For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

एक साथ होने वाली डबल प्रेग्नेंसी है सुपरफेटेशन, जानिए इसके बारे में

|

हाल ही में एक असामान्य घटना सामने आई। जब एक महिला जो पहले से ही जुड़वा बच्चों के साथ गर्भवती थी, ने कुछ दिनों के बाद अपने तीसरे गर्भ को कंसीव किया। एक अल्ट्रासाउंड किए जाने के बाद आधिकारिक तौर पर खबर की पुष्टि की गई। द डेली मेल में प्रकाशित एक रिपोर्ट में, यह उल्लेख किया गया है कि मां के पहले दो बच्चे क्रमशः 10 और 11 दिन पुराने हैं। वैज्ञानिक रूप से, ऐसी स्थिति को सुपरफेटेशन कहा जाता है। यह एक असामान्य स्थिति है, जो बेहद कम देखने में मिलती है। तो चलिए आज हम आपको बता रहे हैं कि क्या है सुपरफेटेशन और कैसे होती है यह स्थिति उत्पन्न-

क्या है सुपरफेटेशन

क्या है सुपरफेटेशन

सुपरफेटेशन एक ऐसी स्थिति है, जिसमें महिला के गर्भ में एक भ्रूण का निर्माण तब होता है जब एक अन्य भ्रूण पहले से ही गर्भाशय में मौजूद होता है। यह एक ऐसी स्थिति का वर्णन करता है जहां एक महिला गर्भवती हो जाती है जब वह पहले से ही गर्भवती है। यह माना जाता है कि यह एक बहुत ही दुर्लभ घटना है और केवल कुछ मामलों की रिपोर्ट की गई है और सत्यापित की गई है।

जानिए कारण

जानिए कारण

सुपरफेटेशन एक बेहद ही दुर्लभ स्थिति है, लेकिन कुछ कारणों से यह स्थिति उत्पन्न होती है। सुपरफेटेशन तब होता है जब एक और अंडे को शुक्राणु द्वारा फर्टिलाइज किया जाता है। यह पहले एक गर्भ के कुछ दिनों या हफ्तों में प्रत्यारोपित किया जाता है। इसके परिणामस्वरूप दूसरी गर्भावस्था होती है। गर्भधारण के लिए डिंब शुक्राणु द्वारा निषेचित होता है और सुपरफेटेशन होने के लिए, एक और पूरी तरह से अलग डिंब को निषेचित किया जाना चाहिए और फिर गर्भ में अलग से प्रत्यारोपित किया जाना चाहिए।

जुड़वां नहीं है सुपरफेटेशन

जुड़वां नहीं है सुपरफेटेशन

कुछ लोग सुपरफेटेशन और जुड़वा बच्चे होना एक ही समझते हैं, जबकि यह दोनों स्थिति अलग है। एक महिला एक बार दो या तीन बच्चों को जन्म दे सकती है, लेकिन यह सुपरफेटेशन ही हो, यह जरूरी नहीं है। जुड़वाँ गर्भाधान में एक ही चक्र में कई अंडे निकलते हैं। यह स्वाभाविक रूप से हो सकता है या प्रजनन दवाओं के साथ परिणामस्वरूप भी हो सकता है। जब एक से अधिक डिंब को निषेचित किया जाता है और गर्भाशय में प्रत्यारोपित किया जाता है, तो परिणामस्वरूप जुड़वा, तीन या उससे अधिक गर्भस्थ शिशु हो सकते हैं।

जबकि सुपरफेटेशन में महिला को वास्तव में एक साथ डबल प्रेग्नेंसी होती है। इसमें पहले डिंब को निषेचित किया जाता है और उसके कुछ दिनों बाद महिला का दूसरा डिंब निषेचित होता हैं इसमें दो भ्रूण एक साथ विकसित होते हैं, वे परिपक्वता में भिन्न होते हैं, गर्भधारण के दिन या सप्ताह अलग होते हैं। सुपरफेटेशन जानवरों की प्रजातियों जैसे मछली, हर्ज़ और बैजर्स आदि में अक्सर देखा जाता है, लेकिन मनुष्यों में यह स्थिति बेहद कम ही देखने को मिलती है।

ऐसे होती है जानकारी

ऐसे होती है जानकारी

सुपरफेटेशन की जानकारी केवल अल्ट्रासाउंड के जरिए ही जान पाना संभव है। सुपरफेटेशन का संदेह केवल तब होता है जब जुड़वा विभिन्न आकारों के होते हैं और विकास के विभिन्न चरणों में होते हैं। यह आमतौर पर अल्ट्रासाउंड पर एक रूटीन चेकअप के दौरान देखा जाता है। हालांकि, यह भेद करना मुश्किल हो सकता है कि क्या यह सुपरफेटेशन का एक सच्चा मामला है या अन्य कारकों के कारण ऐसा हो रहा है।

रिस्क को ना करें नजरअंदाज

रिस्क को ना करें नजरअंदाज

सुपरफेटेशन होने पर कई तरह के रिस्क भी होते हैं। मसलन, यदि दो भ्रूण गर्भधारण के समय के बीच काफी अंतर है तो इससे दूसरे बच्चे का समय से पहले प्रसव होने का जोखिम होता है। चूँकि 37 सप्ताह से कम उम्र में जुड़वा बच्चों का जन्म होने की संभावना अधिक होती है तो इससे दूसरे गर्भधारण के जरिए होने वाले बच्चे के लिए खतरा काफी बढ़ जाता है। हालाँकि, अधिकांश पाए गए मामलों में जो जुड़वा बच्चों एक साथ हुए हैं या फिर जिनमें 10 दिनों से लेकर तीन सप्ताह तक के बीच के समय का अंतर है, उनकी डिलीवरी सुरक्षित रूप से की गई।

English summary

Superfetation : Woman Conceives Third Baby While Being Pregnant with Twins

In an unusual incident, a woman who was already pregnant with twins conceived her third baby after a few days. This condition is called as Superfetation. Know more
Story first published: Friday, January 8, 2021, 19:00 [IST]