जानिए एंटी-बैक्टीरियल साबुन का अधिक इस्तेमाल क्यों नहीं करना चाहिए

By Lekhaka
Subscribe to Boldsky

लंबे समय तक काम और बसों व ट्रेनों में यात्रा के बाद शरीर की गंदगी दूर करने के लिए एंटी-बैक्टीरियल साबुन से नहाना बेशक अच्छा उपाय है। लेकिन अगर आपको लगता है कि एक एंटी-बैक्टीरियल साबुन से नियमित रूप से नहाना अधिक प्रभावी हो सकता है, तो आप गलत हैं। आपको बता दें कि एक नियमित साबुन के बजाय एंटी-बैक्टीरियल साबुन का उपयोग करना एक अच्छा विचार नहीं है।

Boldsky

क्या एंटी-बैक्टीरियल साबुन प्रभावी हैं?

एंटी-बैक्टीरियल साबुन का अर्थ है कि इस तरह की साबुन में एक विशिष्ट एजेंट होता है, जो बैक्टीरिया को मारने के लिए जाना जाता है। अधिकांश मामलों में यह रासायनिक एजेंट ट्रिकलॉसन या ट्रिकलोवरबर्न नामक रासायनिक है। कई शोधकर्ताओं ने पाया कि ये रसायन एन्डोक्राइन डिसरप्टर्स के रूप में काम कर सकते हैं।

साबुन सिर्फ कीटाणुओं को मारते है

ट्राइकलसन के लंबे समय तक होने वाले जोखिम में बच्चों में एलर्जी और बुखार शामिल है। आपको यह जानने की ज़रूरत है कि सभी साबुन कीटाणुओं को मारते हैं और रोगाणुओं को मारने के लिए इन अतिरिक्त एंटीमिक्रोबियल रसायनों की आवश्यकता नहीं होती है।

Choose Soap according to Skin | नहाने का साबुन | आपके लिए बना है बस यही साबुन | Boldsky

ये भी जानिए

इसके अलावा, एंटी-बैक्टीरियल साबुन में एंटीबायोटिक रेसिस्टेंट बैक्टीरिया बनाने की क्षमता है। वास्तव में, एएमए दावा करती है कि एंटी-बैक्टीरियल साबुन और स्क्रबर के व्यापक उपयोग ने अधिक प्रतिरोधी रोगाणुओं को जन्म दिया है।

हाथों को साफ करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

एंटी-बैक्टीरियल साबुन का उपयोग करने के बजाय, आप केवल सादे साबुन और पानी के साथ अपना हाथ धो सकते हैं। आप स्वाभाविक रूप से जीवाणुरोधी एजेंट जैसे नींबू का रस का उपयोग करके कीटाणुओं को भी रोक सकते हैं, जो रोगाणुओं को नष्ट कर देता है।

60 प्रतिशत एल्कोहल होना चाहिए

कुल मिलाकर आप सुरक्षित साबुन का इस्तेमाल करें। यदि आप एक सैनिटाइजर का उपयोग कर रहे हैं, तो उसमें कम से कम 60 प्रतिशत अल्कोहल होना चाहिए और वो मॉइस्चराइज़र हों।

English summary

जानिए एंटी-बैक्टीरियल साबुन का अधिक इस्तेमाल क्यों नहीं करना चाहिए | Here’s why you should NOT use antibacterial soaps

If you think regular bathing with an anti-bacterial soap can be more effective, then you are wrong
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Boldsky sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Boldsky website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more