For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

छोटी उम्र में प्यार के चक्कर में पड़ गया है बच्चा, तो भूल से भी न करें ये काम

|

किशोरावस्था एक ऐसी स्टेज है जिसमें बच्चों के शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं। इस उम्र में वो किसी की भी ओर आसानी से आकर्षित हो जाते हैं। माता-पिता अपने बच्चों की छोटी-छोटी चीजों पर बहुत ध्यान देते हैं। पढ़ाई, लिखाई, उनके दोस्त हर किसी के बारे में उनसे बात करते हैं। लेकिन भारतिय पेरेंट्स अपने बच्चों को लेकर ज्यादा चिंतित रहते हैं। उन्हे हर वक्त इस बात का डर रहता है कि कहीं उनके बच्चे गलत रास्ते पर न चल रहे हो। भारत में आज भी छोटी उम्र में अफेयर को अच्छा नहीं माना जाता है। इसलिए पेरेंट्स अपने बच्चों को लेकर परेशान रहते हैं कि कहीं उनका बच्चा कम उम्र में प्यार के चक्कर में न पड़ जाए।

इंडियन पेरेंट्स के मन में इस तरह की बातें आने पर ही उन्हें गुस्सा आने लगता है। जिसके बाद वो अपने बच्चों को समझने की जगह उन पर अपना सारा गुस्सा निकाल देते हैं। पेरेंट्स के इस तरह के बर्ताव से बच्चे कई बार उनसे दूर हो जाते हैं। और अपने माता-पिता से अपने मन की बातें भी शेयर नहीं करते है। ऐसी स्थिति में ये बहुत जरुरी हो जाता है कि पेरेंट्स अपने बच्चों को समझें और उन्हें प्यार से इन चीजों के बारे में समझाएं। लेकिन इस स्थिति में बच्चों को कैसे हैंडल करना है कई पेरेंट्य को यहीं पता नहीं होता, ऐसे में आज हम इस लेख के जरिए आपको बताएंगे की अगर आपका बच्चा कम उम्र में किसी के प्यार में पड़ जाएं तो इस स्थिति से कैसे निपटा जा सकता है।

प्यार से बात करने की करें कोशिश

आपको कभी अपने बच्चे के अफेयर के बारे में पता चले तो उस पर गुस्सा ना करें। बल्कि कोशिश करें की बच्चे से प्यार से बात करें। अगर आप बच्चे पर गुस्सा करेंगे या उससे नाराज होंगे तो आपका रिश्ता आपके बच्चे के साथ बिगड़ सकता है। टीनेज एक ऐसी अवस्था होती है जिमें बच्चे सही गलत नहीं समझ पाते। ऐसे में ये बहुत जरुरी हो जाता है कि पेरेंट्स अपने गुस्से पर काबू करके बच्चे को प्यार से समझाएं।

बच्चों की भावनाओं की करें कद्र

टीनेज एक ऐसी उम्र होती है जिसमें बच्चों के दिमाग में हजारों सवाल घूमते रहते हैं। इस दौरान उनके दिल और दिमाग में अलग ही जंग चलती रहती है। ऐसे में जरुरी हो जाता है कि पेरेंट्स उनके इमोशन को समझें। जितना हो सकें अपने बच्चों के करीब रहने की कोशिश कीजिए। ताकि वो अपनी बातें आपसे शेयर करने से न डरें। ताकि उनके अच्छे बुरे की बात आप उन्हें आराम से समझा सकें।

बच्चे पर न लगाएं पाबंदी

कम उम्र में अपने बच्चे की अफेयर की बात सामने आने पर उन पर पाबंदी न लगाए। ऐसा करने से आप उनसे दूर हो जाएंगे। इस उम्र में आप बच्चों को इतनी छुट दे की वो अपने लड़के या लड़की किसी भी दोस्त को अपने घर बुला सकें। जितना हो सकें अपने बच्चों से फ्रेंडली होकर बात करने की कोशिश करें।

Disclaimer: The information is based on assumptions and information available on the internet and the accuracy or reliability is not guaranteed. Boldsky does not confirm any inputs or information related to the article and our only purpose is to deliver information. Boldsky does not believe in or endorse any superstitions.

English summary

What to do when your teenager falls in love in Hindi

Parents pay a lot of attention to the little things of their children. His friends talk to him about studies, writing, everything. But Indian parents are more concerned about their children. Affair at a young age is still not considered good in India. Therefore, parents are worried about their children that their child should not fall in love at an early age. But after coming to know about your child's affair, how do you have to deal with your child in this situation, today we are telling you through this article.
Desktop Bottom Promotion