और न हीं वो अपने बच्‍चों को स्‍तनपान करवाते हैं।

पुरुषों में महिलाओं का ब्‍लूप्रिंट होता हैं?

पुरुषों में महिलाओं का ब्‍लूप्रिंट होता हैं?

गर्भ में विकास के पहले 4 हफ्तों के दौरान, माना जाता है कि गर्भ में मानव भ्रूण का आनुवंशिक और एक ब्‍लूप्रिंट तैयार होता हैं। सामान्‍यता गर्भ में सबसे पहले महिला भ्रूण तैयार होता हैं। चाहे वो कोई लिंग हो लेकिन शुरुआत के चार हफ्तों का गर्भ एक महिला भ्रूण की तरह ही विकसित होता हैं। चार हफ्तों के बाद Y गुणसूत्र सक्रिय होकर गर्भ में पुरुष भ्रूण का रुप ले लेते हैं।

गर्भ में ही बन जाती है मिल्‍क लाइन

गर्भ में ही बन जाती है मिल्‍क लाइन

गर्भ में जब भ्रूण में विकसित होने लगता हैं तो सबसे पहले स्‍तन या निपल्‍स लाइन तैयार होती हैं जो ऊपरी धड़ से निचले पेट को अलग करते हैं। कई शोध ने बताया है कि यह दुग्‍ध रेखा जिसे मिल्‍क लाइन कहा जाता हैं यह XX और XY गुणसूत्र के विभाजित होने से पहले ही बन जाती हैं।

टेस्टोस्टेरोन पर निर्भर करता हैं निपल्‍स की साइज

टेस्टोस्टेरोन पर निर्भर करता हैं निपल्‍स की साइज

गर्भ में टेस्‍टोस्‍टेरोन की मौजूदगी दूध की रेखाएं और स्तन के ऊतकों को कम करने के लिए भ्रूण के शरीर को चक्कर लगाती है। इस वजह से पुरुषों के निपल्‍स की साइज तुलनात्‍मक कम होती हैं।

जन्म के समय होता है कुछ नवजात बच्‍चों का नर्स लैक्टेट

जन्म के समय होता है कुछ नवजात बच्‍चों का नर्स लैक्टेट

यह एक आश्चर्य की बात है, लेकिन जन्‍म के समय कई मेल बेबीज के निपल्‍स से दूध निकलता है जिसे "witch's milk." या "चुड़ैल का दूध" भी कहा जाता है। स्‍तन में दूध बनाने वाले हार्मोन को 'प्रोलैक्टिन' कहते हैं। जो मां के नाल से बच्‍चें मो जाती है और इस वजह से बच्‍चों में लेक्‍टेटिंग होती हैं।

बच्‍चों को दूध पिलाने की कोशिश करते हैं

बच्‍चों को दूध पिलाने की कोशिश करते हैं

जैसा कि अफ्रीकन छोटे कदों के पुरुषों की अका जनजाति में देखा गया है कि शिशुओं को खाने का नाटक करते हुए पुरुष अपने नवजात शिशुओं को अपना स्‍तनपान करवाते हैं। इस दौरान प्रोलैक्टिन हार्मोन की मात्रा बढ़ने लगती है और टेस्टोस्टेरोन के स्‍तर में कमी आने लगती है जिस वजह से उनके निपल्स प्रभावी स्तनों में बदल जाते हैं।

क्‍या आपको इंसानों को 2 से ज्‍यादा निपल्‍स होते हैं

क्‍या आपको इंसानों को 2 से ज्‍यादा निपल्‍स होते हैं

एक रिसर्च के अनुसार इंसान का जब जन्‍म होता है तो उसके दो से ज्‍यादा निपल्‍स होते हैं, यह पुरुष और महिलाओं में समान होता है। हर चालीस में से एक नवजात में निपल्‍स की ग्रोथ ज्‍यादा होती हैं।

हर स्‍तनधारी जीव के पास निपल नहीं होते हैं

हर स्‍तनधारी जीव के पास निपल नहीं होते हैं

स्‍तनधारी जीवों पर हुई रिसर्च के अनुसार दूसरे स्‍तनधारी जैसे घोड़े, चूहे , प्लैटिपस और दूसरे कई जीव बिना निपल के ही पैदा होते हैं। बल्कि जब ये जीव गर्भ में होते है तो इनके निपल बनते है। लेकिन बाद में गर्भ में विकास के दूसरे चरणों में निपल्‍स धीरे धीरे गायब हो जाते हैं।

वे सिर्फ वहीं हैं!

वे सिर्फ वहीं हैं!

चूंकि पुरुष निपल्स मनुष्य के जीवन में कोई हस्तक्षेप नहीं करते हैं ना ही उनकी कोई विशेष भूमिका होती हैं, न हीं प्रजनन और शारीरिक संबंध बनाते समय इनकी कोई विशेष भूमिका होती हैं, इसलिए, यहां कोई प्राकृतिक कारण नहीं है कि पुरुष के निपल्‍स नहीं होने चाहिए।

पुरुषों को भी ब्रेस्‍ट कैंसर हो सकता हैं?

पुरुषों को भी ब्रेस्‍ट कैंसर हो सकता हैं?

हालांकि आदमियों के निपल्‍स काफी छोटे छोटे होते हैं, लेकिन इनकी वजह से कई तरह की शारीरिक समस्‍याएं हो सकती हैं, पुरुषो के पास भी स्‍तन ऊतक होते हैं जिस वजह से उन्‍हें भी ब्रेस्‍ट कैंसर का खतरा बना रहता हैं।

Story first published: Monday, June 19, 2017, 14:34 [IST]
English summary

Wonder Why Men Have Nipples?

Boldsky Insync presents to you hot spicy news on the latest happenings all around the world to fill you with the latest news and current affairs.
Please Wait while comments are loading...