स्‍पर्म काउंट बढ़ाने के लिये किसी देसी दवा से कम नहीं दूध और शहद

Subscribe to Boldsky

अगर आप स्पर्म काउंट कम होने से चिंतित है तो ये जान लें की केवल आप अकेले नही है। पिछले 40 सालों में अमेरिका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड इन सब जगह पर ही स्पर्म काउंट की 50% घटोतरी दर्ज की गई। 

अब सवाल ये उठता है कि स्पर्म की काउंट क्या होनी चाहिए,एक स्वस्थ शरीर में स्पर्म काउंट 40 से 300 लाख प्रति लीटर होनी चाहिए । 20 लाख से स्पर्म काउंट कम होने पर इसे कमजोर माना जाता है जो कि प्रजनन शक्ति में बाधाएं उत्पन्न करता है।

अगर स्पर्म काउंट 10 लाख से नीचे है तो आपको इलाज की जरुरत है। घरेलू उपायों और एक नियमित दिनचर्या से इसे सुधारा जा सकता है पर स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए दूध और शहद से अच्छा कोई नुस्खा नही है आईये जाने ये कैसे बेहतर है।

स्पर्म काउंट बढ़ाने का पुराना तरीका है

स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए दूध और शहद का नुस्खा पुराने समय से आजमाया जा रहा है। इन दोनों में भरपूर एन्टी ऑक्सीडेंट होता है जो कि आपके तनाव को दूर करता है,स्पर्म काउंट बढाता है और कमजोर प्रजनन अंगों को मजबूती देता है। दूध और शहद सेक्स लाइफ सुधारने में भी सहायक है। इन दोनों को साथ में लेने में कोई तरह का साइड इफ़ेक्ट नही है।

ये शरीर को आराम भी देता है जो आपकी दिन भर की थकान दूर कर देगा। आयुर्वेद के अनुसार शहद में वो औषधीय गुण है जो आपके प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है साथ ही साथ आपके सेक्स समय को भी ये बेहतर करता है। ये आपके वैवाहिक जीवन का आनंद और बेहतर कर देगा अगर इसे जमीनी अदरक या इलायची के साथ लिया जाये।

Boldsky

शहद स्पर्म काउंट,आकार और फुर्ती बढाएं

प्रजनन क्षमता अच्छी हो या कमजोर,दूध और शहद पारंपरिक तरीके से स्पर्म काउंट बढाने से काम मे लिया जाता रहा है। पशुओं के अध्ययन में पाया गया कि शहद पशुओं की स्पर्म काउंट उनकी गति एवं आकार बढाने में कारगर है।

शहद प्रजनन अंगों की सुरक्षा करे और टेस्टिक्यूलर डैमेज को कम करता है

शहद एक अच्छा एंटीऑक्सीडेंट है जो कि टेस्टिक्यूलर डैमेज से आपको बचाता है जो कि मुख्य कारण है स्पर्म काउंट कम होने का। ये इसमें सुधार कर आपके स्पर्म काउंट को बढाने में सहयोगी है। ये आपके मानसिक तनाव को भी कम करता है।

शहद में पाया जाने वाला जिंक स्पर्म की गुणवत्ता बढाता है

शहद में जिंक एक मुख्य तत्व है जो कि प्रजनन शक्ति को बढ़ाता है। स्पर्म में जिंक प्लाज्मा कम होने से स्पर्म काउंट में कमी, उनके आकार में कमी और कम गतिशील होंगे। जिंक प्लाज्मा की बढ़ोतरी में शहद बहुत लाभदायी है।

शहद में पाएं जाने वाला विटामिन बी टेस्टॉस्टेरॉन हार्मोन का बढाता है

शहद का सेवन विटामिन बी को बढ़ाता है।ये मुख्य विटामिन है जो टेस्टॉस्टेरॉन हार्मोन को बढ़ाता है जिसकी वजह से इरेक्शन होता है। इसमें नाइट्रिक ऑक्साइड भी होता है जो इरेक्शन डिस्फनक्शन की समस्या दूर करता है।

कम फैट वाला दूध विटामिन ए को बढाता है जो कि स्पर्म बनने को बढ़ावा देता है

दूध को शहद के साथ लेना बहुत लाभदायी है पर दूध कम वसा या कम फैट का होना चाहिए। ज्यादा फैट वाला दूध स्पर्म काउंट में गिरावट करता है। एक कप कम वसा के दूध में विटामिन ए और डी करीब 500 IU होता है।

दूध में पाया जाने वाला विटामिन बी12 स्पर्म क्वालिटी और डीएनए की सुरक्षा करता है

विटामिन बी12 स्पर्म की गुणवत्ता बढाने के साथ डीएनए नुकसान को भी कम करता है। प्रजनन अंग की सुरक्षा के साथ ये स्पर्म के ऑक्सीडेटिव नुकसान को भी कम करने में सहायक है। विटामिन बी12 सारे कम वसा वाले डेरी प्रॉडक्ट में पाया जाता है।

दूध नींद की क्वालिटी और स्पर्म संख्या बढाता है जो तनाव से प्रभावित हो

दूध में ट्रायटोफेन और एमिनो एसिड होता है जो कि नींद की क्वालिटी में सुधार कर अच्छी नींद देता है। अच्छी नींद तनाव को कम करती है जिससे शरीर आराम महसूस करता है व तनाव से होने वाले स्पर्म काउंट में कमी आती है। रात को सोने से आधा घन्टा पहले एक गिलास दूध का सेवन नियमित करना चाहिए।

अगर आप डायबिटिक है तो शहद और दूध का नुस्खा ना अपनाएं

शहद और दूध आपके शरीर में ग्लुकोज़ की मात्रा बढ़ा सकता है। इसके नियमित सेवन से आपके रक्त में शुगर की मात्रा बढ सकती है जो कि हानिकारक है। ऐसे में आप अपने स्पर्म काउंट बढाने के लिए अन्य विकल्प चुन सकते है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    English summary

    स्‍पर्म काउंट बढ़ाने के लिये किसी देसी दवा से कम नहीं दूध और शहद | Does Drinking Milk With Honey Increase Sperm Count?

    A drink of milk and honey has been touted as a means to increase sperm count for generations.
    Story first published: Thursday, March 15, 2018, 9:51 [IST]
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more