For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

कच्‍चे अंडे खाने से हो सकता है ये संक्रमण, बरसात में तो ब‍िल्‍कुल भी न खाएं

|

अंडे, प्रोटीन का सबसे बड़ा स्‍त्रोत होता है। जो लोग जिम जाते है वो लोग प्रोटीन डाइट के ल‍िए अंडों का खूब सेवन करते हैं। लेक‍िन कई लोग प्रोटीन के ल‍िए अंडे कच्‍चे तक खा लेते हैं। लेकिन आपको जानकर हैरत होगी कि ज्‍यादा प्रोटीन लेने की जगह आप बैक्‍टीरिया भी खा सकते हैं। दरअसल कच्चे अंडे में कई तरह के बैक्टीरिया हो सकते हैं इसलिए अंडों को पकाकर खाना ज्यादा अच्छा होता है।

अंडों में कुछ ऐसे पोषक तत्व भी होते हैं जिसे कच्चा रहने पर हमारा शरीर ठीक ढंग से डाइजेस्ट नहीं कर पाता है इसलिए अंडे को पकाकर ही खाना बेहतर है। कच्चे अंडे को खाने से अंडे में मौजूद कुल प्रोटीन का सिर्फ 51% हिस्सा ही हमारा शरीर अवशोषित कर पाता है जबकि पकाकर खाने पर आपके शरीर को 91% तक प्रोटीन मिलता है। इसका कारण यह है कि तापमान बढ़ने पर अंडों में मौजूद प्रोटीन का स्ट्रक्चर बदल जाता है, जिससे ये आसानी से पच जाते

उबलने के बाद भी हेल्‍दी

उबलने के बाद भी हेल्‍दी

कई लोगों को गलतफहमी है क‍ि कच्चे अंडे में ज्यादा पोषक तत्व होते हैं। और इसे कच्‍चा खाना ज्‍यादा फायदेमंद होता है। अब अगर फैक्ट की बात करें तो ऐसा कुछ होता नहीं है। क्योंकि अंडा उबलने या पकने के बाद भी उतना ही हेल्दी व पोषक तत्वों वालो होता है जितना कि वह कच्चा रहने पर रहता है।

Most Read : सफेद या भूरा कौनसे रंग का खाएं अंडा, जाने कौनसा है ज्‍यादा पौष्टिक

बिगाड़ सकता है हाजमा

बिगाड़ सकता है हाजमा

खाने की पसंद के तौर पर देखा जाए तो उबले अंडे खाने का चलन सबसे ज्यादा है। कई शोधों में यह बात सामने आ चुकी है कि किसी और तरीके से बेहतर है उबले अंडे खाना क्योंकि उबले अंडे जब आप खाते हैं तो उसके 90 प्रतिशत प्रोटीन को आप ग्रहण कर पाते हैं। इसके अलावा यह पाचन तंत्र के लिए भी अच्छा होता है। क्योंकि यह आसानी से पच भी जाता है।

बरसात में कच्‍चे अंडे खाने से बचें

बरसात में कच्‍चे अंडे खाने से बचें

अंडे को अगर आप कच्चा खाते हैं तो बैक्टीरिया के इंफेक्शन का डर रहता है। अंडे के छिलके में साल्मोनेला नामक बैक्टीरिया होता है जो कच्चा खाने पर इंफेक्शन का कारण बन सकता है। कुछ लोगों को कच्चा अंडा खाने से उल्टी, दस्त और बुखार की समस्या भी हो जाती है। बरसात के मौसम में तो कच्चे अंडे का उपयोग बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।

Most Read : अंडा सही है या खराब इन तरीकों से करें पहचान, आसान सी है ये ट्रिक्‍स

ज्‍यादा पकाना भी सही नहीं है

ज्‍यादा पकाना भी सही नहीं है

वैसे तो उबले हुए अंडे सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं मगर इन्हें ज्यादा तापमान पर नहीं पकाना चाहिए। ज्यादा तापमान में पकाने से अंडों में मौजूद प्रोटीन तो मिलता है मगर कई दूसरे पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। रिसर्च में पाया गया है कि अंडों को ज्यादा तापमान में पकाने से इसमें मौजूद विटमिन ए 17% से 20% तक कम हो जाता है। ज्यादा आंच में अंडों में मौजूद ऐंटिऑक्सिडेंट्स भी घट जाते हैं। कुल मिलाकर अंडों को ज्यादा देर तक और बहुत तेज आंच पर नहीं पकाना चाहिए।

English summary

Is Eating Raw Eggs Safe and Healthy?

the main downside to eating raw eggs is the risk of Salmonella. Salmonella bacteria are among the top 10 causes of food-related health problems and can only be killed with heat or changes in pH.
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more