For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

फ्री न‍िप्‍पल मूवमेंट: यूएस के इन शहरों में महिलाएं घूम सकती है टॉपलेस, कानूनी तौर पर मिली इजाजत

|

अमेरिका के कुछ राज्‍यों में महिलाओं का टॉपलेस घूमना की कानूनी इजाजत मिल गई हैं। जी हां, महिलाएं अब कुल छह अमेरिकी राज्‍यों में बिना टॉप पहने पब्लिक जगहों पर घूम सकती हैं। पश्चिमी अमेरिका के छह राज्‍यों व्‍योमिंग (Wyoming), उताह (Utah), कोलोराडो (Colorado), कैनसस (Kansas), न्यू मेक्सिको (New Mexico) और ओक्लाहोमा (Oklahoma) में महिलाएं बेरोक-टोक होकर टॉपलेस होकर घूम सकती हैं। वहीं, इन राज्‍यों में रहने वाली कई महिलाओं ने इस फैसले का विरोध भी किया था, लेकिन कोर्ट ने 'फ्री द निप्पल' (Free the nipple) मूवमेंट की बात मानी और इन 6 राज्‍यों में औरतों के टॉपलेस घूमने की मंजूरी दे दी।

Women can now legally go topless in 6 states

फ्री द निप्पल मूवमेंट के तहत

दरअसल, 'फ्री द निप्पल' नाम से कई महिलाओं ने एक ग्लोबल मूवमेंट चलाया है। इस आंदोलन में महिलाओं की मांग थी कि उनको भी पुरुषों की ही तरह टॉपलेस घूमने का अधिकार दिया जाए। साथ ही इस मूवमेंट के पीछे उनका मानना था कि महिलाओं का शरीर सिर्फ सेक्सुअल ऑबजेक्ट नहीं है, बल्कि उन्हें भी पुरुषों की तरह समान अधिकार मिलने चाहिए। इसी मूवमेंट पर अपना फैसला देते हुए कोर्ट ने टॉपलेस बैन को हटा दिया।

Most Read : कंडोम नहीं रखने पर दिल्‍ली में कैब ड्राइवरों को कटेगा चालान, जानें क्‍यों फर्स्‍ट एड बॉक्‍स में रखना है जरुरी

एक र‍िपोर्ट के मुताबिक इस फैसले को रोकने के लिए फॉर्ट कॉलिन्स, कोलोराडो शहर ने 2 करोड़ से ज्यादा रुपये खर्च कर द‍िए लेकिन कोर्ट का फैसला आने के बाद फॉर्ट कॉलिन्स सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि इस फैसले को रोकने में लगाई जाने वाली धनराशि को शहर की बाकि अहम चीज़ों पर खर्च करने चाहिए।

इस फैसले के खिलाफ की थी अपील

टॉपलेस बैन (Topless Ban) को हटाने के लिए फरवरी में अपील की गई और अब ये बैन हट चुका है। फॉर्ट कॉलिन्स शहर में सितंबर के आखिरी हफ्ते से ही महिलाएं टॉपलेस होकर घूम सकेंगी। इससे पहले सिर्फ 10 साल से कम उम्र वाली बच्चियां ही बिना टॉप के पब्लिक प्लेस में जा सकती थीं।

English summary

Women can now legally go topless in 6 states

Women in six U.S. states are now effectively allowed to be topless in public, according to a new ruling by the U.S. 10th Circuit Court of Appeals.
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more