क्‍या स्‍तनपान करता है हार्टअटैक के खतरे को कम

By Adity pathak
Subscribe to Boldsky

हाल ही में हुए एक नये अध्‍ययन के अनुसार, यदि मां अपने बच्‍चे को स्‍तनपान करवाती है तो उसे हद्यघात यानि हार्टअटैक होने का खतरा बहुत कम हो जाता है।

Does Breastfeeding Cut Heart Attack Risk

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में यह पता चला है कि जिन महिलाओं ने अपने बच्‍चों को स्‍तनपान करवाया है उनमें हार्टअटैक होने की 10 प्रतिशत कम संभावना पाई गई।

''नई मां का मेटाबोल्जि़म अच्‍छा बना रहता है क्‍योंकि प्रसव के बाद उनका मेटाबोल्जि़म रिसेट हो जाता है '' ऐसा ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के एक शोधकर्ता सॅने पीटर्स ने बताया।

साथ ही पीटर ने बताते हुए कहा कि ''गर्भावस्‍था के दौरान, महिला का चयापचय नाटकीय रूप से बदलता रहता है और उसके शरीर से ऊर्जा का अधिकतर हिस्‍सा, बच्‍चे के शरीर की ऊर्जा की पूर्ति में चला जाता है। वहीं स्‍तनपान कराने के दौरान, महिला के शरीर का सारा फैट, दूध के साथ निकल जाता है और इससे कोलेस्‍ट्रॉल में कमी आ जाती है जिससे हार्टअटैक का खतरा कम हो जाता है।''

इस अध्‍ययन में चीन की 28 9, 573 चीनी महिलाओं ने हिस्‍सा लिया जो कि चीन के कादोरी बायोबैंक में आयोजित किया गया है और इसमें भाग लेने वाले लोगों के जीवन और इतिहास में बारे में पहले पूरी जानकारी एकत्रित करके उन्‍हें इसका हिस्‍सा बनाया गया था।

इसके अलावा, मां को कई प्रकार के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ जैसे - वजन कम करना, कम कोलेस्‍ट्रॉल, ब्‍लड प्रेशर और ग्‍लूकोज़ के स्‍तर में भी संतुलन बनाये रखने में आराम मिलता है।

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के महामारी विज्ञान के प्रोफेसर झेंगिंग चेन ने कहा, "इस अध्‍ययन के निष्कर्ष को माता और बच्चे के लाभ के लिए उपयुक्‍त समझकर अधिक व्यापक स्‍तर पर स्तनपान को बढ़ावा देना चाहिए।"

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    क्‍या स्‍तनपान करता है हार्टअटैक के खतरे को कम | Does Breastfeeding Cut Heart Attack Risk

    Breastfeeding may reduce a mothers heart attack and stroke risk later in life, according to new research.
    Story first published: Saturday, July 8, 2017, 20:00 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more